इन गरीब श्रमिकों के लिए एक अदद चिकित्सा केंद्र तक नहीं, जहां-तहां भटकने को मजबूर

-साल भर पहले मंजूर हुआ था चिकित्सालय भवन
-चिकित्सा केंद्र बन कर तैयार पर नहीं शुरू हुई चिकित्सा

 

By: Ajay Chaturvedi

Published: 29 Jun 2020, 06:43 PM IST

सिंगरौली. एक ऐसा जिला जहां श्रमिकों और कमजोर तबकों की आबादी कमतर नहीं लेकिन उन श्रमिकों व आर्थिक रूप से विपन्न लोगों को बुनियादी सुविधा भी मयस्सर नहीं। यहां तक कि एक अदद चिकित्सा केंद्र तक नहीं है ताकि लोग अपना समुचित इलाज अपने घर के आस-पास करा सकें। अगर आधी रात को किसी गर्भवती को लेबर पेन शुरू हो जाए तो उसे लेकर भी दूरदराज के चिकित्सालय जाना होगा।

ऐसा नहीं कि इसके लिए प्रयास नहीं किए गए। आमजन की मांग पर करीब साल भर पहले जिला प्रशासन ने चिकित्सालय भवन की मंजूरी दी थी। अब वह भवन बन कर तैयार है। लेकिन चिकित्सा सुविधा के लिए स्थानीय नागरिकों को अब भी जयंत स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र या बैढ़न स्थित जिला चिकित्सालय तक दौड़ना पड़ता है।

बता दें कि जिले की सिंपलेक्स कॉलोनी में ज्यादातर गरीब वर्ग और श्रमिक परिवार ही बसता है। इन लोगों को कालोनी के आस-पास ही चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने की मांग जब-तब उठती रही। ऐसे में जिला प्रशासन की ओर से लगभग एक वर्ष पहले चिकित्सालय भवन की मंजूरी दी गई। वहां उप चिकित्सा केंद्र भवन बनकर तैयार भी हो गया है। लेकिन चिकित्सा सुविधा अब तक शुरू नहीं हो सकी है। ऐसे में आसपास के गरीबों और श्रमिक परिवारों जिनकी तादाद अच्छी खासी है को चिकित्सा सुविधा के लिए परेशान होना पड़ रहा है। वो उपचार के लिए दूर-दराज का चक्कर लगाने को मजबूर हैं। यहां तक कि गर्भवती महिलाओं को प्रसव के समय चिकित्सा सहायता के लिए जिला चिकित्सालय तक ले जाने में स्थानीय नागरिकों को अधिक मुश्किल का सामना करना पड़ता है।

लिहाजा स्थानीय लोगों की मांग है कि जल्द से जल्द नवनिर्मित उप चिकित्सा केंद्र भवन में इलाज शुरू हो ताकि उन्हें इधर-उधर भटकना न पड़े।

Show More
Ajay Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned