सड़क पर दिखे छुट्टा पशु तो पशुपालकों की खैर नहीं, दर्ज होगी FIR

-कलेक्टर मीना ने जारी किया फरमान

By: Ajay Chaturvedi

Published: 11 Jun 2021, 07:48 PM IST

सिंगरौली. अब अगर सड़क पर छुट्टा पशु दिखाई दिए तो पशुपालकों की खैर नहीं। उनके विरुद्ध FIR दर्ज किया जाएगा। इस आशय का निर्देश कलेक्टर राजीव रंजन मीना ने जारी कर दिया है।

कलेक्ट्रेट सभागार मे आयोजित पशु क्रुरता निवारण समिति के बैठक में तय किया गया कि जिले मे संचालित पशु चिकित्सालयों में बिमार पशुओ के ईलाज के लिए समुचित व्यवस्था सुनिश्चित की जाएगी। जिला पशु चिकित्सालय में एक्स-रे मशीन सहित लैब की शीघ्र स्थापना होगी। यह जिम्मेदारी उप संचालक पशु चिकित्सा को सौंपा गयी है।

कलेक्टर ने कहा कि शहरी क्षेत्र की प्रमुख सड़को पर अधिकांश पशुओ का जमावड़ा बना रहता है जिससे आवागमन प्रभावित होता है और हमेशा दुर्घटना की संभवना बनी रहती है। इसके रोकथाम के लिए नगर निगम के दल के साथ ही राजस्व एवं स्वास्थ्य विभाग का दल संयुक्त रूप से पशुओ को छोड़ने वाले पशु स्वामियो को चिन्हित कर उनके विरूद्ध एफआइआर दर्ज कराएं। साथ ही संबंधित दल के साथ साथ पशु विभाग की टीम छुट्टा पशुओ को गौ शालाओ मे भेजने की व्यवस्था सुनिश्चित करे। उन्होने पशु चिकत्सालय के उपसंचलक को गौशालाओं का निरीक्षण कर पशुओ के रखने के स्थान और उन्हे दिए जाने वाले आहार के साथ साथ पानी की समुचित व्यवस्था की पड़ताल कर सारी व्यवस्था सुनिश्चित करने का निर्देश दिया।

उन्होंने आयुक्त नगर निगम को निर्देश दिया कि एनसीएल एवं एनटीपीसी कालोनियो मे निवास करने वाले पशु पालकों पर भी सख्त कार्रवाई की जाए। वो लोग भी अपने पशुओ को सड़कों पर छोड़ रहे हैं। इससे अमलोरी, निगाही, जयंत के मुख्य सड़को पर जाम की स्थिति बनी रहती है। संबंधित परियोजना अधिकारी को इस आशय का पत्र जारी हो कि उनकी परियोजनाओ में छुट्टा पशुओ को छोड़ने वालो के विरूद्ध कार्रवाई करें।

कलेक्टर ने पशुधन को बढावा देने को जिले मे स्थापित पशु चिकित्सालयों मे अच्छी व्यवस्था कायम रखने को उप संचालक पशु चिकित्सा को निर्देश दिए। कहा कि सभी चिकित्सलयों की ओपीडी प्रातः 9 से शायं 4 बजे तक नियमित रूप से संचालित हो। उन्होने निर्देश दिया कि कितने पशुओ का ईलाज किया गया इसकी भी जानकारी दर्ज की जाय।

कलेक्टर ने दुर्घटना ग्रस्त पशुओ को रखने की व्यवस्था सुनिश्चित कराने का निर्देश दिया भी दिया। शहरी क्षेत्र मे दुर्घटना ग्रस्त होने वाले पशुओ को चिकित्सलय तक भेजने की व्यवस्था नगर निगम करेगा। इसके लिए नगर निगम कार्यालय मे कंट्रोल रूम की स्थापना कर हेल्प लाईन नम्बर सर्वजनिक किया जाय। उन्होने बिमार पशुओ के उचित ईलाज के लिए प्रारंभिक दौर मे जिला चिकत्सालय मे एक्सरे मशीन एवं लैब स्थापित करने के निर्देश दिए। उन्होने कहा कि दुग्ध व्यावसाय को बड़ावा देने के लिए पशु पालको को दूधरू पशुओ के संबंध मे अभियान चलाकर जागरूक किया जाय। उन्होंने बिमारियो की रोकथम के लिए वर्षा पूर्व होने वाले टीकाकरण के संबंध मे जानकारी ली। इस पर उप संचालक ने बताया कि जिले मे 6 लाख पशु के टीकाकरण का कार्य 15 जून से प्ररंभ किया जाएगा, जो 3 माह मे पूर्ण होगा।

विधायक का सुझाव

बैठक मे उपस्थित सिंगरौली विधायक राम लल्लू वैश्य ने सुझाव दिया कि गौ शालाओ में निर्धारित क्षमता के अनुसार पशुओ को रखा जाय तथा इनके देख रेख के साथ ही आहार की समुचित व्यवस्था कराई जाय। उन्होंने कहा कि जिले में कितने नस्लो के पशु है इसकी जानकारी को सर्वे हो ताकि पशुओ की वास्तविक स्थित का पता चल सके। उन्होंने कहा कि वर्षा के पूर्व पशुओ मे होने वाली बिमारियो के रोकथाम को इनका टीकारण कराएं। वहीं सड़को पर एकत्रित होने वाले पशुओ को अभियान चलाकर गौशला मे भेजा जाए। उन्होने सुझाया कि छुट्टा कुत्तो को भी दूरे भेजने की व्यवस्था की जाय।

Show More
Ajay Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned