scriptInnovation of NCL: sand will be made from soil of coal mine | एनसीएल का नवाचार: कोयला खदान की मिट्टी से बनाई जाएगी रेत | Patrika News

एनसीएल का नवाचार: कोयला खदान की मिट्टी से बनाई जाएगी रेत

जल्द शुरू होगा 10 करोड़ का कारोबार .....

सिंगरौली

Published: January 05, 2022 11:51:16 pm

सिंगरौली. एनसीएल की अमलोरी परियोजना में जल्द ही एक नवाचार शुरू होगा। बात कोयला खदान से निकलने वाली मिट्टी यानी ओबी (ओवर बर्डन) से रेत बनाने की तैयार योजना की कर रहे हैं। कोयला कंपनी की अमलोरी परियोजना ने न केवल ओबी से रेत बनाने की योजना बनाई है। बल्कि इसको लेकर प्रक्रिया अंतिम चरण में है। जल्द ही कार्य करने वाले एजेंसी तय कर ली जाएगी।
Innovation of NCL: sand will be made from soil of coal mine
Innovation of NCL: sand will be made from soil of coal mine
एनसीएल के अधिकारियों के मुताबिक कंपनी के सतत विकास प्रकोष्ठ ने इस नवाचार को अमल में लाने की योजना बनाई है। जिस पर अमलोरी परियोजना ने कार्य शुरू किया है। इस नवाचार से जहां कंपनी को अतिरिक्त आमदनी होगी। वहीं रेत की आवश्यकता की पूर्ति भी बिना पर्यावरणीय क्षति पहुंचाए की जा सकेगी। ओबी डंप करने के लिए क्षेत्र की आवश्यकता भी नहीं पड़ेगी और जिले में दर्जन भर स्थानों में बड़े रकबे में खड़े ओबी के पहाड़ में हटेंगे।
प्रतिदिन एक हजार घन मीटर रेत बनेगी
ओबी से रेत बनाने की तय योजना के मुताबिक हर रोज दो हजार घन मीटर ओबी का प्रयोग रेत बनाने के लिए किया जाएगा। इससे प्रतिदिन 1000 हजार घन मीटर रेत तैयार होगी। अमलोरी परियोजना की ओर से बनाई गई यह योजना 5 वर्षों के लिए है। इसके बाद दूसरी परियोजना में ओबी से रेत बनाई जाएगी। बताया गया कि रेत बनाने के लिए प्लांट के अलावा 12 करोड़ रुपए मशीन लगाने में खर्च होगा। इसके बाद प्लांट से प्रतिवर्ष 10 करोड़ रुपए का कारोबार होगा। इसमें सैकड़ों की संख्या में लोगों को रोजगार भी मिलेगा।
यह होगा प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष लाभ
- ओबी डंप करने जमीन की तलाश से निजात मिलेगी।
- नदियों में हो रहे अंधाधुंध रेत खनन में कमी आएगी।
- सडक़ व रेलवे ट्रैक बनाने में होग रेत का उपयोग।
- आंतरिक प्रयोग से बची रेत स्थानीय बाजार में दी जाएगी।
- राज्य सरकार से भी खरीदी को लेकर किया जाएगा अनुबंध।
- ओबी के पहाड़ों से होने वाली समस्या व दुर्घटनाएं कम होंगी।
वर्जन -
सतत विकास प्रकोष्ठ द्वारा बनाई गई नवाचार संबंधित योजना को अमलोरी परियोजना अमल में ला रही है। प्रक्रिया अंतिम चरण में है। सब कुछ ठीक रहा तो जल्द ही ओबी से रेत बनाने का काम शुरू कर दिया जाएगा।
राज विजय सिंह, जनसंपर्क अधिकारी एनसीएल।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Corona Update in Delhi: दिल्ली में संक्रमण दर 30% के पार, बीते 24 घंटे में आए कोरोना के 24,383 नए मामलेSSB कैंप में दर्दनाक हादसा, 3 जवानों की करंट लगने से मौत, 8 अन्य झुलसे3 कारण आखिर क्यों साउथ अफ्रीका के खिलाफ 2-1 से सीरीज हारा भारतUttar Pradesh Assembly Election 2022 : स्वामी प्रसाद मौर्य समेत कई विधायक सपा में शामिल, अखिलेश बोले-बहुमत से बनाएंगे सरकारParliament Budget session: 31 जनवरी से होगा संसद के बजट सत्र का आगाज, दो चरणों में 8 अप्रैल तक चलेगाHowrah Superfast- हावड़ा सुपरफास्ट से यात्रा करने वाले यात्रियों को परिवर्तित मार्ग से करना पड़ेगा सफर, इन स्टेशनों पर नहीं जाएगी ट्रेनपूर्व केंद्रीय मंत्री की भाजपा में वापसी की चर्चाएं, सोशल मीडिया पर फोटो से गरमाई सियासतTrain Reservation- अब रेल यात्रियों के पांच वर्ष से छोटे बच्चों के लिए भी होगी सीट रिजर्व, जानने के लिए पढ़े पूरी खबर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.