शेखावाटी में पड़ रही बर्फ, जनजीवन हुआ अस्त-व्यस्त

कड़ाके की सर्दी ने लोगों को धूजा दिया। फतेहपुर कृषि अनुसंधान केन्द्र पर न्यूनतम पारे में डेढ़ डिग्री की गिरावट हुई और न्यूनतम पारा माइनस दो डिग्री

By: vishwanath saini

Updated: 04 Jan 2018, 11:16 AM IST

सीकर. शेखावाटी की हाड़ कंपकपा देने वाली सर्दी ने अपने परवान पर आ गई है। बुधवार को फतेहपुर में पारा शून्य से दो डिग्री नीचे रहा। इसके चलते खेतों में बर्फ की परते जम गई। कड़ाके की सर्दी ने लोगों को धूजा दिया। फतेहपुर कृषि अनुसंधान केन्द्र पर न्यूनतम पारे में डेढ़ डिग्री की गिरावट हुई और न्यूनतम पारा माइनस दो डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया। सुबह से उत्तरी पूर्वी नम हवाओं ने शरीर को भेद कर रख दिया। हवा में गलन बढऩे से ठिठुरन का अहसास रहा और तीखी सर्द हवाएं नश्तर सी चुभती रही।

 

हालत यह थी कि सुबह नौ बजे लोग खड़े-खड़े धूजते रहे और सर्दी से बचने के सारे उपाए बोने साबित हो गए। दिन में जरूर धूप खिलने से लोगों ने मामूली राहत ली। जिले के ग्रामीण इलाकों में बुधवार को दिन भर बादल व हल्की धुंध छाई रही। अधिकतम तापमान 22 डिग्री सेल्सियस रहा।

 


दिन में चलने लगे हीटर
मौसम विभाग के अनुसार बादलों के कारण भले ही तापमान में ज्यादा गिरावट नहीं आ रही है लेकिन रह-रह कर चलने वाली बर्फानी हवा से शीतलहर जैसी स्थिति बनने लगी है। सरकारी कार्यालयों में दिन में हीटर चलने लगे हैं। वहीं कर्मचारी बाहर धूप में बैठ कर काम निपटा रहे हैं। बाजारों सहित सडक़ों पर लोग दिन में ही अलाव तापते रहे। दिन ढलने के साथ सर्दी भी बढ़ गई। बाजार अन्य दिनों की तुलना में देरी से खुले और जल्दी बन्द हो गए।

 

 

गिरने लगी हल्की ओस
मंगलवार रात 10 बजे से हल्की ओस गिरने लगी और सुबह होते-होते सर्दी बढ़ गई। ओस गिरने से भूमि की नमी बढऩे के कारण अल सुबह छाए मामूली कोहरे के बीच सर्दी के तीखे तेवरों ने आमजन की दिनचर्या को अस्त-व्यस्त कर दिया। लोगों ने देरी से बिस्तर छोड़े। दो -तीन गर्म कपड़े पहनने के बाद भी लोगों को सर्दी से राहत नहीं मिली। नन्हें बच्चे कंपक पाते स्कूल गए। पशुपालक अपने मवेशियों को सर्दी से बचाने की जुगत में लगे रहे हैं।

Patrika
vishwanath saini Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned