मौसम बना कातिल : उमसभरी गर्मी से नौनिहालों का बुरा हाल, महिलाओं के साथ बुजुर्ग भी बेहाल

मौसम बना कातिल : उमसभरी गर्मी से नौनिहालों का बुरा हाल, महिलाओं के साथ बुजुर्ग भी बेहाल
Increased number of patients in Singrauli district hospital

Amit Pandey | Updated: 20 Jul 2019, 01:23:53 PM (IST) Singrauli, Singrauli, Madhya Pradesh, India

मरीजों को गर्मी कर रही बीमार....

सिंगरौली. जिला अस्पताल के मरीज उमस से तडफ़ड़ा रहे हैं। एक ओर जहां मरीजों का बुरा हाल है, वहीं नौनिहाल बेहाल हो रहे हैं। उमस भरी गर्मी मरीजों को और बीमार कर रही है। गर्मी का विपरीत असर वार्ड में भर्ती मरीजों पर पड़ रहा है। शरीर को चूभने वाली गर्मी मरीजों को आफत बन गई है। बारिश के बाद निकल रहे तेज धूप के चलते उल्टी-दस्त व बुखार के मरीजों की संख्या में इजाफा हुआ है। उमस ने भर्ती मरीजों का सुकून छीन लिया है। मरीज बिलबिला रहे हैं।
जानकारी के लिए बताते चलेंकि बरिश के बाद बीते एक सप्ताह से लगातार तेज धूप निकल रही है। इससे शहर सहित ग्रामीण अंचल के लोग उल्टी दस्त से पीडि़त हो रहे हैं। हैरान करने वाली बात यह है कि पहले डायरिया से कई मरीजों की मौतें हो चुकी हैं। इसके बाद भी स्वास्थ्य महकमा गंभीर नहीं हो रहा है। जिला अस्पताल के वार्ड में गुरुवार को मरीज उमस वाली गर्मी से बेहाल नजर आए।कोई बाहर निकलकर गर्मी से राहत ले रहा है तो कोई वार्ड में पंखा के सामने बैठकर। यह नजारा जिला अस्पताल के वार्ड का है। जहां मरीजों को गर्मी से जद्दोजहद करनी पड़ रही है।

ग्रामीण अंचल से पहुंच रहे मरीज
इन दिनों जिला अस्पताल में वार्ड का नजारा देखते बनता है। जहां अधिकांश जिले के ग्रामीण अंचल से उल्टी-दस्त के मरीज उपचार के लिए पहुंच रहे हैं। मरीजों को उपचार मिलना तो दूर, उन्हें गर्मी से राहत के लिए कोई इंतजाम भी नहीं है। जिससे मरीजों को आफत से गुजरना पड़ रहा है। यहां तक कि सुविधाएं नहीं मिलने पर मरीज छुट्टियां कराकर घर निकल जा रहे हैं। इससे उनका इलाज भी अधूरा हो रहा है।

मरीजों ने क्या कहा:
- बुखार से पीडि़त नंदलाल बताते हैं कि तीन दिन से अस्पताल में भर्ती हूं। यहां उपचार तो नहीं मिल रहा है। मगर, गर्मी से भी राहत नहीं मिल पा रही है।
- मकरोहर निवासी रावेन्द्र ने बताया कि उल्टी-दस्त व बुखार के चलते जिला अस्पताल में बच्चे को भर्ती कराया हूं, गर्मी से हालत खराब हो गया है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned