मिट्टी के दीये बनाने वाला यह सख्श करता है बड़ा काम, जाने इस खबर में

जिले के बासड़ी खुर्द पंचायत के छोटे से गांव हरजनपुरा निवासी झाबरमल कुमावत उर्फ छैला अपनी हास्य कलाओं से सरकारी अभियानों के प्रति जनता में चेतना जगा रहे हैं

सीकर. जिले के चला इलाके ग्राम पंचायत बासड़ी खुर्द के छोटे से गांव हरजनपुरा निवासी मजदूर लोगों को हंसाने के साथ जनता में चेतना जगाने का काम कर रहे हैं। झाबरमल कुमावत उर्फ छैला अपनी हास्य कलाओं से सरकारी अभियानों को धरातल पर ला रहे हैं।
अभियानों में प्लास्टिक मुक्त भारत, साक्षरता अभियान व तम्बाकू छुड़ाओ युवा बचाओ, स्वच्छता अभियान, जल एवं पर्यावरण संरक्षण, बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ और बालिका शिक्षा को बढ़ावा दे रहे हैं। वे सरकारी और गैर सरकारी स्कूलों में अभियानों की प्रति लोगों को प्रेरित कर रहे हैं।
सामाजिक समारोह सहित तहसील एवं जिला स्तर पर कई बार कुमावत सम्मानित हो चुके है। यही नहीं उन्होंने गुजरात व महाराष्ट्र में सम्मान प्राप्त किया है। भजनों के माध्यम से भी शिक्षा और धर्म की अलख जगाते हैं। झाबरमल गरीब परिवार से है तथा मिट्टी के मटके, तवे, दीये आदि बनाकर अपनी आजीविका चलाते हैं।
50 साल सेवा कार्य पर अभिनंदन
सीकर. आध्यात्म व मानव कल्याण के लिए जीवन समर्पित करने वाली प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय सीकर की तीन राजयोगिनी बहिनों में से पुष्पा बहन के सेवा कार्य के 50 साल पूरे होने पर 65 वां जन्मदिन मनाया गया तथा उनका अभिनंदन किया गया। इस मौके पर इंडियन इंटरनेशनल स्कूल के संचालक नरेश भाई ने पुष्पा बहन को देवी मुकुट पहनाकर उनका स्वागत किया। बहनों ने उनका मुंह मीठा कराया तथा नृत्य के माध्यम से आध्यात्मिकता की सीख दी। गौरतलब है कि पुष्पा बहन, राज बहन व आशा बहन ने जीवन ईश्वरीय कार्य में मानवता के कल्याण के लिए समर्पित कर दिया।

देवेंद्र शर्मा
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned