scriptselected top story | पत्रिका लगातार : बाहर के जालसाजों ने प्रदेश में बिछाया जाल | Patrika News

पत्रिका लगातार : बाहर के जालसाजों ने प्रदेश में बिछाया जाल

साइबर ठगी: पिछले वर्ष दर्ज 577 मामलों में ठग बाहरी राज्यों के, 374 केस में थे प्रदेश के जालसाज

सीकर

Published: October 29, 2021 11:02:15 am

आशीष जोशी
सीकर. बाहरी राज्यों के जालसाजों ने प्रदेश में ऑनलाइन ठगी का जाल फैला रखा है। ज्यादातर केस में ठगों के तार यूपी, पश्चिमी बंगाल, हरियाणा, झारखंड और दिल्ली से जुड़ते हैं। वर्ष 2020 में ऑनलाइन आर्थिक ठगी के कुल 577 मामले ऐसे थे, जिनमें जालसाल राजस्थान के बाहर के थे। इनमें महज 88 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया। केवल 25 मामलों में चालान पेश किया जा सका, 336 केस में एफआर लगा दी गई। वहीं पिछले साल 374 मामलों में आरोपी प्रदेश के निवासी थे। इसमें से 218 मामलों में पुलिस ने एफआर लगाई जबकि केवल 46 मामलों में चालान पेश किया गया। प्रदेश में साइबर फ्रॉड के मामले बढ़ते जा रहे हैं। नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) की रिपोर्ट के मुताबिक राजस्थान 9वें स्थान पर है। यूपी पहले स्थान पर है। अब साइबर ठगी के नए तरह के मामले सामने आ रहे हैं। ठगों ने कोरोनाकाल में जरूरतमंदों की सेवा के नाम पर, रिलीफ फण्ड के नाम पर कई तरीकों से ठगी की। जिस तरह से आमजन जागरूक होकर ठगी से बचने के प्रयास करता है, ये ठग नए तरीके निकालकर ठगी करने लगते हैं। जिसे लोग नहीं समझ पाते और ठगी का शिकार हो जाते हैं। अब क्यूआर कोड के जरिए ठगी करने का नया चलन सामने आया है। क्यूआर कोड से अकाउंट खाली करने की घटनाएं हैरान करने वाली है। ऑनलाइन पेमेंट करने और किसी वेबसाइट से सामान खरीदते वक्त इस तरह के फ्रॉड किए जा रहे हैं।

पत्रिका लगातार : बाहर के जालसाजों ने प्रदेश में बिछाया जाल
पत्रिका लगातार : बाहर के जालसाजों ने प्रदेश में बिछाया जाल

कैसे होती है क्यूआर कोड से ठगी
क्यूआर कोड से ठगी उन मामलों में ज्यादा हो रही है, जब किसी यूजर को पेमेंट हासिल करना होता है। जैसे किसी व्यक्ति से आपको कोई पेमेंट लेना है तो वह आपको पेमेंट भेजते समय धोखा कर सकता है। आपको पेमेंट भेजने वाला व्यक्ति सेंड की जगह रिक्वेस्ट का क्यूआर कोड भेज देता है। आपके खाते में पैसे आने की बजाए निकल जाते हैं।

ऐसे बचें इस तरह की ठगी से
इस तरह की ठगी की वारदात से बचने के लिए जरूरी है कि आप यूपीआइ एप का इस्तेमाल सावधानी से करें। आपके पास जो भी कोड आ रहा है उसके साथ के मैसेज को ध्यान से पढें़। अगर उसमें आपसे रुपए मांगे गए हैं यानि रिक्वेस्ट की गई है तो पेमेंट ना करें।

इन 2 मामलों से सबझें साइबर ठगी और सतर्क रहें

केस 1 : क्यूआर कोड स्कैन से ठगी
जयपुर के जवाहर सर्किल थाने में एक वृद्धा ने क्यूआर कोड के जरिए ठगी का मामला दर्ज कराया था। उसने बताया कि एक व्यक्ति ने फौजी बनकर कॉल किया था। पोस्टिंग जयपुर में होना बताया। इसके बाद उसने एक क्यूआर कोड भेजा। जैसे ही क्यूआर कोड स्कैन किया तो खाते से रुपए कट गए।

केस 2 : पुराने सिम से लिंक वॉलेट एप के जरिए
जयपुर ग्रामीण पुलिस ने कुछ माह पूर्व बड़ी गैंग को पकड़ा था। यह गैंग बंद हुई पुराने मोबाइल सिम के नंबरों को खोजकर उनसे लिंक वॉलेट एप के जरिए साइबर क्राइम को अंजाम देते थे। गैंग में इंजीनीयरिंग किए हुए कई युवा शामिल हैं।

155260 करें डायल
साइबर ठगी के मामलों में विशेष सतर्कता बरती जा रही है। टोल फ्री नम्बर 155260 जारी होने के बाद लोग भी जागरूक होकर तुरंत शिकायत दर्ज करवा रहे हैं। तत्काल शिकायत दर्ज करवाने से पीडि़त आर्थिक नुकसान से बच सकते हैं।
मोहेश चौधरी, अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त, जयपुर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Health Tips: रोजाना बादाम खाने के कई फायदे , जानिए इसे खाने का सही तरीकाCash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कतSchool Holidays in January 2022: साल के पहले महीने में इतने दिन बंद रहेंगे स्कूल, जानिए कितनी छुट्टियां हैं पूरे सालVideo: राजस्थान में 28 जनवरी तक शीतलहर का पहरा, तीखे होंगे सर्दी के तेवर, गिरेगा तापमानJhalawar News : ऐसा क्या हुआ कि गुस्से में प्रधानाचार्य ने चबाया व्याख्याता का पंजामां लक्ष्मी का रूप मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां, चमका देती हैं ससुराल वालों की किस्मतAaj Ka Rashifal - 24 January 2022: कुंभ राशि वालों की व्यापारिक उन्नति होगीMaruti की इस सस्ती 7-सीटर कार के दीवाने हुएं लोग, कंपनी ने बेच दी 1 लाख से ज्यादा यूनिट्स, कीमत 4.53 लाख रुपये

बड़ी खबरें

Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.