ब्लैकमेलिंग से तंग महिला ने की आत्म हत्या, 20 घंटे तक नहीं उठाया शव

राजस्थान के सीकर जिले के दांतारामगढ़ तहसील के खाचरियो की ढाणी घाटवा में एक विवाहिता ने पंखे के कुंडे से फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली।

By: Sachin

Published: 15 Sep 2020, 09:21 AM IST

सीकर/खाचरियावास. राजस्थान के सीकर जिले के दांतारामगढ़ तहसील के खाचरियो की ढाणी घाटवा में एक विवाहिता ने पंखे के कुंडे से फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। पीहर पक्ष ने एक युवक पर ब्लैकमेल करने का आरोप लगा कर गिरफ्तारी की मांग की। दांतारामगढ़ पुलिस ने शव को मोर्चरी में रखवा दिया। परिजनों ने शव लेने से इंकार कर दिया। सूचना मिलने पर थानाधिकारी हिम्मत सिंह व अन्य पुलिसकर्मी मौके पर पहुंच गए। पीहर पक्ष ने आरोपी को गिरफ्तार करने के बाद ही शव लेने की बात कहीं। करीब 20 घंटे के बाद समझाइश पर परिजन शव लेने पर राजी हुए। दांतारामगढ़ थानाधिकारी हिम्मत सिंह ने बताया कि रविवार की शाम को रुलाणा गांव निवासी श्रवण कुमार की पत्नी ने अपने पीहर खाचरिया की ढाणी घाटवा में स्थित मकान में फांसी का फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। पुलिस ने शव को दांता सीएचसी की मोर्चरी में रखवाया। पीयर पक्ष की ओर से पुलिस थाने में मामला दर्ज करवाया कि मृतका पूजा उर्फ टीनू को कई दिनों से बनाथला निवासी मुरारी लाल वर्मा पुत्र लालूराम फोन पर ब्लैकमेल कर परेशान कर रहा था। जो पुलिस महकमे में ड्राइवर बताया जा रहा है। इसके बाद से वह मानसिक तनाव में थी। उसने तनाव में आकर आत्महत्या कर ली। परिजनों की सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल में रखवा दिया।

ब्लैकमेल करने का लगाया आरोप
दोनों पक्ष के परिजनों ने सीएचसी में इक_ा होकर आरोपी की गिरफ्तारी मांग की। परिजनों ने मुरालीलाल वर्मा पर कई दिनों से ब्लैकमेल करने का आरोप लगाया है। वह आईपीएस अधिकारी के ड्राइवर के पद पर कार्यरत हैं। पुलिस ने ड्राइवर से संपर्क किया तो उसका नंबर बंद मिला। वे गिरफ्तारी की मांग पर अड़े रहे। वहां पर मारोठ थानाधिकारी व दांतारामगढ़ थानाधिकारी हिम्मत सिंह भी पहुंचे। शाम को कुचामन डीएसपी मोटाराम बेनीवाल ने पहुंच कर परिजनों से समझाइश की। पुलिस अधिकारियों ने जल्द गिरफ्तार कर उचित कार्रवाई करने का आश्वासन दिया। तब परिजन शव लेने को तैयार हुए। पुलिस ने मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम करवा कर शव परिजनों को सुपुर्द कर दिया।

अपने घर में अकेले ही थी मृतका
मृतका पूजा मकान में अकेली ही थी। उस समय घर में कोई मौजूद नहीं था। शाम को उसकी मां घर पर आई तो उसने बेटी को फंदे से लटके हुए देखा। बेटी को लटका देखकर वह चिल्ला कर रोने लग गई। तब वहां पर परिजन आ गए। वह कुछ दिनों से पीहर में रह रही थी।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned