संदिग्ध मरीजों के सेंपल जांच में बढ़ी समस्या, रीवा की लैब से रेड सिग्नल, स्थानीय लैब का अभी पता नहीं

जिला अस्पताल में होना है कोरोना टेस्ट, तैयारी कछुआ चाल....

By: Amit Pandey

Updated: 23 May 2020, 06:20 PM IST

सिंगरौली. संदिग्ध मरीजों का सेंपल स्वास्थ्य विभाग की धड़कनें बढ़ा दी है। अब तक में कोरोना संदिग्धों के 400 सेंपल जिले से भेजे जा चुके हैं। वहीं शुक्रवार को 60 से अधिक सेंपल स्वास्थ्य विभाग ने जांच के लिए भेजा गया है। लगातार बढ़ रही सेंपलिंग के चलते स्थिति यह है कि करीब 38 सेंपल की जांच रिपोर्ट पेंडिंग में है। बतादें कि संभाग मुख्यालय रीवा में कोरोना टेस्ट के लिए एक उम्मीद जगी थी और यहां भी जांच शुरू हुई थी लेकिन उसने हाथ खड़े कर दिए हैं। वहां की मशीन काम नहीं कर रही है। यही कारण है कि संदिग्ध मरीजों का सेंपल जांच के लिए जबलपुर भेजा जा रहा है। लगातार बढ़ रहे सेंपल से जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग की परेशानी बढ़ गई है।

बीते गुरुवार की शाम आई जांच रिपोर्ट में एक साथ छह संक्रमित मिलने के बाद रमडिहा व ठटरा गांव में सुरक्षा के मद्देनजर गांव की सीमाओं पर चौकसी और बढ़ा दी गई है। कोरोना के संक्रमित मरीजों पर विशेष निगरानी रखी जा रही है। सीएमएचओ ने बताया कि दोनों गांव में कड़ी सुरक्षा के बीच टीम की ओर से नजर रखी जा रही है। छह संक्रमित मिले मरीजों के संपर्क में आए कुल ६० सेंपल जांच के लिए भेजा जा रहा है। लगातार भेजे जा रहे सेंपल से एक ओर जहां सेंपलिंग की संख्या बढ़ी है वहीं संक्रमित के संर्पक में आए लोगों की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आ रही है। अभी जिले में कोरोना संक्रमित के आंकड़ें सात पहुंच गए हैं।

जांच रिपोर्ट का इंतजार
जिले से भेजे गए कोरोना के संदिग्ध मरीजों के 38 सेंपल की जांच रिपोर्ट अभी पेंडिंग में है। वहीं गुरुवार को भेजे गए 12 सेंपल की जांच देर शाम तक आने की संभावना है। अब महकमें को भी भेजे गए सेंपल की जांच रिपोर्ट का इंतजार है। लगातार बढ़ रहे कोरोना के संक्रमित से विभाग के आला अफसर भी सतर्क हैं। हालांकि संक्रमित मिल रहे लोगों के संपर्क में आने वाले सभी का सेंपल जांच के लिए भेजा जा रहा है।

यहां भी प्रक्रिया अधर में
जिला अस्पताल में कोरोना टेस्ट होने की तैयारी चल रही थी लेकिन स्थनीय लैब का कोई पता नहीं है। जबकि इस मामले में जनप्रतिनिधियों ने भी खूब वाहवाही लूटा था कि अब कोरोना टेस्ट के लिए बाहर नहीं जाना पड़ेगा। यह सुविधा जिला अस्पताल में मिलेगी। इससे लोगों की उम्मीद जगी थी लेकिन वर्तमान में हालात यह हैं कि जिले से जांच के लिए जबलपुर भेज जा रहे सैंपल पेंडिंग पड़े हैं। एेसे में स्वास्थ्य विभाग को परेशानियों की दौर से गुजरना पड़ रहा है। हालांकि इस मामले में सीएमएचओ ने बताया है कि कोरोना टेस्ट के लिए जिले में अभी बहुत समय लगेगा। अभी फिलहाल जिले का स्वास्थ्य अमला जबलपुर पर निर्भर है।

Amit Pandey
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned