सत्ता परिवर्तन के साथ खनिज को लेकर शुरू हुआ यह खेल, खदान पाने को लेकर कर रहे जोर-जुगाड़

देखने को मिल रहा भारी उठापटक....

By: Ajeet shukla

Published: 03 Jan 2019, 11:14 PM IST

सिंगरौली. सरकार बदलते ही जिले में एक ओर जहां चल रहे अवैध खनन व रेत परिवहन को लेकर जिला प्रशासन ने सख्त रूख अपना लिया है। वहीं दूसरी ओर खदानों को पाने के लिए जोर-जुगाड़ शुरू हो गया है। खनिज कार्यालय में लगी नेताओं की लाइन कुछऐसा ही बयां कर रही है।

राज्य के कैबिनेट मंत्री कमलेश्वर पटेल की बैठक के बाद प्रशासनिक अधिकारी व खनिज विभाग दोनों ही सक्रिय हो गए हैं। कलेक्टर अनुराग चौधरी ने खनिज विभाग को विशेषतौर पर निर्देश जारी कर कहा है कि कहीं से भी अवैध खनन की कोई शिकायत नहीं आनी चाहिए।

खनिज अधिकारी को निर्देशित किया गया है कि वह अभियान चलाकर खनिजों के अवैध उत्खनन, परिवहन व भंडारण पर रोक लगाएं।साथ ही लिप्त लोगों पर सख्त कार्रवाई करें। खनिज अधिकारी ने कलेक्टर के निर्देश पर अमल करते हुए चेकिंग अभियान के बावत टीम का गठन करते हुए कार्रवाईशुरू कर दी है।

ठठरा के बाद अब कोयल खूथ में कार्रवाई
खनिज विभाग ने ठठरा में चल रहे अवैध खनन के बाद माड़ा तहसील के ग्राम पंचायत कोयल खूथ में स्वीकृत रेत खदान में कार्रवाईकी है। विभाग के अधिकारियों ने जॉच के दौरान सीमा क्षेत्र से बाहर रेत का उत्खनन करते हुए पाया है। कार्रवाईकरते हुए रेत का अवैध परिवहन कर रहे तीन टै्रक्टर को जब्त किया है। गौरतलब है कि इससे पहले चितरंगी तहसील के ग्राम पंचायत ठठरा में स्वीकृत रेत खदान की में कार्रवाईकर दो जेसीबी मशीनों को जब्त किया गया है।

खनिज विभाग में लगा नेताओं का तांता
एक ओर जहां रेत के अवैध खदान पर खनिज कार्रवाईकर रहा है। वहीं दूसरी ओर प्रदेश में सत्ता परिवर्तन के बाद रेत की खदान पाने के लिए नेताओं की लाइन लग गई है। खनिज विभाग में हर रोज सत्ता पक्ष के नेता सिफारिस करने या फिर खुद खदान आवंटित कराने की फिराक में पहुंच रहे हैं। हालात के मद्देनजर यह जान पड़ रहा है कि प्रदेश में सत्ता परिवर्तन के बाद अब खदानों में ठेकेदारों का परिवर्तन भी होकर रहेगा।

Ajeet shukla Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned