महेश हत्याकांड में दो को आजीवन कारावास

6 साल पहले कैंपर में महेश का अपहरण कर ले गए थे, पैर तोड़ कर फैंक गए

By: Suresh

Published: 18 Feb 2020, 05:45 PM IST

सीकर. कोर्ट ने 6 साल बाद मोल्यासी में शराब ठेके की रंजिश में महेश हत्याकांड को लेकर अहम फैसला सुनाया। महेश हत्याकांड में सुभाष कुमार व प्रहलादराम को दोषी मानते हुए अपर सेशन न्यायाधीश महेंद्र कुमार ढ़ाबी ने आजीवन कारावास की सजा सुनाई। महेश हत्याकांड में शामिल अन्य आरोपियों का फैसला सुनाया जाना बाकि है। लोक अभियोजक दिलावर सिंह ने बताया कि सुभाष कुमार पुत्र भगवान सिंह जाट निवासी रामपुरा, प्रहलादराम पुत्र ज्ञानाराम जाट निवासी दुगोली को आजीवन कारावास की सजा सुनाते हुए 50 हजार रुपए का जुर्माना लगाया है। उन्होंने बताया कि 18 सितम्बर 2014 को लक्ष्मणराम महला पुत्र ईश्वरलाल निवासी मोल्यासी ने सदर, सीकर में मुकदमा दर्ज कराया था कि महेश कुमार खेतीबाडी का काम करता था। दुगोली में शराब के ठेके वाले ठेकेदार उसके भाई से रंजिश रखते थे। 17 सितम्बर की शाम सात बजे महेश मोल्यासी में शराब ठेके के सामने से जा रहा था। महेश को एक सफेद कैंपर में सवाई सिंह, जगदीश, विद्याधर उर्फ विदु, प्रहलाद, सुभाष व चार-पांच अन्य युवक कैंपर में जबरदस्ती डालकर ले गए। उसकी चिल्लाने की आवाज सुनकर गांव के लोग भी आ गए। सुनसान जोहड़े में ले जाकर उसके भाई को मारा-पीटा। दोनों पैर तोड़ दिए। उसका शव भाखरो की ढाणी के पास डाल कर चले गए। रिपोर्ट मिलने के बाद पुलिस ने मामले की जांच की। इसके बाद प्रहलाद व सुभाष को गिरफ्तार कर लिया। अन्य आरोपियों को लेकर कोर्ट में मामला विचाराधीन है।
लक्ष्मणराम ने बताया कि उसकी प्रहलाद से फोन पर बात हुई। प्रहलाद ने ही उसे फोन पर अपहरण कर ले जाने की बात कहीं। बिना नंबर की कैंपर बरामद की। कैंपर के अंदर से खून लगी हुई सीट मिली। मोबाइल पर भी हत्या किए जाने की बात की पुष्टि हुई। आरोपी महेश को पकड़ कर कैंपर में ही अपहरण कर ले गए थे। बाद में उसकी लाठी डंडों से मारपीट की। पुलिस ने जांच के दौरान कोर्ट में 21 गवाहों के बयान कराए। साथ ही पोस्टमार्टम रिपोर्ट, एफएसएल रिपोर्ट सहित कुल 33 दस्तावेज पेश किए।
कॉल डिटेल व जांच में माना आरोपी
हत्याकांड की पुलिस ने जांच शुरू की। पुलिस ने नामजद आरोपियों की कॉल डिटेल खंगाली। पुलिस ने सवाई सिंह पुत्र मोटाराम जाट निवासी दुगोली, विद्याधर पुत्र बजरंग जाट निवासी दुगोली, जगदीश पुत्र जीवणराम जाट निवासी धोलपालिया, सुभाष पुत्र भगवानाराम जाट निवासी रामपुरा व गिरधारी पुत्र धन्नाराम जाट निवासी रामपुरा व प्रहलाद पुत्र ज्ञानाराम निवासी दुगालीे के विरूद्ध जांच में अपराध प्रमाणित माना।
इन पांच कारणों को माना अहम
1. हत्या में प्रयोग हुई कैंपर प्रहलाद से बरामद
2. सुभाष महला, राजकुमार व महेश के बयान महत्वपूर्ण रहे
3. अपहरण कर ले जाते हुए गवाहों ने देखा
4. खून लगे कैंपर व रस्सी मिली
5. मोबाइल लोकेशन व कॉल डिटेल से खुला राज

Suresh Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned