पीपीइ किट के लिए जेब करनी पड़ रही ढीली, विंध्य अस्पताल के मरीजों का हाल

गौर नहीं फरमा रहे जिम्मेदार.....

By: Amit Pandey

Published: 02 Aug 2020, 08:22 PM IST

सिंगरौली. विंध्य चिकित्सालय एनटीपीसी में पीपीई किट के लिए मरीजों को जेब ढीली करनी पड़ रही है। इस गंभीर समस्या की ओर अस्पताल के जिम्मेदार अफसर गौर नहीं फरमा रहे हैं। बताया गया है कि एक दिन में कई ऐसे मरीज चिकित्सालय में इलाज के लिए पहुंचते हैं जिन्हें पीपीई किट लाने के लिए कहा जाता है। जिसे खरीदने के लिए मरीजों के परिजनों को एनटीपीसी कैंपस के बाहर इसलिए भेजा जाता है क्योंकि कैंपस के बाहर संबंधित स्टाफ का कमीशन तय है। ऐसे में ज्यादा आफत प्राइवेट मरीजों को होती है जो एक-एक रुपए जोड़कर विंध्य चिकित्सालय में इलाज कराने के लिए पहुंचते हैं।

जानकारी के लिए बतादें कि पीपीई किट खुद की सुरक्षा के लिए चिकित्सक इसका उपयोग करते हैं। कोरोना के इस दौर में इसका महत्व पहले से कई गुना ज्यादा बढ़ गया है। खासकर चिकित्सालय में इसका ज्यादातर उपयोग ऑपरेशन के दौरान होता है। हालांकि मौजूदा वक्त में वैसे भी सुरक्षा के मद्देनजर चिकित्सकों को किट की जरूरत पड़ती है। इस गंभीर समस्या की ओर विंध्य चिकित्सालय के जिम्मेदार अधिकारियों की नजरें इनायत नहीं हो रही है।

दोगुना दाम में कर रहे बिक्री
यह जानकर आपको हैरानी होगी कि पीपीई किट चिकित्सालय कैंपस में आठ सौ रुपए में आसानी से उपलब्ध हो जाता है। मगर, विंध्य चिकित्सालय का स्टाफ कमीशन के फेर में मरीज के परिजनों को एनटीपीसी विंध्य चिकित्सालय कैंपस के बाहर खरीदने के लिए दुकान का नाम लिखकर उन्हें देते हैं। जहां मरीजों के पिरजनों से पीपीई किट का मनमानी तौर पर 15 सौ रुपए वसूला जा रहा है। जबकि कैंपस में यह किट सस्ते दर पर उपलब्ध हो जाती है।

क्या कहते हैं परिजन
केस-एक
संजीव कुमार ने बताया कि मरीज का ऑपरेशन कराना था। पीपीई किट लाने के लिए चिकित्सालय स्टाफ ने कैंपस के बाहर से खरीदने को बताया। जबकि वही किट चिकित्सालय कैंपस में सस्ते में उपलब्ध हो जाती है।

केस-दो
संतोष कुशवाहा ने कहा कि एनटीपीसी गेट के बाहर से किट खरीदकर लाए। इसके बाद कैंपस स्थित मेडिकल की दुकानों में पीपीई किट के बारे में पता किया तो जहां से खरीदकर लाया था उसने दोगुना पैसा लिया था।

Amit Pandey
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned