scriptcondition of mp singrauli district hospital | कोविड की आपदा में करोड़ों की खरीदी,कबाड़ में तब्दील हो रहे उपकरण, जानिए क्या बन रही वजह | Patrika News

कोविड की आपदा में करोड़ों की खरीदी,कबाड़ में तब्दील हो रहे उपकरण, जानिए क्या बन रही वजह

संसाधनों के अभाव में जूझ रहे मरीज, बेड सहित अन्य संसाधन ताले में कैद....

सिंगरौली

Published: June 13, 2022 10:25:26 pm

सिंगरौली. कोरोना के आपदा में मरीजों को सुविधाएं मुहैया कराने के लिए खरीदे गए करोड़ों के उपकरण कबाड़ में तब्दील हो गए हैं। बेड सहित अन्य संसाधन ताले में कैद हैं, इधर संसाधानों के अभाव में मरीज जूझ रहे हैं। जिला अस्पताल ट्रामा सेंटर में मरीजों को बेहतर उपचार मुहैया हो। इसके लिए कोरोनाकाल में भारी मात्रा में संसाधनों की खरीदी हुई है। अब यह उपकरण केवल दिखावे तक सीमित है। कोई उपयोग में नहीं है। संसाधनों की खरीदी में स्वास्थ्य अधिकारियों की ओर से गड़बड़ी किए जाने की संभावना जताई गई है। आईसीयू व एचडीयू में रखे गए बेड जंग खा रहे हैं। वहीं अन्य उपकरण भी खराब हो रहे हैं। उस दौरान जिले के आला अधिकारियों की सहमति से स्वास्थ्य अधिकारी ने कुछ संसाधनों की खरीदी की थी। अब तो ज्यादातर उपकरण वार्डों में दिखाई नहीं दे रहा है। वहीं जो मौजूद है वह कबाड़ होते जा रहे हैं।

एक ही अधिकारी को थी सीएस व सीएमओ की जिम्मेदारी
वह दौर जब कोरोना पूरा पीक पर था। उस समय सिविल सर्जन व सीएमएचओ की जिम्मेदारी एक ही स्वास्थ्य अधिकारी को थी। जिला अस्पताल में संसाधनों की कमी थी। कोविड के दौरान ज्यादातर उपकरणों की खरीदी जिले के आला अधिकारियों की सहमति से स्वास्थ्य अधिकारी ने यहीं से की है। इस खरीदी में गोलमाल किए जाने की संभावना जताई जा रही है। उपकरण कहां कितने और कैसे खरीदे गए हैं। इसका जवाब स्वास्थ्य अधिकारी से लेकर स्टोर प्रभारी सहित एकाउंटेंट तक नहीं दे पा रहे हैं।

उपकरणों के खरीदी में घपलेबाजी...!
संसाधनों का खरीदी में पहले से ही सुर्खियों में रहा जिला अस्पताल में अब भी कुछ पहले सरीके हालात सामने आ रहे हैं। अस्पताल सूत्रों के मुताबिक उपकरणों की खरीदी व टेंडर घपलेबाजी की बूं सामने आ रही है। दावा है कि इसकी बारीकी से जांच कराई जाए तो कोविड के दौरान सिविल सर्जन व सीएमएचओ का प्रभार संभाल रहे स्वास्थ्य अधिकारी के कारनामों का पर्दाफाश होता चला आएगा। फिलहाल तो इस पूरे मामले में स्वास्थ्य अधिकारी व स्टोर प्रभारी पर्दा डाल रहे हैं।

यह भी जानें:-
- सीएमएचो व सीएस कार्यालय के अलग-अलग स्टोर प्रभारी हैं।
- उपकरण कुछ सीएमओ और कुछ सीएस कार्यालय में आए थे।
- कोविड के दौर में ग्लब्स व मास्क भी उपलब्ध कराया गया था।
- दोनों कार्यालयों में सैकड़ों की संख्या में ऑक्सीमीटर उपलब्ध कराई गई।

उपकरणों की हकीकत:
मॉनीटर - 70
ऑक्सीजन कंस्ट्रेटर - 150
ऑक्सीजन सिलेंडर - 150
वेंटिलेटर - 05 रीवा से आए थे।
ट्रांंसपोर्ट वेंटिलेटर - 06
बेड - 70 आईसीयू और एचडीयू व पीआईसीयू

सब की अलग-अलग दलील
स्टोर प्रभारी व एकाउंटेंट से लेेकर स्वास्थ्य अधिकारी सब की अलग-अलग दलील है। कोई उपकरण भोपाल से आरजेडी रीवा के बाद सीएमओ कार्यालय आनेे का हवाला दे रहा है तो कुछ यहीं से उपकरण की खरीदी होना बता रहे हैं। मगर जिम्मेदारी संभाल रहे इन सबों ने हकीकत बताने से परहेज कर रहे हैं क्योंकि गड़बड़ी उजागर होने का डर सता रहा है।

प्रशासन ने भी नहीं फरमाया गौर
जिला अस्पताल में उपकरणों में हुई खरीदी के मामले में पूछ परख करने की जरूरत प्रशासन ने भी नहीं समझी है। यदि उस दौरान सिविल सर्जन व सीएमएचओ से इसकी जानकारी ली गई होती तो घपलेबाजी की संभावना नहीं होती। सीएमएचओ कार्यालय के सूत्र बता रहे हैं कि उपकरणों के खरीदी में जमकर भ्रष्टाचार किया गया है। इसमें कई स्वास्थ्य अधिकारी सहित कई कर्मियों की भूमिका बताई जा रही है।
----------------
condition of mp singrauli district hospital
condition of mp singrauli district hospital

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

PM Modi In Telangana: 6 महीने में तीसरी बार तेलंगाना के CM केसीआर ने एयरपोर्ट पर PM मोदी को नहीं किया रिसीवMaharashtra Politics: संजय राउत का बड़ा दावा, कहा-मुझे भी गुवाहाटी जाने का प्रस्ताव मिला था; बताया क्यों नहीं गएक्या कैप्टन अमरिंदर सिंह बीजेपी में होने वाले हैं शामिल?कानपुर में भी उदयपुर घटना जैसी धमकी, केंद्रीय मंत्री और साक्षी महाराज समेत इन साध्वी नेताओं पर निशानाउदयपुर हत्याकांड के दरिदों को लेकर आई चौंकाने वाली खबरSingle Use Plastic: तिरुपति मंदिर में भुट्टे से बनी थैली में बंट रहा प्रसाद, बाजार में मिलेंगे प्लास्टिक के विकल्पपाकिस्तान में चुनावी पोस्टर में दिख रहीं सिद्धू मूसेवाला की तस्वीरें, जानिए क्या है पूरा मामला500 रुपए के नोट पर RBI ने बैंकों को दिए ये अहम निर्देश, जानिए क्या होता है फिट और अनफिट नोट
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.