scriptSting Operation: ban polythene is being sold openly in rajasthan | Sting Operation: सरकार के दावों में बंद, हकीकत में गुपचुप आकर खुलेआम बिक रही ये चीज | Patrika News

Sting Operation: सरकार के दावों में बंद, हकीकत में गुपचुप आकर खुलेआम बिक रही ये चीज

सरकार की ओर से भले ही राजस्थान में पॉलीथिन पर वर्ष 2010 से प्रतिबंध हो लेकिन ये गली-गली खुलेआम बिक रही है।

सीकर

Published: February 17, 2022 04:27:24 pm

अजय शर्मा/जगदेव सिंह पंवार
सीकर. सरकार की ओर से भले ही राजस्थान में पॉलीथिन पर वर्ष 2010 से प्रतिबंध हो लेकिन ये गली-गली खुलेआम बिक रही है। प्रदेश के ज्यादातर जिलों में दिल्ली और उत्तरप्रदेश से पॉलीथिन की सप्लाई हो रही है। वर्ष 2019 में प्रदेशभर में जिम्मेदारों की ओर से 470 से अधिक कार्रवाई की गई। लेकिन कोरोना की वजह से अब कार्रवाई भी लॉकडाउन हो गई है। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण मंडल की रिपोर्ट के अनुसार प्रदेश में हर दिन 1100 टन से ज्यादा प्लास्टिक वेस्ट जनरेट हो रहा है। जबकि वर्ष 2018 में यह आंकड़ा 700 टन था। पॉलीथिन की बिक्री बंद नहीं होने से लगातार बेजुबानों की मौत भी हो रही है। इसके बाद भी जिम्मेदार पॉलीथिन बेचने वालों के खिलाफ कार्रवाई नहीं कर पा रहे हैं। हालात यह है कि जिन विभागों के पास कार्रवाई का जिम्मा है उनके आसपास भी खुलेआम पॉलीथिन की बिक्री हो रही है।

Sting Operation: सरकार के दावों में बंद, हकीकत में गुपचुप आकर खुलेआम बिक रही ये चीज
Sting Operation: सरकार के दावों में बंद, हकीकत में गुपचुप आकर खुलेआम बिक रही ये चीज


आप तो पैसे दो, दुकान पर पहुंच जाएगा माल
पत्रिका टीम शहर में तीन थोक कारोबारियों के यहां पहुंची। जब कारोबारी से पॉलीथिन मांगी तो उसने एकबारगी मना कर दिया। फिर कहा कि आपकी दुकान कहां है, आज तक देखा नहीं। फिर जब बताया कि जयपुर रोड पर नई दुकान खोली है तो बोला कि आप तो पैसे दो माल आपकी दुकान पर पहुंच जाएगा। व्यापारी ने तर्क दिया कि कभी शिकायत नहीं हो इसलिए अनजान को माल नहीं देते। रेट बढऩे के सवाल पर कहा कि मिल रही है जो कम है क्या, सरकार ने पाबंदी लगा रखी है, आपको पता नहीं है क्या...।

एक लाख रुपए का माल लो तब मिलेगी एजेंसी

संवाददाता: सीकर के दो कस्बों में पॉलीथिन की एजेंसी लेनी है।
थोक कारोबारी: एजेंसी मिल जाएगी लेकिन पहले एक लाख रुपए का माल लेना होगा।

संवाददाता: माल कहां मिलेगा...।
थोक कारोबारी: सब्जी के ट्रकों में जयपुर से माल लोड करवा देंगे, इससे कार्रवाई का डर भी नहीं रहेगा।

संवाददाता: कभी कार्रवाई हो गई तो जिम्मेदारी किसकी।
थोक कारोबारी: आपको ही लोकल लेवल पर सेटिंग करनी पड़ेगी। आप कल आकर एक लाख रुपए जमा करा दो अगले दिन ही माल की सप्लाई मिल जाएगी।

पड़ताल: सब्जी-फलों के ट्रक व स्लीपर में आ रही पॉलीथिन

पत्रिका ने पड़ताल की तो चौंकाने वाला सच भी सामने आया। पहले पॉलीथिन की ट्रांसपोर्ट के जरिए सभी शहरों तक सप्लाई होती थी। प्रतिबंध के बाद सप्लाई कंपनियों ने अलग-अलग शहरों में माल भेजने का तरीका भी बदल लिया। अब सीकर सहित ज्यादातर शहरों में पॉलीथिन फल-सब्जी के ट्रकों के अलावा स्लीपर बसों में आ रही है। ताकि माल पकड़ में नहीं आ सके।


दावा: जयपुर, कोटा और अजमेर में क्?लोथ बेग वेंडिंग मशीन
पॉलीथिन बेचने पर सख्ती के साथ सरकार की ओर से नवाचार का दावा भी किया गया है। सरकार का दावा है कि राज्य प्रदूषण नियंत्रण मंडल की ओर से प्?लास्टिक कैरी बैग्?स के स्थान पर कपडे, जूट के बने बैग बनाने वाली संस्थाओं को प्रोत्साहित किया जा रहा है। मंडल की ओर से भी जयपुर, कोटा और अजमेर में क्?लोथ बेग वेंडिंग मशीन लगाई गई है। अगले चरण में अन्य जिलों में इस तरह की मशीन लगाने की योजना है।


हकीकत : पांच साल में महज एक फैक्ट्री पकड़ी, तीन करोड़ का जुर्माना
राज्?य प्रदूषण नियंत्रण मंडल की ओर से पांच साल में पॉलीथिन बनाने वाली एक कंपनी को राजस्थान में पकड़ा गया है। टीम की ओर से जयपुर में अवैध तरीके से पॉलीथिन बनाने वाली फर्म के खिलाफ कार्रवाई की गई। विभाग की ओर से दस लाख रुपए का जुर्माना भी लगाया गया। प्रदेश में तीन साल में 265 टन प्लास्टिक कैरी बैग्स की जब्ती की गई और लगभग तीन करोड़ का जुर्माना लगाया।

एक्सपर्ट व्यू: जमीन में दबने पर भी नष्ट नहीं होती

स्वास्थ्य के साथ जमीन के लिए भी पॉलीथिन बेहद हानिकारक होती है। जिस जमीन के अंदर अधिक मात्रा में पॉलीथिन को दबाकर नष्ट किया जाता है, वहां उर्वरता भी नष्ट हो जाती है। पॉलीथिन की वजह से भू-जल स्तर गिरने के साथ पर्यावरण को भी नुकसान पहुंच रहा है। पॉलीथिन एक ऐसा वेस्ट है जिसकोनष्ट होने में सैकड़ों साल लग जाते हैं।

सुदीप गोयल, सामाजिक कार्यकर्ता, सीकर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

यहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतियूपी में घर बनवाना हुआ आसान, सस्ती हुई सीमेंट, स्टील के दाम भी धड़ामName Astrology: पिता के लिए भाग्यशाली होती हैं इन नाम की लड़कियां, कहलाती हैं 'पापा की परी'इन 4 राशियों के लड़के अपनी लाइफ पार्टनर को रखते हैं बेहद खुश, Best Husband होते हैं साबितजून में इन 4 राशि वालों के करियर को मिलेगी नई दिशा, प्रमोशन और तरक्की के जबरदस्त आसारमस्तमौला होते हैं इन 4 बर्थ डेट वाले लोग, खुलकर जीते हैं अपनी जिंदगी, धन की नहीं होती कमी1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्ससंयुक्त राष्ट्र की चेतावनी: दुनिया के पास बचा सिर्फ 70 दिन का गेहूं, भारत पर दुनिया की नजर

बड़ी खबरें

आंध्र प्रदेश में जिले का नाम बदलने पर हिंसा, मंत्री का घर जलाया, कई घायलपंजाब के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री के OSD प्रदीप कुमार भी हुए गिरफ्तार, 27 मई तक पुलिस रिमांड में विजय सिंगलारिलीज से पहले 1 जून को गृहमंत्री अमित शाह देखेंगे अक्षय कुमार की 'पृथ्वीराज', जानिए किस वजह से रखी जा रहीं स्पेशल स्क्रीनिंगGujrat कांग्रेस के वरिष्ठ नेता का विवादित बयान, बोले- मंदिर की ईंटों पर कुत्ते करते हैं पेशाबIPL 2022, Qualifier 1 RR vs GT: मिलर के तूफान में उड़ा राजस्थान, गुजरात ने पहले ही सीजन में फाइनल में बनाई जगहRajya Sabha Election 2022: राजस्थान से मुस्लिम-आदिवासी नेता को उतार सकती है कांग्रेस'तुम्हारे कदम से मेरी आँखों में आँसू आ गए', सिंगला के खिलाफ भगवंत मान के एक्शन पर बोले केजरीवालसमलैंगिकता पर बोले CM नीतीश कुमार- 'लड़का-लड़का शादी कर लेंगे तो कोई पैदा कैसे होगा'
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.