बड़ी लापरवाही: साधारण कचरे के साथ गली मोहल्लों से गुजर रहा कोविड सेंटर का वेस्ट, कंपनी के खिलाफ मामला दर्ज

सीकर. कोरोना महामारी को फैलने से रोकने के लिए सरकार लॉकडाउन, कफ्र्यू और सेनिटाइजेशन के दावे कर रही है लेकिन हकीकत यह है कि जिम्मेदारों की अनदेखी के कारण पिछले चार माह से सीकर के डेडीकेटेड कोविड सेंटर सांवली से संक्रमित बॉयावेस्ट लेकर जाने वाली वैन से बहते संक्रमित पानी के साथ शहर के प्रमुख मार्गों से बिना रोक टोक जा रही है।

By: Sachin

Updated: 03 Aug 2020, 06:43 PM IST

सीकर. कोरोना महामारी को फैलने से रोकने के लिए सरकार लॉकडाउन, कफ्र्यू और सेनिटाइजेशन के दावे कर रही है लेकिन हकीकत यह है कि जिम्मेदारों की अनदेखी के कारण पिछले चार माह से सीकर के डेडीकेटेड कोविड सेंटर सांवली से संक्रमित बॉयावेस्ट लेकर जाने वाली वैन से बहते संक्रमित पानी के साथ शहर के प्रमुख मार्गों से बिना रोक टोक जा रही है। रही सही कसर जिला लैब से रोजाना जाने वाले कोरोना संक्रमित बॉयावेस्ट को भी इस वैन में भरने से पूरी हो गई है। ऐसे में न केवल शहर में संक्रमण बढने का खतरा बढ़ गया है, वहीं मामले में जिम्मेदारों की चुप्पी भी गंभीर सवाल पैदा कर रही है। मामले में शेखावाटी प्राइवेट हॉस्पिटल एसोसिएशन ने आपदा अधिनियम के तहत सीकर कोतवाली में दोषी कंपनी के खिलाफ मामला दर्ज करवाया है। एसोसिएशन ने इंस्ट्रोमेडिक्स इंडिया प्राइवेट लिमिटेड को ब्लैक लिस्ट करने की मांग की है।

यूं चला पता

कोरोना का संक्रमण रोकने के लिए मुंह पर मास्क नहीं लगाने पर चालान करने वाले जिम्मेदारों ने इस घोर लापरवाही की ओर ध्यान तक नहीं दिया। जिसका नतीजा है कि पिछले चार माह से एक ही वैन के जरिए डेडीकेटेड कोविड सेंटर का संक्रमित बॉयोवेस्ट लेकर वेन जिले के निजी अस्पताल और सरकारी अस्पताल में जा रही थी। 29 जुलाई को जब यह वैन सांवली से बायोवेस्ट लेकर स्टेशन रोड स्थित निजी अस्पताल के पास पहुंची तो महज दो-तीन थैली वेस्ट के बाद वैन के कर्मचारी ने पहले से गाड़ी में कोरोना संक्रमित वेस्ट होने का हवाला देते हुए निजी हॉस्पिटल का बॉयोवेस्ट लेने से मना कर दिया। इस पर अस्पताल के मैनेजर ने विरोध किया और कंपनी के अधिकारी को सूचना दी। अधिकारी ने कर्मचारियों को वाहन वहीं छोडकर अपने पास बुला लिया। इससे वाहन दो दिन तक हॉस्पिटल के बाहर ही खड़ा रहा। कचरे से बदबू आने लगी तो शिकायत पुलिस को दी तो कंपनी के अधिकारी ने वाहन को अस्पताल के बाहर से हटा दिया लेकिन खुद नहीं आया। इसके बाद आलाधिकारियों की दखल के बाद कंपनी के खिलाफ मामला दर्ज हुआ है।

गाइडलाइन के विपरीत
आइसीएमआर की गाइड लाइन के अनुसार किसी भी कोविड सेंटर से बॉयोवेस्ट ले जाने के लिए अलग से वैन लगानी होगी। साथ ही वैन पर डेडीकेटेड कोविड वेस्ट का लेबल लगाना होगा। जिससे निस्तारण के समय कोविड वेस्ट अलग से हो और संक्रमण नहीं फैल सके।


इनका कहना है

सांवली कोविड सेंटर से संक्रमित बॉयावेस्ट लेकर आने वाली वैन शहर में बिना रोक-टोक जा रही है। जानकारी मिलने के बाद पुलिस में आपदा अधिनियम के तहत मामला दर्ज करवाया है। साथ ही कंपनी को ब्लैक लिस्ट करने की मांग की गई है।
- डा बीएल रणवा, अध्यक्ष शेखावाटी प्राइवेट हॉस्पिटल एसोसिएशन

Corona virus
Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned