किश्त लेने के बाद भी आवास का निर्माण नहीं कर रहे हितग्राही

अधिकारियों की उदासीनता का नतीजा ....

By: Ajeet shukla

Published: 03 Jul 2021, 11:58 PM IST

सिंगरौली. ग्रामीण अंचल में सबके पास पक्का मकान हो। इस कोशिश में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत वित्तीय वर्ष 2020-21 में 24602 हितग्राहियों को आवास मुहैया कराने का लक्ष्य निर्धारित किया गया था, लेकिन वित्तीय वर्ष बीत जाने के बावजूद लक्ष्य की तुलना में कार्य की प्रगति काफी खराब है। खासतौर पर देवसर व वैढऩ जनपद पंचायत में योजना को लेकर नहीं के बराबर कार्य हुआ है।

कलेक्टर की समीक्षा में जिम्मेदारों की लापरवाही सामने आई है। यही वजह है कि सीइओ जिला पंचायत ने दो दर्जन से अधिक लोकसेवकों को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। आवास योजना के तहत हुए कार्य की वर्तमान रिपोर्ट पर गौर किया जाए तो निर्धारित लक्ष्य के सापेक्ष अभी केवल 1483 हितग्राहियों का पंजीयन किया जा सका है। जबकि जियो टैगिंग केवल 993 की हुई है।

यह हाल तब है जबकि निर्धारित लक्ष्य 24602 आवास के सापेक्ष 24557 आवास निर्माण की स्वीकृति मिल गई है। इनमें से 18624 आवासों के लिए पहली किश्त, 4572 के लिए दूसरी और 791 के लिए तीसरी किश्त भी दे दी गई है। इतना ही नहीं मजदूरी के रूप में दिए जाने वाली चौथी किश्त भी 111 आवासों के लिए उपलब्ध कराई जा चुकी है। इन सबके बावजूद अभी तक केवल 158 आवासों का निर्माण पूरा हो पाया है। जिसमें अकेले चितरंगी जनपद पंचायत क्षेत्र के 147 आवास शामिल हैं। पिछले वित्तीय वर्ष में मिले लक्ष्य के सापेक्ष देवसर में 5 और वैढऩ जनपद पंचायत क्षेत्र में केवल 6 आवास तैयार हो पाए हैं।

वित्तीय वर्ष 2019-20 के आवास भी अभी अधूरे
आवास योजना की कार्य प्रगति संतोषजनक नहीं है। प्राप्त रिपोर्ट के मुताबिक वित्तीय वर्ष 2019-2020 में स्वीकृत आवास भी अभी पूरे नहीं हो पाए हैं। 35523 आवास के सापेक्ष केवल 30582 आवास ही बनाए जा सके हैं। चितरंगी जनपद पंचायत क्षेत्र में 14750 आवासों में से केवल 12720 आवास ही बनाए जा सके हैं। जबकि देवसर जनपद पंचायत में 12717 आवासों में से 11191 आवास और वैढऩ जनपद पंचायत 8056 आवासों में से 6671 आवास बना पाना संभव हुआ है।

वित्तीय वर्ष 2020-21 की स्थिति
जनपद- स्वीकृत- तैयार
चितरंगी- 11142- 47
देवसर- 8944- 5
वैढऩ- 4471- 6

Ajeet shukla Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned