प्रदेश की सियासत में लगातार बढ़ रहा शेखावाटी का कद, चुनावों में भी मिली तवज्जो

कांग्रेस की सियासत में लगातार शेखावाटी का कद बढ़ रहा है। पहले गांवों की सरकार और अब नगर निकायों के चुनाव में पहली बार दस स्थानीय नेताओं को दूसरे जिलों में पर्यवेक्षक लगाया गया है।

By: Sachin

Published: 22 Nov 2020, 12:13 PM IST

सीकर. कांग्रेस की सियासत में लगातार शेखावाटी का कद बढ़ रहा है। पहले गांवों की सरकार और अब नगर निकायों के चुनाव में पहली बार दस स्थानीय नेताओं को दूसरे जिलों में पर्यवेक्षक लगाया गया है। कांग्रेस की कमान शिक्षा राज्य मंत्री गोविन्द सिंह डोटासरा के हाथ आने के बाद यहां के नेताओं को पहली बार सबसे ज्यादा प्रदेश में पर्यवेक्षक की जिम्मेदारी मिली है। जिला परिषद व पंचायत समिति सदस्यों के चुनाव में पहले जहां पूर्व केन्द्रीय मंत्री सुभाष महरिया को बीकानेर जिले की जिम्मेदारी दी गई। अब प्रदेश की 50 नगर निकायों में होने वाले चुनाव में भी शेखावाटी के दस नेताओं को जिम्मेदारी दी गई है। इससे पहले कृषि बिलों में विरोध के लिए कांग्रेस की ओर से चलाए गए हस्ताक्षर अभियान में भी फूलसिंह ओला सहित अन्य कांग्रेसी नेताओं को दूसरे जिलों में जिम्मेदारी मिल चुकी है। खास बात यह है कि इस बार की सूची में पायलट गुट के शेखावाटी के दो विधायकों को भी तरहीज दी गई है।

कोटा, करौली की जिम्मेदारी के सीकर को
करौली जिले की हिण्डौन नगर परिषद, करौली नगर परिषद व टोडाभीम नगर पालिका में सीकर नगर परिषद के सभापति जीवण खान को पर्यवेक्षक लगाया है। श्रीगंगानगर जिले में फतेहपुर विधायक हाकम अली को प्रभारी नियुक्त किया है। कोटा जिले में सीकर जिला कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सीए प्रहलाद झूरिया व कांग्रेस नेता राजेन्द्र पाटोदा को प्रभारी लगाया है। सवाईमाधोपुर जिले में नीमकाथाना विधायक सुरेश मोदी को प्रभारी नियुक्त किया है। जातिगत समीकरणों को देखते हुए भी इनको जिलों की जिम्मेदारी दी गई है।

चूरू व झुंझुनूं जिले के इन नेताओं को जिम्मा
पूर्व ऊर्जा मंत्री डॉ. जितेन्द्र सिंह व विधायक मुकेश भाखर को अलवर जिले के सात नगर पालिका व नगर परिषद क्षेत्रों का पर्यवेक्षक बनाया गया है। विधायक कृष्णा पूनियां को श्रीेगंगानगर जिले की जिम्मेदारी दी गई है। वहीं महिला कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष रेहाना रियाज व रामसिंह कस्बां को सिरोही जिले की जिम्मेदारी दी है।

पहले लेेंगे कार्यकर्ताओं की बैठक फिर आवेदन प्रक्रिया
50 नगर निकायों में चुनाव के लिए नामांकन प्रक्रिया भी इसी महीने होनी है। ऐसे में सभी प्रभारी आगामी एक-दो दिनों में अपने-अपने जिलों में जाकर कार्यकर्ताओं की बैठक लेंगे। इसके बाद टिकट की दौड़ में शामिल कार्यकर्ताओं से आवेदन लिए जाएंगे। स्थानीय संगठन पदाधिकारियों से चर्चा के बाद इन क्षेत्रों के टिकट तय किए जाएंगे।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned