इस कच्ची बस्ती में रहते हैं एसपी, थानेदार, पटवारी, वकील और नेता, जानिए क्यों?

vishwanath saini

Publish: Apr, 17 2018 08:15:58 PM (IST)

Sikar, Rajasthan, India
इस कच्ची बस्ती में रहते हैं एसपी, थानेदार, पटवारी, वकील और नेता, जानिए क्यों?

राजस्थान के सीकर जिले के लक्ष्मणगढ़ रेलवे स्टेशन के पास बसने वाली इस बस्ती की खास बात यह है कि यहां ये सारे बड़े नाम वाले बच्चे रहते हैं।

जोगेन्द्र सिंह गौड़. सीकर.

देशभर में शायद ही कोई ऐसी छोटी सी बस्ती होगी। जहां थानेदार से लेकर एसपी और पटवारी से तहसीलदार के साथ वकील, मास्टर, पहलवान या नेता एक ही जगह रह रहे होंगे। लेकिन, सीकर जिले की लक्ष्मणगढ़ में एक बस्ती ऐसी भी है। जहां ये सारे लोग एक साथ मिलकर निवास कर रहे हैं।

चौंकिए मत इन सबकी उम्र भी साल से लेकर 15 साल के बीच की है। लेकिन, ये सब असल जिंदगी में केवल नाम के बड़े पद वाले हैं। जबकि वास्तविकता में इन पदों से इनका रिश्ता दूर-दूर तक कोई नहीं है।

राजस्थान के सीकर जिले के लक्ष्मणगढ़ रेलवे स्टेशन के पास बसने वाली इस बस्ती की खास बात यह है कि यहां ये सारे बड़े नाम वाले बच्चे रहते हैं। जिनके नाम इनके खुद के माता-पिता ने बड़े शौक से रखे हैं। जिनकी उपस्थिति इनके राशनकार्ड से लेकर स्कूल के रजिस्टर तक के रिकॉर्ड में दर्ज हैं।

sikar Sp news

इसके पीछे परिजन वजह यह मानकर चल रहे हैं कि इनका जीवन घुमंतु और खाना बदोश होने के कारण ये अपने बच्चों को स्थाई शिक्षा से जोड़ नहीं पाते हैं। इनके ज्यादातर बच्चे बीच में ही स्कूल छोड़ देते हैं और बगैर पढ़े-लिखे होने के कारण ये बड़े पदों तक पहुंच नहीं पाते हैं। ऐसे में इनके इस तरह के नाम रख देने से परिवार में इनका अलग ओहदा भी बना रहता है और नाम पुकारने से पद का अहसास भी महसूस किया जा सकता है।

sikar Sp news

पांच का पटवारी नौ साल का है नेता


लक्ष्मणगढ़ कस्बे की इस बस्ती में मनफूल के बेटे का नाम पटवारी है और वह पांच साल का है। इधर, जीताराम के बेटे जिसकी उम्र नौ साल की है कागजों में उसका नाम नेता होने के कारण सब उसे इसी नाम से पुकारते हैं।

इसके अलावा समंदर के अपने आठ साल के बेटे का नाम वकील रख रखा है तो ओमपाल के छह साल के बेटे को लोग थानेदार व गोकुल के 11 साल की संतान को एसपी कहकर पुकारा जा रहा है। बस्ती में सात का पहलवान, दस साल का सेठ, नौ साल का ठाकुर और 14 साल का मास्टर भी शामिल है।

sikar Sp news

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned