69.25 फीसदी मतदान के साथ पिपराली मतदान में अव्वल, अजीतगढ़ 9 पंचायतों में सबसे फिसड्डी

राजस्थान के सीकर जिले में जिला परिषद व पंचायत समिति के तीसरे चरण के चुनाव में मंगलवार को 63.33 फीसदी मतदान हुआ।

By: Sachin

Updated: 01 Dec 2020, 08:56 PM IST

सीकर. राजस्थान के सीकर जिले में जिला परिषद व पंचायत समिति के तीसरे चरण के चुनाव में मंगलवार को 63.33 फीसदी मतदान हुआ। जिला परिषद के 19 व पंचायत समिति के 96 सदस्यों के चुनाव के लिए सबसे ज्यादा मतदान पिपराली में 69.25 प्रतिशत हुआ। जबकि दांतारामगढ़ में 64.22, पलसाना में 64.70 तथा अजीतगढ़ में 54.73 फीसदी मतदाताओं ने मताधिकारी का प्रयोग किया। इसी के साथ तीन चरणों में हुए अब तक के चुनाव में जिले की 9 पंचायत समितियों में से पिपराली पंचायत समिति ही मताधिकार के मामले में 69.25 फीसदी मतदान के साथ सबसे आगे निकल गई है। जबकि 66.30 फीसदी मतदान प्रतिशत के साथ धोद अब दूसरे और 65.91 फीसदी मतदान के साथ फतेहपुर पंचायत समिति तीसरे स्थान पर है। गठन के बाद पहला ही चुनाव देख रही अजीतगढ़ पंचायत समिति मतदान प्रतिशत में सबसे निचले पायदान पर पहुंच गई है।

यूं हुआ मतदान
जिला निर्वाचन विभाग के अनुसार पिपराली पंचायत समिति में 114080 मतदाताओं में से 79005, दांतारामगढ़ में 149120 मतदाताओं में से 95760, पलसाना पंचायत समिति में 124459 में से 80522 तथा अजीतगढ़ पंचायत समिति में 113840 मतदाताओं में से 62308 मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया है।


जिले में अब तक ये रहा मतदान प्रतिशत
पिपराली : 69.25
धोद: 66.30
फतेहपुर: 65.91
पलसाना: 64.70
दांतारामगढ़: 64.22
खंडेला: 63.08
पाटन: 60.73
नीमकाथाना: 56.20
अजीतगढ़: 54.73


लादी का बास में तीसरी बाद मतदान का बहिष्कार
अजीतगढ़ पंचायत समिति के लादी का बास गांव में आज तीसरी बार चुनाव का बहिष्कार किया गया। किसी भी मतदाना ने यहां मतदान केंद्र पहुंचकर मतदान नहीं किया। गौरतलब है कि लादी का बास पहले पाटन पंचायत समिति के अधीन गांव था। जिसे अजीतगढ़ पंचायत समिति बनने पर उसमें शामिल कर दिया। लेकिन, पंचायत समिति मुख्यालय से दूरी के हिसाब से ग्रामीण शुरू से पंचायत बदलने का विरोध कर रहे हैं। इस विरोध के चलते ही वे पिछले तीन चुनावों का बहिष्कार कर चुके हैं।


खटकड़ में दो पक्षों में विवाद
अजीतगढ़ के खटकड़ में फर्जी मतदान को लेकर दो पक्षों में विवाद हो गया। दोनों पक्षों ने एक दूसरे पर पत्थर बरसाने शुरू कर दिए। जिसमें एक गाड़ी के शीशे भी टूट गए। घटना से एकबारगी मतदान भी रुक गया। बाद में पुलिस ने मामला शांत करवाकर मतदान शुरू करवाया।

धूप के साथ बढ़ा मतदान
दो चरणों की तरह तीसरे चरण के चुनाव में भी मतदान की रफ्तार सर्दी की वजह से सुबह सुबह कम रही। मतदान केंद्रों पर काफी कम मतदाता ही मतदान करने पहुंचे। लेकिन, धूप में तेजी के साथ ही मतदाताओं के घर से बाहर निकलने पर मतदान ने रफ्तार पकड़ी। जो शाम तक 63 फीसदी तक पहुंच गया।

पांच दिसम्बर अंतिम चरण
जिला परिषद व पंचायत समिति चुनाव में अंतिम चरण का मतदान पांच दिसंबर को होगा। जिले में इस दिन श्रीमाधोपुर, लक्ष्मणगढ़ व नेछवा में मतदान होगा। इसके बाद आठ दिसंबर मतगणना के बाद चुनाव परिणाम जारी होगा।

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned