प्रवासियों के आने का सिलसिला जारी, बढ़ रही प्रशासन की धड़कन

अब तक मिले संक्रमित मरीजों में ज्यादातर बाहरी .....

By: Ajeet shukla

Updated: 20 Jul 2020, 10:34 PM IST

सिंगरौली. कोरोना संक्रमण के बचाव को लेकर लॉकडाउन की शुरुआत हुए पूरे चार महीने बीतने को हैं, लेकिन अभी भी प्रवासियों के लौटने का सिलसिला जारी है। दूसरे राज्यों व जिलों से आने वालों की संख्या हर रोज तकरीबन १०० से अधिक ही रहती है। यही जिला प्रशासन की चिंता का वजह बना हुआ है।

जिले में अब तक मिले कोरोना संक्रमित मरीजों में ज्यादातर संख्या प्रवासियों की है। बाहर से संक्रमित होने के बाद यहां पहुंचे हैं। प्रशासन के चिंता का मूल वजह यही है। क्योंकि प्रवासियों के आने के साथ ही कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में बढ़ोत्तरी जारी है।

अब तक मिले 50 संक्रमित मरीजों में ज्यादातर ऐसे लोग शामिल हैं, जो बाहर से संक्रमित होकर आए हैं। प्रशासन व स्वास्थ अमले के लिए यह राहत भरी बात है कि अभी तक संक्रमित होकर आए प्रवासियों से संक्रमण की चपेट में आने वाला कोई नहीं है।

चेक पोस्ट पर केंद्रित है पूरा ध्यान
कोरोना संक्रमित मरीजों में ज्यादातर की संख्या बाहर से आने वालों की है। यही वजह है कि प्रशासन का पूरा ध्यान चेकपोस्ट पर ही केंद्रित है। चेकपोस्ट पर तैनात अधिकारियों को सख्त निर्देश है कि कोई भी व्यक्ति बिना स्वास्थ्य परीक्षण के जिले की सीमा में प्रवेश नहीं कर पाए।

होम क्वारंटीन पर भी है पूरा जोर
प्रशासन की ओर से बाहर से आने वालों को होम क्वारंटीन किए जाने पर पूरा जोर है। निर्देश है कि बाहर से आने वाला जो भी व्यक्ति होम क्वारंटीन के नियमों का उल्लंघन करता है, उनके खिलाफ एफआइआर दर्ज कराई जाए। चोरी छिपे आने वालों पर भी नजर रखने को कहा गया है।

अब तक आए कुल 46 हजार प्रवासी
जिले में अब करीब 46 हजार प्रवासी आ चुका है। दावा है कि इन सभी को होम क्वारंटीन या फिर संस्थाओं में क्वारंटीन कराया गया है। प्रशासन करीब 42 हजार लोगों की क्वारंटीन अवधि पूरी होने की बात कर रहा है। करीब 4 हजार लोग अभी भी संस्था या होम क्वारंटीन की अवधि में हैं।

हाल में आए प्रवासियों की संख्या
19 जुलाई को - 70
18 जुलाई को - 111
15 जुलाई को - 102
14 जुलाई को - 80
12 जुलाई को - 120
08 जुलाई को - 220

Ajeet shukla Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned