10 हजार छात्रों को नहीं मिली कर्मकार मंडल की छात्रवृत्ति

सीएम हेल्प लाइन में 50 से ज्यादा शिकायतें, राशि नहीं मिलने से नहीं हो पा रहा वितरण

By: Vedmani Dwivedi

Updated: 20 Jul 2018, 12:18 PM IST

सिंगरौली. जिले में करीब 10 हजार बच्चे ऐसे हैं जिन्हें कर्मकार मंडल के तहत मिलने वाली छात्रवृत्ति की राशि अभी तक नहीं मिल पाई है। छात्रवृत्ति के लिए छात्र स्कूल प्राचार्य को आवेदन दे चुके हैं। स्कूल प्राचार्यों ने जनपद कार्यालय में आवेदन जमा कर चुका है। इसी दौरान नियमों में बदलाव एवं उस पर प्रचार्यों द्वारा समय पर अमल नहीं किए जाने से छात्रवृत्ति मिलने में देरी हो रही है।

छात्रवृत्ति नहीं मिलने से छात्र एवं उनके परिजन परेशान है। स्कूल में छात्रवृत्ति के लिए बार - बार जाना पड़ रहा है। कुछ लोगों ने छात्रवृत्ति नहीं मिलने की सीएम हेल्पलाइन एवं कलेक्टर की जनसुनवाई में भी शिकायत किया है।

ये है प्रमुख वजह
सत्र 2016 - 17 एवं 2017 - 18 में छात्रवृत्ति का वितरण जनपद पंचातयों के माध्यम से होता रहा है। लेकिन अब नए नियम के तहत इसमें रोक लगा दी गई है। अब छात्रों की छात्रवृत्ति की राशि का आवंटन जिला प्रशासन को नहीं किया जा रहा है।

भवन एवं संनिर्माण कर्मकार मण्डल के नोडल खाते से राशि हितग्राही के खाते में जाएगी। हितग्राही को प्राचार्य की स्वीकृति आवश्यक होगी। कर्मकार मंडल के तहत छात्रवृत्ति की राशि जारी करने से पहले पिछले वर्षों की जानकारी संकुल प्राचार्यों से मांगी गई है।

लेकिन अभी तक जानकारी नहीं उपलब्ध कराई गई है। जिसकी वजह से राशि का आवंटन नहीं हो पा रहा है। यही वजह है कि छात्रवृत्ति मिलने में देरी हो रही है।

ऑनलाइन नहीं थी व्यवस्था
कर्मकार मंडल के तहत जो छात्रवृत्ति बच्चों को दी जा रही थी उससे संबंधित दस्तावेजों का संधारण नहीं हो रहा था। छात्रवृत्ति के लिए ऑनलाइन कोई व्यवस्था नहीं थी।

इसी संबंध में आठ जून को कलेक्टर अनुराग चौधरी ने प्राचार्यों को पत्र लिखा है जिसमें कहा गया है कि छात्रवृत्ति की राशि जिलेवार आवंटित न करते हुए भवन एवं संनिर्माण कर्मकार मण्डल के नोडल खाते से प्राचार्य द्वारा स्वीकृति उपरान्त हितग्राही के खाते में सीधे की जाएगी।

इसी संबंध में संकुल प्राचार्यों से पिछले वर्षों की स्वीकृत एवं वितरित छात्रवृत्ति की जानकारी का परीक्षण अवगत कराने के निर्देश दिए गए हैं।

........

कर्मकार मंडल की छात्रवृत्ति जनपद पंचायत से स्कूल को प्राप्त होती थी। लेकिन 2018 - 19 की राशि अभी तक नहीं मिली है।
एच करकेटा, प्राचार्य कन्या विद्यालय बैढऩ

कुछ नियम में बदलाव हुआ है। पोर्टल के जरिए भुगतान करना है। लेकिन अभी पोर्टल में भुगतान का ऑप्शन नहीं आ रहा है। जिसकी वजह से अभी सत्र 2018 - 19 की छात्रवृत्ति का भुगतान नहीं हो पा रहा है।
सुलाब सिंह पुशाम, सीईओ बैढ़न

Vedmani Dwivedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned