पशु चिकित्सालयों में सन्नाटा, चिकित्सक रहते हैं नदारत

11 पशु चिकित्सक हैं जिले में, 15 पशु चिकित्सालय

By: Vedmani Dwivedi

Updated: 14 Aug 2018, 12:29 PM IST

सिंगरौली. देवसर में पशु चिकित्सालय बना हुआ है और वहां पशु चिकित्सक शत्रुद्धन सिंह की पदस्थापना भी की गई है। जिससे बीमार पशुओं का उपचार हो सके। लेकिन दुर्भाग्य की बात यह है कि डॉ. सिंह वहां से गायब रहते हैं। पशु चिकित्सालय में ताला बंद रहता है। वे बैढ़न में ही अक्सर रहते हैं।

बताया जाता है कि वे अस्वस्थ्य रहते हैं जिसकी वजह से पशु अस्पताल में नहीं जा पाते। अब इसका खामियाजा वहां पशु पालकों को भुगतान पड़ रहा है। जिला पशु चिकित्सा अधिकारी बताते हैं कि जिले में 11 पशु चिकित्सकों की पदस्थापना की गई है लेकिन दो अक्सर गायब रहते हैं। देवसर एवं खुटार में पदस्थ चिकित्सकों में एक मेडिकल छुट्टी लेकर काफी दिनों से नदारत हैं वहीं दूसरे चिकित्सालय में नहीं जाते।

दवाओं को लगा रहे ठिकाने
जब इन पशु चिकित्सालयों में उपचार नहीं होता तो यहां आने वाले दवाएं कहां जाती हैं ? पशु चिकित्सा विभाग पशुओं के उपचार के लिए दवाएं प्रत्येक चिकित्सालय में उपलब्ध कराता है। लेकिन यह दवाएं या तो खराब हो जाती हैं या फिर ठिकाने लगा दिया जाता है। प्रतिवर्ष सभी पशु चिकित्सालयो में बैढऩ मुख्यालय से दवा भेजी जाती है।

देवसर पशु चिकित्सालय में पशु चिकित्सक शत्रुद्धन सिंह की पदस्थाना की गई है। लेकिन वे चिकित्सालय कभी नहीं जाते। इस बात को पशु चिकित्सा विभाग के जिला अधिकारी भी स्वीकार कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि सिंह का स्वास्थ्य ठीक नहीं रहता जिसकी वजह से वे चिकित्सालय में नहीं जाते।

खुटार पशु चिकित्सालय में पशु चिकित्सक राजीव श्रीवास्तव की पदस्थापना की गई है। इसके बावजूद खुटार पशु चिकित्सालय बंद रहता है। इसकी प्रमुख वजह वहां पदस्थ श्रीवास्तव पिछले कई महीने से मेडिकल पर हैं। जिसकी वजह से वहां पशुओं का उपचार नहीं हो पा रहा है।

चितरंगी पशु चिकित्सालय में कोई चिकित्सक पदस्थ नहीं हैं। चितरंगी ब्लॉक मुख्यालय है इसके बावजूद यहां पशु चिकित्सक की पदस्थापना नहीं की गई है। जंगली क्षेत्र होने की वजह से यहां गाय - भैस ज्यादा हैं। हर घर में गाय, भैंस, बकरी हैं। चिकित्सक नहीं होने से बीमार पशुओं का उपचार नहीं हो पाता।

लमसरई पशु चिकित्सालय में पशु चिकित्सक डॉ. मिताली दास पदस्थ हैं। बताया जाता है कि नहीं रहती। अक्सर बैढ़न कार्यालय में ही रहती है। जिला पशु चिकित्सा अधिकारी ने सफाई दी कि डॉ. मिताली एमडी हैं। गंभीर मामलों में उन्हें बैढ़न बुलाया जाता है तब ही आती हैं।

.........
11 पशु चिकित्सक हैं जिले में
20 पशु चिकित्सकों के पद स्वीकृत हैं
15 पशु चिकित्सालय
21 पशु औषधालय
10 पशु सब सेंटर
01 एआई सेंटर

 

Vedmani Dwivedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned