scriptHuman rights organization sought report from Singrauli collector for a | एंबुलेंस से प्रसूता को उतारने के मामले में कलेक्टर से जवाब तलब | Patrika News

एंबुलेंस से प्रसूता को उतारने के मामले में कलेक्टर से जवाब तलब

वायरल वीडियो को मध्यप्रदेश मानव अधिकार आयोग ने लिया संज्ञान .....

सिंगरौली

Published: November 19, 2021 12:44:51 am

सिंगरौली. एंबुलेंस से प्रसूता को उतारने के मामले को संज्ञान में लेते हुए मप्र. मानव अधिकार आयोग ने कलेक्टर से जवाब तलब किया है। साथ ही मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. एनके जैन से भी जवाब मांगा गया है। जवाब देने के लिए मानव अधिकार आयोग ने तीन सप्ताह का मौका दिया है। एक दिन पहले बुधवार को वायरल वीडियो को मध्यप्रदेश मानव अधिकार आयोग ने संज्ञान लिया है।
There are millions of rupees left in fund of Singrauli MLAs.
There are millions of rupees left in fund of Singrauli MLAs.
इस गंभीर मसले पर नाराजगी जाहिर करते हुए जांच कराकर रिपोर्ट प्रस्तुत करने को कहा है। जिले के खुटार क्षेत्र में 108 एंबुलेंस वाहन के चालक की ओर से अवैध वसूली किए जाने का मामला वायरल वीडियो के जरिए सामने आया। वायरल वीडियो के संबंध में बताया गया था कि पैसा नहीं मिलने पर प्रसव पीड़ा से कराह रही प्रसूता को चालक ने एंबुलेंस वाहन से उतार दिया। घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया और आयोग तक पहुंचा दिया गया।
मामले को संज्ञान लेकर मध्यप्रदेश मानव अधिकार आयोग के अध्यक्ष न्यायमूर्ति नरेंद्र कुमार जैन ने कलेक्टर राजीव रंजन मीना व मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. एनके जैन से तीन सप्ताह के भीतर जवाब मांगा है। आयोग ने कहा है कि दोनों अधिकारी मामले की जांच कराकर रिपोर्ट प्रस्तुत कराएं। बताया गया कि खुटार क्षेत्र में एक महिला को प्रसव पीड़ा शुरू हुई तो उसके परिजनों ने 108 एंबुलेंस वाहन को बुलाया।
जब एंबुलेंस वाहन पहुंचा तो वाहन के चालक राघवेंद्र पटेल द्वारा एक हजार रुपए की मांग किया। महिला के परिजनों ने रुपए देने में असमर्थता जाहिर किया तो एंबुलेंस चालक ने प्रसव पीड़ा से कराह रही प्रसूता को अस्पताल ले जाने से इंकार कर दिया। इतना ही नहीं चालक ने वाहन में बैठक चुकी प्रसूता को उतार दिया और वहीं छोड़कर चला गया। हालांकि 108 वाहन संचालित करने वाली कंपनी के प्रभारी ने परिजानों द्वारा लगाए गए आरोपों को गलत बताया है।
सीएमएचओ की उदासीनता बनी कारण
108 एंबुलेंस चालकों की ओर से प्रसूताओं व अन्य मरीजों के परिजनों से नकद की मांग किए जाने की गई शिकायतें सीएमएचओ के पास पहुंची हैं लेकिन सीएमएचओ की उदासीनता के कारण शिकायत को गंभीरता से नहीं लिया जाता है। लापरवाह सीएमएचओ के रवैये का नतीजा है कि आए दिन एंबुलेंस 108 के चालकों की ओर से मरीज व प्रसूताओं के परिजनों से नकदी राशि की मांग की जा रही है। यदि मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने शिकायतों को संज्ञान लिया होता और कार्रवाई की गई होती तो इस तरह के मामने सामने नहीं आते।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Covid-19 Update: देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 3.37 लाख नए मामले, ओमिक्रॉन केस 10 हजार पारSubhash Chandra Bose Jayanti 2022: आज इंडिया गेट पर सुभाष चंद्र बोस की होलोग्राम प्रतिमा का PM Modi करेंगे लोकार्पणनेताजी की जयंती अब पराक्रम दिवस के रूप में मनाई जाएगी, PM मोदी समेत इन नेताओं ने दी श्रद्धांजलिदिल्ली में जनवरी में बारिश का पिछले 32 साल का रिकॉर्ड ध्वस्त, ठंड से छूटी कंपकंपी, एयर क्वालिटी में सुधारU19 World Cup: कौन है 19 साल का लड़का Raj Bawa? जिसने शिखर धवन को पछाड़ रचा इतिहासUP TET Exam 2021 : बारिश पर भारी अभ्यर्थियोंं का उत्साह, कड़ी सुरक्षा में शुरू हुई TET परीक्षाAjmer Urs : 1 फरवरी को उतरेगा संदल, 2 को खुलेगा जन्नती दरवाजाUP Top News: उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा विभाग शिक्षक पात्रता परीक्षा आज, दो पालियों में परीक्षा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.