बेहाल अन्नदाताः मचा हाहाकार तो हरकत में आया प्रशासन

-आवंटन और बिक्री के दस्तावेजों की होगी जांच

By: Ajay Chaturvedi

Updated: 05 Sep 2020, 04:09 PM IST

सिंगरौली. बोआई का मौसम भी अब खत्म होने को है। चारों तरफ अन्नदाता त्राहि-त्राहि कर रहे हैं। हर तरफ यूरिया का संकट है। किसान परेशान हैं। रोजाना दुकानों व समितियों का चक्कर काट-काट कर एड़ियां घिस गईं। लेकिन यूरिया मिली नहीं। किसान मोर्चा ने इसे लेकर धरना-प्रदर्शन भी किया। इसके बाद हरकत में आया प्रशासन और यूरिया की दुकानों और गोदामों पर छापेमारी शुरू की। पहले ही दिन एक गोदाम में 225 बोरी यूरिया का अवैध भंडारण मिला।

बात रामपुरबघेलान में स्टेडियम कांप्लेक्स स्थित एक गोदाम की है। तहसीलदार सविता यादव और उनकी टीम ने दबिश दी। जांच में सब कुछ घालमेल मिला। जिस गोदाम में यूरिया का भंडारण किया गया था,वह गोदाम डीलर और अर्जुन कृषि सेवा केंद्र के संचालक रामकुशल सिंह के लाइसेंस में दर्ज नहीं है। ऐसे में तहसीलदार के निर्देश पर गोदाम में रखी यूरिया दो पटवारियों धर्मेन्द्र सिंह और संतोष वर्मा की निगरानी में दुकान ले जाई गई और फिर वहीं से इसका वितरण किया गया।

पूछताछ में संचालक ने तहसीलदार को बताया कि 2 सितंबर की रात 560 बोरी यूरिया का आवंटन हुआ था। लेकिन दुकान में जगह नहीं होने के कारण यूरिया के 225 बैग गोदाम में रखवाए गए थे। संचालक ने माना कि वे इस आशय की सूचना संबंधित अधिकारियों और फर्टिलाइजर कंपनी को नहीं दे पाए। जांच के दौरान रामपुर बाघेलान के टीआई राजेन्द्र मिश्रा आरआई जेपी पांडेय और पटवारी अजय सिंह भी मौजूद रहे।

तहसीलदार सविता यादव ने स्पष्ट किया कि इस मामलें में प्रथम दृष्टया यूरिया की कालाबाजारी या जमाखोरी नहीं पाई गई है। मगर, एहतियात के तौर पर संबंधित डीलर को अब तक आवंटित यूरिया और उसकी ऑफ लाइन तथा आनलाइन बिक्री के दस्तावेजों की जांच शुरु की गई है। डीलर को रजिस्टर्ड गोदाम में ही स्टॉक रखने की चेतावनी दी गई है।

कोट
"यूरिया के अवैध भंडारण की शिकायत पर छापा मारा गया। प्रथम दृष्टया कालाबाजारी और जमाखोरी के आरोप पुष्ट नहीं हुए। दुकान की जगह अपंजीकृत गोदाम में यूरिया रखने पर संबंधित डीलर को चेतावनी देते हुए आवंटन और बिक्री के दस्तावेज जांच में लिए गए हैं।- सविता यादव, तहसीलदार रामपुर बाघेलान

Show More
Ajay Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned