राजस्थान में गर्मी ने किसानों के बचा लिए करोड़ों रुपए, खबर पढ़कर आपको भी नहीं होगा यकीन

अधिकतम तापामन में हो रही लगातार बढ़ोतरी से भले ही आम आदमी झुलस रहा हो लेकिन भीषण गर्मी ने शेखावाटी के किसानों के करोड़ों रुपए बचा दिए हैं।

By: Vinod Chauhan

Published: 07 Jun 2018, 10:04 AM IST

पूरण सिंह शेखावत, सीकर.

अधिकतम तापामन में हो रही लगातार बढ़ोतरी से भले ही आम आदमी झुलस रहा हो लेकिन भीषण गर्मी ने शेखावाटी के किसानों के करोड़ों रुपए बचा दिए हैं। वजह, तेज धूप से खेतों की जमीन तपकर तैयार हो गई और अब बरसात होने के साथ बुवाई शुरू हो जाएगी। बुवाई के दौरान किसानों को यूरिया व कीटनाशकों के लिए रुपए खर्च नहीं करने पडेंगे। गर्मी के खेतों में खरपतवार नष्ट होने के कारण पर्यावरण के साथ-साथ आर्गेनिक खेती को भी बढ़ावा मिलेगा। कृषि विभाग का भी मानना है कि गर्मी की लम्बी अवधि के कारण मानसून की अच्छी बरसात होगी और फसलों को बुवाई के समय अच्छा तापमान मिलेगा जिसका असर उत्पादन पर पडेग़ा। गौरतलब है कि सीकर जिले में इस बार खरीफ की बुवाई का करीब पौने तीन लाख हेक्टेयर में अनुमान लगाया जा रहा है।


ऐसे समझें गणित
जमीन की ऊपरी सतह तीन-चार इंच में ही कीट पतंगे रहते हैं। गर्मी के सीजन में जुताई होने पर नीचे की सतह की मिट्टी ऊपर आ जाती है। इससे कीट पतंगे नष्ट हो जाते हैं। एक किसान बुवाई के दौरान एक बीघा में औसतन छह से सात हजार रुपए का यूरिया व उवर्रक इस्तेमाल करता है। किसानों की माने तो इस बार गर्मी की अवधि ज्यादा होने से कीटनाशक और उर्वरक की करीब 30 फीसदी बचत हो गई है। जिले में खरीफ सीजन में 17 से 21 हजार मीट्रिक टन यूरिया सहित अन्य उर्वरक इस्तेमाल होते हैं।


देशी बाजरे पर जोर
प्री-मानसून व मानसून बरसात के बीच लगभग एक माह का अन्तर रहता है। ऐसे में पशु चारे के लिए बाजरे के संकर बीज के स्थान देशी बीज ही बेहतर रहता है। हालांकि देशी बाजरे की उपज सकंर बाजरे की अपेक्षा कम लेकिन पशु चारा दोगुने से अधिक मिलता है। देशी बाजरा लगभग साढ़े तीन माह में व संकर बाजरा दो से ढाई माह में उपज देता है।


बारिश पर निगाहें
जून माह का पहला सप्ताह चल रहा और धरती को तपती देखकर किसानों ने खेतों में मिट्टी के ढेलों को समतल करना शुरू कर दिया है। इसका कारण है कि खेतों में पाटा लगाने से बरसात का पानी आसानी से भूमि में चला जाएगा।
जिले में खरीफ सीजन में औसतन 17 से 21 हजार मीट्रिक टन उर्वरक की खपत हो जाती है। इस बार गर्मी की अवधि लम्बी होने के कारण किसानों को करीब 25 से 30 फीसदी तक बचत होने का अनुमान है। - हरदेव सिंह बाजिया, कृषि अनुसंधान अधिकारी शस्य


गर्मी के सीजन में जुताई होने से किसानों की प्रति बीघा खर्च में कमी आएगी। साथ ही समय पर बरसात होने से किसान की आय भी बढ़ जाएगी। - शिशुपाल सिंह खरबास, प्रगतिशील किसान


45 दिन तक तपी है धरती
पिछले 45 दिनों में भीषण गर्मी और बरसात नहीं होने से हानिकारक वैक्टीरिया, जीवाणु और फंगस समाप्त हो गए। गर्मी की अधिक रहने के कारण सफेट लट और दीमक का प्रकोप खत्म हो गया है। इस समय मूंगफली की बुवाई सिंचित क्षेत्रों में शुरू हो गई है। किसानों की मानें तो जून के पहले पखवाड़े में मानसून पूर्व की इकसार बरसात हो जाती है तो देसी बाजरे की बुवाई भी शुरू हो जाएगी।

Vinod Chauhan
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned