मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने कहा कि 200 रुपए में महीने भर मिलेगी बिजली

सिंगरौली में मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान : गरीबों के लिए मुख्यमंत्री जनकल्याण योजना आवेदन की अर्जी की जांच का नहीं रहेगा प्रावधान

By: Vedmani Dwivedi

Published: 24 May 2018, 08:01 PM IST

सिंगरौली. आगामी विधानसभा चुनावों का कम डाउन शुरू हो गया है। इसका प्रभाव बुधवार को सिंगरौली में मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान के भाषण में साफ नजर आया। अपने 50 मिनट के भाषण में गरीब मतदाताओं को रिझाने के लिए जहां अपनी महत्वाकांक्षी नई मुख्यमंत्री जनकल्याण योजना के एक एक बिंदू से लोगों को अवगत कराते हुए कहा कि इसमें बच्चे के कोख में आने से लेकर व्यक्ति की अंत्येष्टि तक का प्रावधान है। राज्य के मुखिया ने सिंगरौली के लिए पेयजल से सम्बन्धित कई योजनाओं की घोषणा की। साथ ही दो सिंचाई परियोजनाओं का भी ऐलान किया गया। उनके भाषण के दौरान सभा में एक व्यक्ति ने दबंगों द्वारा उसकी जमीन हथियाने की शिकायत पर पुलिस व प्रशासनिक अनदेखी का आरोप लगाते हुए अपने गमछे से जान देने की कोशिश कर हंगामा खड़ा कर दिया।

मुख्यमंत्री हैलीकॉप्टर से निर्धारित समय अपरान्ह 3.15 बजे कार्यक्रम स्थल एनसीएल ग्राउण्ड पर पहुंच गए। यहां स्वागत सत्कार के बाद प्रदेश के मुखिया ने दीप प्रज्ज्वलन तथा कन्या पूजन के साथ मुख्यमंत्री जन कल्याण (संबल) योजना अंतर्गत आयोजित असंगठित श्रमिक सम्मेलन की शुरूआत की। सांसद रीति पाठक, सिंगरौली विधायक रामलल्लू बैस व देवसर विधायक राजेन्द्र मैश्राम ने सरकारी योजनाओं की उपलब्धियां गिनाई। इसके बाद 3.55 बजे सीएम भाजयुमो कार्यक्रम के जोशीले नारों के बीच सीएम चौहान ने कहा कि आज मैं भाषण देने नहीं बल्कि आपकी जिंदगी बदलने आया हूं। हम गरीबों को आवाज देंगे। गरीबों के लिए हम मुख्यमंत्री जनकल्याण योजना लेकर आए है। इसमें जिन लोगों के पास ज्यादा पैसा है, उन पर टैक्स लगाकर समाज के वंचित लोगों को बांटने का प्रावधान किया गया है।

आवेदन दो, जांच किस बात की
उन्होंने बताया कि यह विशुद्ध गरीबों के लिए होगी। इसमें कोई जातिबंधन नहीं रहेगा। जिसके पास ढाई एकड़ तक जमीन, सरकारी कर्मचारी न हो और आयकर दाता नहीं हो, सब दायरे में लाए गए है। आवेदन पत्र की जांच का चक्कर नहीं रहेगा क्योंकि जांच के बहाने व्यक्ति घूमता ही रहेगा। अकेले सिंगरौली में ही 4 लाख लोग योजना के दायरे में आ रहे है।

 

 

CM in Singrauli
IMAGE CREDIT: patrika

जमीन से मकान निर्माण तक
योजना के तहत हर व्यक्ति को रहवास के लिए जमीन का पट्टा, पीएम आवास में मकान निर्माण, बच्चों की पहली क्लास से कॉलेज तक की पढ़ाई का शुल्क सरकार जमा कराएगी। चिकित्सा के लिए केन्द्र सरकार की आयुष्मान योजना के साथ जरुरत होने पर राज्य शासन फण्ड मुहैया कराएगा। मजदूर महिलाएं कोख में बच्चे पर छह से नौ माह के दरमियान घर पर आराम कर सकेगी। इस दौरान सरकार उसके खाते में 4 हजार रुपए ट्रांसफर करेगी। बच्चे के जन्म के बाद 12 हजार रुपए की एक और किस्त दी जाएगी। 18 से 59 वर्ष के किसी व्यक्ति की मृत्यु पर प्रभावित परिवार को दो लाख तथा दुर्घटना में मौत पर 4 लाख रुपए की सहायता का प्रावधान किया गया है। अंत्येष्टि के लिए भी 5 हजार रुपए की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी। योजना अप्रेल से लागू हो गई है। लाभार्थियों को 13 जून को जनपद मुख्यालयों पर शिविर लगाकर योजना का लाभ प्रदान किया जाएगा।

मॉनिटरिंग कमेटी की निगाहें
पात्र व्यक्ति तक फायदा पहुंचाने के लिए ग्राम पंचायत तथा स्थानीय निकाय स्तर पर 5-5 सदस्यीय कमेटी का गठन होगा। उक्त कमेटी योजना के लाभ दिलाने के लिए सतत नजर बनाए रखेगी।

ये रही सीएम की घोषणाएं
-490 करोड़ की गौड़ देवसर व 1140 करोड़ की लागत से बैढऩ समूह जल प्रदाय योजना का ऐलान।
-25 करोड़ की लागत से सिंगरौली में 200 बिस्तरों का ट्रोमा सह जिला चिकित्सालय का उन्नयन होगा।
-मुडवानी डैम पर 2.44 करोड़ रुपए से पार्क निर्माण एवं स्थल सौंदर्यीकरण। ग्राम खैडली, मझौली, छमरई, धौहनी, बिरदह आदि ग्रामों में 9.75 करोड़ रुपए की लागत से मुख्यमंत्री ग्राम नलजल योजना बनवाने की घोषणा की गई। मुख्यमंत्री ने बीछी सोन नदी पर तहसील चितरंगी अंतर्गत पुल निर्माण कराने की भी घोषणा की।

नवम्बर, दिसम्बर में चुनावों को देखते हुए मुख्यमंत्री ने बिजली बिल से त्रस्त लोगों के दिल को छुने की कोशिश की। उन्होंने कहा कि गरीब के घर चाहे, कितना ही मीटर घूमे, प्रतिमाह बिल २०० रुपए ही आएगा। एक बल्ब, पंखा व टीवी चलने पर 200 रुपए का बिल ही आएगा। नसीहत भी दी कि वे इसकी आड़ में एसी, हीटर आदि न चलाने लग जाए। स्थानीय नेतााओं की मांग पर मुख्यमंत्री ने सिंगरौली को स्मार्ट सिटी बनाने का आश्वासन देते हुए कहा कि शीघ्र ही विशेषज्ञों की टीम भेजी जाएगी। अंत में अलावा हवाई पट्टी बनाने का भी आश्वासन दिया। अंत में चौहान ने सभा में मौजूद लोगों को एकदूसरे के हाथ में हाथ थमवाकर एकता का संकल्प दिलाया। उन्होंने 20 करोड़ 20 लाख रुपए के विकास कार्यो का लोकार्पण एवं 70 करोड़ 28 लाख के कार्यों का शिलान्यास किया। करीब पांच बजे मुख्यमंत्री रीवा के लिए प्रस्थान कर गए।

जिला प्रभारी मंत्री राजेन्द्र शुक्ल, भाजपा जिलाध्यक्ष कांतदेवसिंह, जिला पंचायत अध्यक्ष अजय पाठक, सिंगरौली विकास प्राधिकरण अध्यक्ष विरेन्द्र मिश्रा, नगर निगम अध्यक्ष सीपी विश्वकर्मा, विन्ध्य विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष सुभाष सिंह, मध्यप्रदेश शहरी/ग्रामीण असंगठित कर्मकार कल्याण मण्डल के अध्यक्ष सुल्तान सिंह शेखावत, कलेक्टर सिंगरौली अनुराग चौधरी, कलेक्टर सीधी दिलीप कुमार , पुलिस अधीक्षक सिंगरौली विनीत जैन, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी प्रियंक मिश्रा, अपर कलेक्टर ऋजु बाफना, नगर निगम के आयुक्त शिवेन्द सिंह, एसडीएम विकास सिंह, राजेश शुक्ला, पूर्व जिलाध्यक्ष गिरिश द्विवेदी, प्राधिकरण उपाध्यक्ष दिलीप शाह आदि भी मंचासीन थे।

 

3564 को पट्टा वितरण
सम्मेलन में 1 लाख से अधिक श्रमिकों का परिचय पत्र वितरण किया गया। 9 सौ महिलाओं को मुख्यमंत्री जन कल्याण योजना के तहत लाभान्वित किया गया। वनाधिकार अंतर्गत 485 एवं दखल रहित वास स्थान आबादी के मद की भूमियों में 3564 हितग्राहियों को पट्टा वितरण किया गया। मुख्यमंत्री ऋण समाधान योजना अंतर्गत ग्राम मंढ़ौली के दो किसानों फुजवत प्रसाद पाण्डेय एवं मंशा राम बैस को लगभग 1 लाख 74 हजार से अधिक राशि का ब्याज माफी का प्रमाण पत्र दिया गया। मुख्यमंत्री चौहान ने जिलेंं की 101 पंचायतों को खुले में शौच मुक्त किए जाने की घोषणा की।

Vedmani Dwivedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned