scriptSikar soldier martyred in UNO mission | 'विश्व शांति' के लिए शेखावाटी का लाल शहीद, यूएनओ के मिशन में दिया सर्वोच्च बलिदान | Patrika News

'विश्व शांति' के लिए शेखावाटी का लाल शहीद, यूएनओ के मिशन में दिया सर्वोच्च बलिदान

शेखावाटी का एक ओर लाल 'विश्व शांति' के लिए शहीद हो गया। UNO शांति मिशन में शामिल लक्ष्मणगढ़ के बीएसएफ के जवान शिशुपाल सिंह कांगो में हिंसक प्रदर्शन में गोली लगने से शहीद हो गए।

सीकर

Published: July 28, 2022 10:42:20 am

Sikar soldier martyred in UNO mission. सीकर/लक्ष्मणगढ़. शेखावाटी का एक ओर लाल शांति के लिए शहीद हो गया। संयुक्त राष्ट्र शांति मिशन के रक्षक दल में शामिल लक्ष्मणगढ़ इलाके के बगड़िया का बास (डूडवा) गांव निवासी बीएसएफ के जवान शिशुपाल सिंह कांगो में हिंसक प्रदर्शन में गोली लगने से शहीद हो गए। वे दो महीने पहले ही गांव आए थे। इस दौरान अपने दोस्तों से लेकर परिजनों को जल्दी घर लौटकर आने का वादा करके गए थे। इस बीच उनका पदस्थापन मेघालय से कांगो में हो गया। शहीद की पार्थिव देह दो दिनों में आने की संभावना है। शहीद शिशुपाल सिंह के भाई मदन सिंह ने बताया कि वह कई दौड़ प्रतियोगिताओं में पदक जीतकर राजस्थान और सीकर जिले का मान बढ़ा चुके थे। बचपन से ही सेना में जाने का जुनून था। इसके लिए वह तैयारी में जुट गए। वर्ष 1997 में खेल कोटे में चयन हो गया। इधर, सेना के ट्वीट के बाद इलाके में सिंह की शहादत का लोगों को पता लगा।

'विश्व शांति' के लिए शेखावाटी का लाल शहीद, यूएनओ के मिशन में दिया सर्वोच्च बलिदान
'विश्व शांति' के लिए शेखावाटी का लाल शहीद, यूएनओ के मिशन में दिया सर्वोच्च बलिदान

खेल कोटे से हुए भर्ती

कांगो में शहीद हुए शिशुपाल सिंह वर्ष 1997 में खेल कोटे से बीएसएफ में भर्ती हुए थे। सिंह का पहला पदस्थापन दिल्ली में हुआ था। दो महीने पहले ही नियुक्ति कांगो में हुई थी। पूर्व खूडी भाजपा मंडल अध्यक्ष शिवबख्श पटवारी ने बताया कि गांव के लोगों से उनका काफी जुड़ाव रहा। कांगो जाने से पहले मेघालय में 97 बटालियन में पदस्थापित थे।

पत्नी शिक्षिका, बेटी कर रही डॉक्टरी

शहीद शिशुपाल सिंह की मां पारी देवी व पिता झाबरमल गांव में रहते हैं। माता-पिता ही खेती का काम संभालते है। पत्नी सरकारी शिक्षिका है वह जयपुर में है। शहीद का बेटा प्रशांत एमबीए कर रहा है, जबकि बेटी कविता एमबीबीएस की पढ़ाई कर रही है।

परिवार का सेना से जुड़ाव

शहीद शिशुपाल सिंह के पूरे परिवार का सेना से जुड़ाव है। सिंह के दो बड़े भाई मदनसिंह डिप्टी कमांडेंट के पद पर कार्यरत है। फिलहाल वह जैसलमेर में पदस्थापित है। दूसरे भाई मूलसिंह बीएसएफ में बतौर हवलदार कोलकाता में कार्यरत हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

VP Jagdeep Dhankhar: 'किसान पुत्र' जगदीप धनखड़ ने ली उपराष्ट्रपति पद की शपथ, झुंंझुनू सहित पूरे राजस्थान में जश्न का माहौलMaharashtra: महाराष्ट्र में स्टील कारोबारी पर इनकम टैक्स का छापा, करोड़ों रुपये कैश सहित बेनामी संपत्ति जब्तJammu-Kashmir: उरी जैसे हमले की बड़ी साजिश हुई फेल, Pargal आर्मी कैंप में घुस रहे 3 आतंकी ढेरममता बनर्जी को एक और झटका, अब पशु तस्करी केस में TMC नेता अनुब्रत मंडल को CBI ने किया गिरफ्तारकाले कारनामों को छिपाने के लिए 'काला जादू' जैसे अंधविश्वासी शब्दों का इस्तेमाल करें बंद, राहुल गांधी ने PM मोदी पर साधा निशानादिल्ली में मास्क पहनना फिर अनिवार्य, जानें नए नियम और पेनालिटीMaharashtra: महाराष्ट्र में मंत्रिमंडल विस्तार के बाद अब विभाग बंटवारे का इंतजार, गृह और वित्त मंत्रालय पर मंथन जारीमुख्यमंत्री अशोक गहलोत आज फिर दिल्ली पहुंचे ,उपराष्ट्रपति के शपथ ग्रहण समारोह में होंगे शामिल
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.