VIDEO: हरियाणा के भैरू गिरोह का लीडरिया है सरगना, बड़ी वारदात की फिराक में था गिरोह

सीकर. खंडेला में कपड़े के शोरूम में रंगदारी के लिए फायरिंग करने वाली जय बाबा गैंग का मुख्य सरगना हरियाणा की भैरू गिरोह से जुड़ा राजेश उर्फ लीडरिया है।

By: Sachin

Published: 06 Oct 2021, 06:04 PM IST

सीकर. खंडेला में कपड़े के शोरूम में रंगदारी के लिए फायरिंग करने वाली जय बाबा गैंग का मुख्य सरगना हरियाणा की भैरू गिरोह से जुड़ा राजेश उर्फ लीडरिया है। यह गिरोह बड़ी वारदात की फिराक में था, लेकिन इससे पहले ही पुलिस के धक्के चढ़ गया। लीडरिया वर्तमान में हरियाणा के नांगल चौधरी से हत्या के प्रयास के मामले में फरार चल रहा है। सूत्रों के अनुसार लीडरिया भी पुलिस के हत्थे चढ़ गया। उसका पाटन इलाके में हुई लूट के मामले में हाथ होने की संभावना जताई जा रही है। वहीं इस मामले में पकड़े गए बहरोड क़स्बा निवासी मनोज गुर्जर, हरसौली निवासी सुनील उर्फ सोनु पुत्र देशराज व खैरथल निवासी मोनू उर्फ मुक्का के खिलाफ आम्र्स एक्ट के तहत आम्र्स एक्ट के तहत मामला दर्ज किया है। वहीं सीकर पुलिस खंडेला में व्यापारी की दुकान पर रंगदारी के लिए फायर करने वाले खंडेला निवासी विक्रम गुर्जर व साथी राजेश बडक व सद्दाम को सीकर लेकर आई है। सीकर पुलिस की टीम आरोपियों से पूछताछ में जुटी है। हालांकि अभी तक सीकर पुलिस ने आरोपियों की गिरफ्तारी की पुष्टि नहीं की है। हालांकि यह सामने आया है कि पकड़े गए बदमाश महाकाल, चिकू, कौशल व अन्य गैंग के लगातार संपर्क में थे और किसी बड़ी घटना को अंजाम देने की फिराक में थे।


औद्योगिक क्षेत्र से पुलिस ने बरामद किए चार हथियार
सीकर पुलिस की बहरोड़ में कार्रवाई के दौरान बदमाशों ने भागने का प्रयास किया। इस दौरान उन्होंने बहरोड़ औद्योगिक क्षेत्र के फेज दो में सागर रत्ना होटल के पास हथियार फैंक दिए। सीकर ने वहां से हथियार बरामद कर लिए।

दो जगह घरों में दे रखी थी बदमाशों को शरण
बहरोड़ में सीकर के खंडेला में कपड़ा व्यापारी को दस लाख रुपए की रंगदारी मांगने के मामले में फरार चल रहे बदमाशों को औद्योगिक क्षेत्र के पास व नैनसुख मोहल्ले में शरण दे रखी थी। थानाधिकारी प्रेमप्रकाश ने बताया कि सीकर के खंडेला में एक व्यापारी को रंगदारी मांगने के मामले में धमकी देने के तीन आरोपी बहरोड़ में छुपे हुए थे।

बहरोड़ थाने में चार घंटे चली पूछताछ
बहरोड़ पुलिस थाने पर सीकर पुलिस करीब चार घंटे तक बदमाशों से पूछताछ करती रही। इस दौरान किसी को भी पुलिस थाने में जाने नहीं दिया गया। इस दौरान थाने का गेट बंद कर दिया गया। वहीं पुलिसकर्मियों की संख्या भी एकाएक बढ़ गई। वहीं दूसरी ओर सीकर व बहरोड़ पुलिस क्षेत्र में रात भर बदमाशों को लेकर उनके अन्य साथियों को लेकर संभावित ठिकानों पर दबिश देती रही।

मनोज गुर्जर सीकर जिले में हत्या के मामले में हुआ था गिरफ्तार
बहरोड कस्बा निवासी मनोज गुर्जर पूर्व में सीकर जिले में दोहरे हत्या के मामले में गिरफ्तार हो चुका है तो वहीं वह बहरोड़ पुलिस थाने का भी हिस्ट्रीशीटर है। पुलिस ने खैरथल थाना क्षेत्र में 18 सिंतबर को हुई एक फायरिंग की घटना में शामिल खैरथल निवासी मोनू उर्फ मुक्का को भी गिरफ्तार किया है ,जो खैरथल पुलिस थाने का वांछित बदमाश है।

 

साइबर सेल की रही प्रमुख भूमिका

बहरोड़ में हुई कार्रवाई में सीकर पुलिस की साइबर सैल की प्रमुख भूमिका रही। साइबर सेल पिछले चार दिन से बहरोड़ क्षेत्र में डाले हुई थी। टीम लगातार अपराधियों की लोकेशन पर नजर रखे हुए थी। जैसे ही बहरोड़ के नैनसुख मोहल्ले में अपराधियों की लोकेशन स्थाई हुई बहरोड़ पुलिस को साथ लेकर कार्रवाई की गई।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned