टेलीकॅाम कंपनियां के भारी भरकम डेटा की इस शहर को नहीं है जरूरत...देश के नक्शे में ढूंढ लीजिए इस अनोखी जगह को

इस कदम के बाद यहां के बाशिंदों में खासी खुशी है।

Gaurav Saxena

February, 1405:32 PM

सीकर. टेलीकॅाम कंपनियां के भारी भरकम डेटा की अब शहर को शायद ही जरूरत पड़ेगी। यहां के स्थानीय निकाय के इस कदम के बाद यहां के बाशिंदों में खासी खुशी है।
दरअसल, नगर परिषद ने इस बजट में भी शहर को पांच स्थानों पर वाईफाई जोन बनाने की घोषणा की है। शहर के नवलगढ़ बस स्टैंड, नेहरू पार्क, परशुराम पार्क, बजरंग कांटा और नगर परिषद के भवन क्षेत्र में जल्द ही वाईफाई की सुविधा शुरू कर दी जाएगी। वाईफाई का समय भी तय होगा। सभापति ने कहा कि पिछले बजट की यह घोषणा सरकारी कारणों से पूरी नहीं हो पाई थी।
शहरी सरकार के पहले बजट में सभापति जीवण खां ने फिर घोषणाओं का पिटारा खोला है। शहर में विकास के अन्य कार्यों के साथ इस वर्ष एक करोड़ तीस लाख रुपए वृक्षारोपण और जल संरक्षण पर खर्च किए जाएंगे। प्रत्येक वार्ड में दो लाख रुपए की राशि इस कार्य पर खर्च की जाएगी। जनसहभागिता से भी वार्डों में पौधरोपण किया जाएगा। इसके अलावा पिछड़े क्षेत्र की सरकारी स्कूलों को भी नगर परिषद निजी स्कूल की तर्ज पर डवलप करेगी। इससे पहले नगर परिषद का तीन अरब 25 करोड़ 70 लाख और 50 हजार का बजट सर्व सम्मति से पारित किया गया।

नंदी व बेसहारा पशुओं के चारे के लिए सेस
नंदीशाला में रह रहे पशुओं के चारे की व्यवस्था के लिए परिषद ने भूमि-भवन व अन्य आवेदनों पर सेस लगा दिया है। प्रत्येक आवेदन फार्म पर पांच रुपए सेस के अतिरिक्त देने होंगे। इसके अलावा आवासीय निर्माण स्वीकृति पर पांच सौ, व्यवसायिक पर एक हजार, आवासीय पट्टे पर दो सौ, व्यवसायिक पर पांच सौ रुपए का सेस लिया जाएगा।

पानी निकासी पर खर्च होंगे 24 करोड़
शहर की प्रमुख तीन सडक़ों पर पानी निकासी के लिए 24 करोड़ की राशि खर्च की जाएगी। इनमें नवलगढ़ रोड के लिए नौ करोड़, बजाज रोड के लिए पांच करोड़ और नानी झील के संरक्षण के लिए दस करोड़ की राशि खर्च की जाएगी।


पार्षद की अनुशंसा पर दस लाख के कार्य
सभापति जीवण खां ने पार्षदों की मांग पर उनकी अनुशंषा पर दस लाख रुपए के कार्य की मंजूरी दी। उन्होनें कहा कि दो लाख रुपए के कार्य पौधारोपण व जल संरक्षण के लिए तथा शेष आठ लाख रुपए विकास के छोटे कार्यों के लिए खर्च किए जा सकेंगे।


ऑनलाइन ऑफिस मैनेजमेंट का प्रदर्शन
बैठक में सभापति ने नगर परिषद में ऑन लाइन किए गए कार्योंं की जानकारी दी। इस नवाचार से पार्षदों को पीपीटी के माध्यम से समझाया गया। परिषद के सभी दस्तावेज अब ऑन लाइन पोर्टल पर होंगे, जिनकी प्रगति कहीं पर भी देखी जा सकेगी। मोबाइल नंबर से सभी आवेदनों की जानकारी ली जा सकेगी। उन्होंने कहा कि ऐसा करने वाला सीकर नगर परिषद प्रदेश का पहला निकाय बन गया है।


बनेंगे व्यावसायिक कॉम्पलेक्स
नगर परिषद पुराने मार्केट को व्यसायिक कॉम्पलेक्स के रूप में विकसित करेगी। आवासीय भूखंडों की निलामी की जाएगी।

Gaurav Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned