scriptAfter 10 o'clock in night, riots of alcoholics start in waidhan bus st | रात 10 बजे के बाद बस स्टैंड में शुरू हो जाता है शराबियों का उत्पात | Patrika News

रात 10 बजे के बाद बस स्टैंड में शुरू हो जाता है शराबियों का उत्पात

शराब की दुकान बन रही वजह, कलेक्टर से हटाने की मांग .....

सिंगरौली

Published: November 27, 2021 12:50:52 am

सिंगरौली. शाम ढलने के बाद बस स्टैंड व आसपास में शराबियों का अड्डा बन जाता है। इसका प्रमुख वजह अंतरराज्यीय बस स्टैंड के पीछे शराब दुकान बन रही है। शराब दुकान को अन्यत्र हटाने की मांग जिला प्रशासन से की जा रही है। बस स्टैंड के पास संचालित दुकान का नजारा शाम के वक्त में देखा जा सकता है।
After 10 o'clock in night, riots of alcoholics start in waidhan bus stand
After 10 o'clock in night, riots of alcoholics start in waidhan bus stand
बाजार में खरीदारी करने व यात्रियों को परेशानियों की दौर से गुजरना पड़ता है। क्योंकि दुकान ऐसे जगह पर संचालित हो रही है। जहां से खरीदारी करने के लिए महिलाएं भी गुजरती है। शराबियों को लेकर महिलाओं को भय बना रहता है। बताया जाता है कि शहर के बीचोबीच संचालित शराब दुकान को अन्यत्र हटाने की कवायद नहीं की जा रही है। शराबियों की ओर से अभद्र टिप्पणी राह चलते महिलाओं को सहज ही सुनने को मिल रही है।
घरेलू सामग्री की खरीदारी करने शाम के वक्त बाजार में भीड़ जुटी रहती है। उस दौरान शराब दुकान के आस-पास भी शराबियों का जमावड़ा लगा रहता है। इस गंभीर समस्या को लेकर आबकारी महकमा गंभीर नहीं है। यदि शराब दुकान को बस स्टैंड के पास से कहीं अन्यत्र हटाया जाए तो शाम के वक्त भीड़ काफी कम हो जाएगी। क्योंकि ज्यादातर शराब पीने वालों की भीड़ बस स्टैंड व आसपास में जुटी रहती है। इस स्थिति में महिलाएं व बेटियां मार्ग से होकर निकलने से भयभीत रहती हैं।
दुकान के पास में ही होती है बैठकी
शराब खरीदने के बाद इर्द-गिर्द ही शराबियों का जमावड़ा लगा रहता है। दुकान से शराब खरीदने के बाद शराबी आसपास ही बैठकर शराब का सेवन करते हैं। इसके बाद देर तक उनका जमावड़ा लगा रहता है और शराबियों के बीच विवाद भी होता है। इस गंभीर समस्या को संज्ञान में लेने की जरूरत है। क्योंकि जिस स्थान पर शराब दुकान का संचालन किया जा रहा है। वहां आसपास शराबियों की महफिल देर रात तक देखने को मिलती है। ऐसी स्थिति में दुकान को बीच शहर से अन्यत्र हटाया जाना ही उचित होगा।
स्वच्छता की उड़ा रहे धज्जियां
देखा जाए तो शहर के अन्य स्थानों की अपेक्षा शराब दुकान के आसपास कचरा व गंदगी से पटा गया है। यहां शराब की बोतलें व अन्य कचरों का अंबार लगा रहता है। एक ओर निगम के सफाई कर्मी साफ स्वच्छ करने में जुटे रहते हैं। वहीं दूसरी ओर गंदगी से दुकान के सामने की नाली पटी पड़ी रहती है। तुलना किया जाए तो यहां जितनी गंदगी पूरे शहर में कहीं नहीं होती होगी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

UP Election: चार दिन में बदल गया यूपी का चुनावी समीकरण, वर्षों बाद 'मंडल' बनाम 'कमंडल'दिल्ली में संक्रमण दर 30% के पार, बीते 24 घंटे में आए कोरोना के 24,383 नए मामलेअब एसएसबी के 'ट्रैकर डॉग्स जुटे दरिंदों की तलाश में !सूर्य ने किया मकर राशि में प्रवेश, संक्रांति का विशेष पुण्यकाल आजParliament Budget session: 31 जनवरी से शुरू होगा संसद का बजट सत्र, दो चरणों में 8 अप्रैल तक चलेगाCDS बिपिन रावत के हेलीकॉप्टर हादसे की वजह आई सामने, वायुसेना ने दी जानकारीकोविड पॉजिटिव गर्भवती महिला के पेट में कोरोना से अधिक सुरक्षित है शिशु, जानिए कैसे महामारी के दौर में सुरक्षित रखें मां और बच्चे कोबेरोजगारी के संकट से जूझ रहा मप्र, ओबीसी की स्थिति चिंताजनक
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.