scriptVaccination of more than one lakh children in a day | टीकाकरण में सीकर टॉप: एक लाख से ज्यादा बच्चों का एक दिन में हुआ वैक्सीनेशन | Patrika News

टीकाकरण में सीकर टॉप: एक लाख से ज्यादा बच्चों का एक दिन में हुआ वैक्सीनेशन

सीकर. कोरोना को हराने की जंग में सीकर के बच्चों ने मंगलवार को सफलता का नया इतिहास लिख दिया। परीक्षाओं की तरह कोरोना को हराने की परीक्षा में सीकर के बच्चों ने बड़ा काम करते हुए पूरे प्रदेश के बच्चों को पीछे छोड़ दिया।

सीकर

Updated: January 05, 2022 06:45:14 pm

सीकर. कोरोना को हराने की जंग में सीकर के बच्चों ने मंगलवार को सफलता का नया इतिहास लिख दिया। परीक्षाओं की तरह कोरोना को हराने की परीक्षा में सीकर के बच्चों ने बड़ा काम करते हुए पूरे प्रदेश के बच्चों को पीछे छोड़ दिया। इसी वजह से परिणाम की तरह वैक्सीनेशन की परीक्षा में भी सीकर के बच्चों ने ऑल इंडिया रैंक एक पाई है। सीकर में एक ही दिन में एक लाख से अधिक बच्चों के वैक्सीन की डोज लगी है। प्रदेश में दूसरे जिले 60 हजार का भी आंकड़ा नहीं छू सके। लेकिन हमारे बच्चों ने चिकित्सा विभाग के शिविरों में उत्सव की तरह भागीदारी निभाई। इस लिहाज से सीकर पूरे प्रदेश में भी सबसे आगे रहा है। 30 लाख की आबादी वाले जिलों में भी सीकर देशभर में सबसे आगे रहा। 15 से 18 साल तक के बच्चों के वैक्सीेनेशन शिविरों को लेकर स्कूल, कॉलेज और कोचिंग में मंगलवार को उत्सव जैसा नजर दिखा। चिकित्सा विभाग के साथ शिक्षण संस्थाओं के संचालक और शिक्षक भी योद्धा की भूमिका में दिखे। खुद जिला कलक्टर, एडीएम व चिकित्सा विभाग की टीम दिनभर बच्चों का हौसला बढ़ाने में जुटे रहे। इससे पहले भी सीकर जिला बुजुर्ग व युवाओं के वैक्सीनेशन में एक लाख के टीकाकरण का पांच बार रेकार्ड बना चुका है। जिले में टीकाकरण के लिए 428 सेंटर बनाए गए। वेक्सीन लगाने के बाद बच्चों के चेहरे खिल उठे। बच्चों ने बताया कि पहले तो परिजनों से सुना था लेकिन अब टीका लगवाकर भय भी निकाल गया है और अब दूसरे बच्चों को अवेयर करेंगे। शहर में कई सेंटर पर देर रात तक वेक्सीनेशन का काम जारी रहा।

टीकाकरण में सीकर टॉप: एक लाख से ज्यादा बच्चों का एक दिन में हुआ वैक्सीनेशन
टीकाकरण में सीकर टॉप: एक लाख से ज्यादा बच्चों का एक दिन में हुआ वैक्सीनेशन

इसलिए शिक्षानगरी बना सकी नया कीर्तिमान, परिणाम की तरह देशभर में गूंजा सफलता का डंका


1. पीएम की घोषणा के साथ रोडमैप तैयार:
पीएम के बच्चों के वैक्सीनेशन की घोषणा करने के 12 घंटे में जिला प्रशासन ने चिकित्सा व शिक्षा विभाग से तालमेल कर रोडमैप तय कर लिया। कलक्टर ने शिक्षण संस्थाओं के संचालकों की बैठक लेकर बच्चों के आयु वर्ग के हिसाब से रेकार्ड तैयार करने की पहल की। इसमें शिक्षण संस्था संचालकों ने एक दिन में ही रेकार्ड अपडेट कर प्रशासन को सूचना दे दी।

2. बच्चों की जुटाई जानकारी, एक साथ शिविर:

बच्चों की संख्या आते ही प्रशासन ने वैक्सीनेशन शिविरों की साइट चिकित्सा विभाग के साथ प्लान कर ली। सभी शिक्षण संस्थाओं में एक साथ शिविर आयोजित करने के आदेश भी जारी कराए। इसका असर यह हुआ कि मंगलवार को स्कूलों में पहले से शिविरों की तैयारी दिखी।


3. अभिभावकों की जागरूकता:
प्रशासन, चिकित्सा और शिक्षा विभाग मंगलवार के वैक्सीनेशन की सूचना अभिभावकों तक भी देने में सफल रहा। यहां के अभिभावकों ने जागरुकता का परिचय देते हुए बच्चों को स्कूल, कॉलेज और कोचिंग में वैक्सीनेशन के लिए भेजा। जो बच्चे संस्थाओं में नहीं पहुंचे उनको भी फोन कर बुलाकर वैक्सीनेट कराया गया।

4. चिकित्सा विभाग बना योद्धा:

चिकित्सा विभाग ने तीसरी लहर की चेन को तोडऩे को लिए बच्चों के वैक्सीनेशन शिविरों को लेकर तीन दिन पहले ही पूरी तैयारी कर ली। सीएमएचओ की अगुवाई में सभी टीमों ने मजबूती से मोर्चा संभाला। युवाओं के वैक्सीनेशन से मिले अनुभवों को भी विभाग ने सकारात्मक ढंग से लेते हुए सुधार किए।


5. शिक्षण संस्थाओं में उत्सव जैसी पहल: क्योंकि यहां अर्थव्यवस्था की धुरी ही संस्थाए
मंगलवार के मेगा वैक्सीनेशन को लेकर निजी व सरकारी शिक्षण संस्थाओं में उत्सव जैसी तैयारी दिखी। सभी संस्थाओं में शत प्रतिशत अपने बच्चों को वैक्सीनेट कराने की होड दिखी। क्योंकि सीकर की अर्थव्यवस्था की मुख्य धुारी स्कूल, कॉलेज और कोचिंग ही है।

राजधानी से भी आगे हमारी शिक्षानगरी
सीकर: 100850

जयपुर प्रथम: 52060
अलवर: 49488

जोधपुर: 39840
उदयपुर: 31479


सीकर पहले भी पांच बार बना चुका है रेकार्ड

बुजुर्गो से लेकर युवाओं के वैक्सीनेशन में भी सीकर पांच बार रेकार्ड बना चुका है। सबसे पहले सीकर के बुजुर्गो ने कोरोना को हराने का जज्बा दिखाया। एक लाख का लक्ष्य एक दिन में हासिल किया गया था। इसके अलावा युवाओं के वैक्सीनेशन में भी सीकर चार बार रेकार्ड बना चुका है।

कलक्टर और एडीएम खुद फील्ड में भी उतरे, देखे इंतजाम

कोरोना वेक्सीन के लिए कल्याण स्कूल में बनाए शिविर का मंगलवार को कलक्टर अविचल चतुर्वेदी ने जायजा लिया। इस दौरान उन्होने बच्चों को महामारी को हराने के लिए जरूरी कोरोना वैक्सीन के बारे में बताया। कई स्कूलों में बच्चों को तिलक लगाकर भी टीके लगाए गए। वहीं अपर जिला कलक्टर धारासिंह मीणा ने भी कई स्कूलों में पहुंचकर बच्चों का उत्साह बढ़ाया।


प्रशासन के प्रयास और जनता की जागरूकता से बना रेकार्ड: कलक्टर

बच्चों के वैक्सीनेशन की घोषणा होते ही सीकर जिले में ग्रास रूट पर तैयारी शुरू कर दी। इसका फायदा अब मिल रहा है। प्लानिंग के तहत मंगलवार को सभी स्कूलों में शिविर आयोजित किए गए। ऐसे में सीकर जिला एक लाख का लक्ष्य हासिल कर सका है। यहां के लोगों की जागरुकता के दम पर यह मुकाम पाया है। दूसरी लहर की तरह अब फिर से जागरुकता की मिसाल पेश करनी होगी।
अविचल चतुर्वेदी, जिला कलक्टर, सीकर


सीकर की माटी में टॉपर रहने का जुनून

सीकर जिले की शिक्षण संस्थाएं भी कोरोना को हराने के लिए पूरी तरह जुटी हुई है। परिणाम से लेकर हर शैक्षणिक माहौल में सीकर की उदाहरण दिया जाता है। सीकर की माटी में टॉपर रहने का जुनून है। इसलिए वैक्सीनेशन में भी यहां की शिक्षण संस्थाओं से लेकर अभिभावकों ने मंगलवार को अच्छा उदाहरण पेश किया जिसके दम पर यह नया रेकार्ड बन सका है।
शीशराम रणवां, एक्सपर्ट, सीकर


दूसरे दिन प्रदेश में लगी चार लाख डोज, इसमें से एक लाख सीकर में

15 से 18 आयु वर्ग के टीकाकरण में दो दिन में सात लाख 71 हजार 15 बच्चों के प्रदेशभर में डोज लग चुकी है। दूसरे दिन प्रदेशभर में चार लाख डोज लगी। इनमें से एक लाख डोज अकेले सीकर जिले में लगी है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Republic Day 2022: 939 वीरों को मिलेंगे गैलेंट्री अवॉर्ड, सबसे ज्यादा मेडल जम्मू-कश्मीर पुलिस कोस्वास्थ्य मंत्री ने कोरोना हालातों पर राज्यों के साथ की बैठक, बोले- समय पर भेजें जांच और वैक्सीनेशन डाटाBudget 2022: कोरोना काल में दूसरी बार बजट पेश करेंगी निर्मला सीतारमण, जानिए तारीख और समयमुख्यमंत्री नितीश कुमार ने छोड़ा BJP का साथ, UP चुनावों में घोषित कर दिये 20 प्रत्याशीUP Assembly Elections 2022 : हेमा, जया, स्मृति और राजबब्बर रिझाएंगें मतदाताओं को, स्टार प्रचारकों की लिस्ट में हैं शामिलस्वास्थ्य मंत्री ने कोरोना हालातों पर राज्यों के साथ की बैठक, बोले- समय पर भेजें जांच और वैक्सीनेशन डाटाUttar Pradesh Assembly Elections 2022: सपा का महा गठबंधन अखिलेश के लिए बड़ी चुनौतीबजट से पहले 1 फरवरी को बुलाई गई विधायक दल की बैठक, यह है अहम कारण
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.