एनसीएल की जयंत खदान की ड्रगलाइन हैवी मशीन ध्वस्त, बाल-बाल बचे कर्मचारी

करोड़ों के नुकसान की आशंका ....

By: Ajeet shukla

Published: 08 Jul 2020, 12:26 AM IST

सिंगरौली. एनसीएल की जयंत परियोजना में कोयला खनन और लोडिंग में लगी सबसे बड़ी ड्रग लाइन मशीन का बूम (मशीन का बड़ा हिस्सा) टूट गया। इससे बूम के साथ पूरा मलबा खदान पर आ गिरा। गनीमत थी कि वहां काम कर रहे कर्मचारी हादसे को भांपकर निकल गए वरना हादसा गंभीर हो सकता था। मशीन के टूटने से कंपनी को करोड़ों के नुकसान की आशंका है।

यह हादसा मंगलवार दोपहर हुआ। जिससे जयंत कोल खनन परियोजना में अफरा-तफरी का माहौल निर्मित हो गया। इससे कई घंटे तक कामकाज प्रभावित हुआ। जानकारी के अनुसार ड्रगलाइन मशीन खनन परियोजनाओं में लगने वाली सबसे बड़ी मशीनों में से एक है। जिसका इस्तेमाल खदान का मलबा हटाने से लेकर कोयला डंप करने और लोडिंग में होता है।

दोपहर जब ड्रगलाइन से कोयला निकाला जा रहा था, उसी दौरान बूम टूट गया। इससे कई मीटर ऊंची यह मशीन खदान में धराशायी हो गई और दूर तक उसका मलबा फैल गया। बताया गया है कि उस वक्त बड़ी संख्या में कर्मचारी व श्रमिक खदान पर काम कर रहे थे जो मलबे के नीचे आने से बाल-बाल बच गए। अभी तक किसी के हताहत होने की जानकारी सामने नहीं आई है।

बूम डाउन करने के दौरान हादसा
बताया गया है कि मंगलवार को ड्रग लाइन का बूम डाउन किया गया था। यह जयंत परियोजना के प्रबंधन के आदेश पर किया गया। इसी दौरान यह हादसा हो गया। इस संबंध में अधिकारियों की ओ से अधिक जानकारी तो नहीं दी गई पर जनसंपर्क अधिकारी राम विजय का कहना है कि मशीनों से संबंधित सभी गतिविधि पूरी सतर्कता के साथ किया जाता है। अधिकारी सतर्क रहे, इसलिए बड़ी घटना नहीं हुई। मशीन को भी जल्द से जल्द रिपेयर कराने की कोशिश की जाएगी।

हो सकता है बड़ा नुकसान
बताया गया है कि घटना के बाद बूम टूट जाने के कारण ड्रग लाइन मशीन को सुधारने में काफी वक्त लगेगा। चूंकि इसे खदान के बीचोंबीच लगाया जाता है। इसके लिए हैवी मशीनों की जरूरत होगी। इससे कोयला खनन के काम पर भी असर होगा। जिससे करोड़ों की क्षति कंपनी को होने की आशंका है।

Ajeet shukla Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned