बदमाशों के निशाने पर कोल कंपनियां, डीजल व कबाड़ चोरी की घटनाएं हुईं आम, जानिए कैसे देते हैं वारदात को अंजाम

बदमाशों के निशाने पर कोल कंपनियां, डीजल व कबाड़ चोरी की घटनाएं हुईं आम, जानिए कैसे देते हैं वारदात को अंजाम
Coal companies on the target of gangsters in Singrauli

Amit Pandey | Updated: 12 Jun 2019, 01:53:04 PM (IST) Singrauli, Singrauli, Madhya Pradesh, India

पुलिस की भूमिका पर सवाल.....

सिंगरौली. औद्योगिकीकरण के साथ ही जिले में आपराधिक गतिविधियां भी तेजी से बढ़ रही हैं। खासकर, कोल कंपनियों से लगे इलाके में डीजल व कबाड़ चोरी की घटनाएं आम हैं। हर दिन कोई न कोई वारदात सामने आती है, लेकिन ज्यादातर में एफआईआर तक नहीं हो पाती। मामले में स्थानीय पुलिस की भूमिका पर भी सवाल उठते रहते हैं, लेकिन आला अफसरों को कोई फर्क नहीं पड़ता। वारदातों को अंजाम देने वाले आरोपी भी कमजोर नहीं हैं। एमपी-यूपी के कई शहरों तक इनका अपना नेटवर्क है। जिसके सहारे ये रातों रात चोरी का सामान अन्य राज्यों तक पहुंचते ही हैं। राजनीतिक रसूख व संरक्षण के बल पर कार्रवाई से बचने का रास्ता भी निकाल लेते हैं।

अलग-अलग गैंग
गत दिनों सिंगरौली पुलिस ने हत्या के आरोप में यूपी के एक कबाड़ कारोबारी को पकड़ा था। उस पर स्थानीय लोगों से मिलकर कंपनियों का कबाड़ चोरी कराने का आरोप है। सूत्रों की मानें तो कोयला व डीजल चोरों के अलग-अलग गैंग हैं। जो पुलिस अधिकारी से लेकर एनसीएल में पदस्थ औद्योगिक सुरक्षाबल तक से संपर्क रखते हैं।

ऐसे होता है कोयला चोरी
एनसीएल की विभिन्न परियोजनाओं से तापीय कंपनियों के लिए कोयला वाहनों के जरिए भेजा जाता है। लेकिन कई बार ये वाहन तापीय कंपनियों की बजाय अन्य ठिकानों पर पहुंच जाते हैं। इसमें कोल कारोबारी व स्थानीय सुरक्षा अमले की सेटिंग भी होती है। रातभर में ऐसे कई ट्रेलर वाहनों से कोयला चोरी किया जा रहा है। इस अवैध कारोबार को अंजाम देने में स्थानीय पुलिस रात में सहयोग करती है।

खदानों से बेरोकटोक निकल रही खेप
पुलिस सूत्रों की मानें तो निगाही, दुधिचुआ, जयंत और झिंगुरदाह परियोजना से इस समय भी डीजल व कबाड़ चोरी की घटनाएं हो रही हैं। बदमाश हर महीने एनसीएल को लाखों रुपए का नुकसान पहुंचाते हैं। सुरक्षाकर्मियों की भूमिका भी संदेह के दायरे में है।

पगडंडी से बॉर्डर पार
एनसीएल की अमलोरी, निगाही, झिंगुरदाह, दुद्धीचुआ, खडिय़ा और जयंत परियोजना में भी बदमाशों का संगठित गिरोह सक्रिय हैं, जो चोरी का माल मुख्य सड़कों की बजाय पगडंडी के रास्ते बार्डर पार करा देता है।

अंकुश लगाया जाएगा
एनसीएल परियोजनाओं से हो रही चोरियों की गतिविधियों पर अंकुश लगाया जाएगा। इसके लिए संबंधित थाना प्रभारियों को सख्त निर्देश दिए गए हैं। अवैध गतिविधियों के खिलाफ अभियान चलाकर कार्रवाई की जाएगी।
अभिजीत रंजन, एसपी सिंगरौली

 

 

 

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned