नव वर्ष के उत्साह पर महामारी की छाया, कार्यक्रमों के आयोजन को लेकर नहीं आए आवेदन

अस्थाई का राजस्व शून्य, आबकारी राजस्व का मामला ....

By: Ajeet shukla

Published: 29 Dec 2020, 10:51 PM IST

सिंगरौली. नव वर्ष के उत्साह पर इस बार कोविड महामारी का साफ असर देखने में आया है। जिले में नव वर्ष के स्वागत में वर्ष के अंतिम दिन 31 दिसंबर को युवा व अन्य वर्ग समूह में उत्साह के साथ जुटते रहे हैं और पार्टी या ऐसा ही अन्य आयोजन करते हैं मगर इस बार कोविड के चलते ऐसे सामूहिक आयोजन लगभग नहीं हो रहे हैं। इनकी संख्या बहुत कम रह गई है।

बीते वर्ष तक सामान्य स्थिति में शहर के अधिकतर होटलों में भी नववर्ष के स्वागत कार्यक्रम आयोजित होते रहे हैं और इन कार्यक्रमों में बड़ी संख्या में नागरिक शामिल होते रहे हैं। मगर इस बार महामारी के चलते नव वर्ष के स्वागत में होने वाले आयोजनों की संख्या लगभग नगण्य बनी हुई है। इसके चलते ही 31 दिसंबर को कार्यक्रम में मदिरा के उपयोग के अस्थाई लाइसेंस के लिए आबकारी विभाग के पास आवेदन का टोटा पड़ा है।

इसके विपरीत बीते वर्षों में सामान्य स्थिति के दौरान जिले में 31 दिसंबर की रात्रि को नव वर्ष के स्वागत में होने वाले कार्यक्रमों में मदिरा के उपयोग को लेकर विभाग की ओर से लगभग दो दर्जन अस्थाई लाइसेंस जारी होते रहे हैं। इनसे विभाग को ठीक ठाक राजस्व मिलता रहा है मगर इस बार शनिवार तक आबकारी विभाग को अस्थाई लाइसेंस के लिए मात्र एक आवेदन मिला है।

इस प्रकार इस बार इन अस्थाई लाइसेंस से आबकारी विभाग को मिलने वाला राजस्व बहुत मामूली रहने की हालत है। जिले में 31 दिसंबर की रात नववर्ष के स्वागत के लिए होने वाले कार्यक्रमों में मदिरा के उपयोग के लिए बीते वर्षों में लगभग दो दर्जन से अधिक अस्थाई लाइसेंस जारी होते रहे हैं। आबकारी विभाग की ओर से नव वर्ष के स्वागत में होने वाले कार्यक्रम रात को 12 बजे तक की अनुमति दी जाती है।

इसके बदले नियमानुसार धर्मशाला या ऐसे ही किसी सार्वजनिक स्थान पर कार्यक्रम के अस्थाई लाइसेंस के लिए रुपए पांच हजार और होटल या बार जैसी जगह पर होने वाले कार्यक्रम के लिए 10 हजार रुपए शुल्क लिया जाता है। ऐसा लाइसेंस मात्र एक दिन के लिए प्रभावी होता है। आबकारी विभाग सूत्रों के अनुसार इस बार शनिवार तक ऐसे अस्थाई लाइसेंस के लिए विभाग को मात्र एक आवेदन मिला है। यह कटनी क्षेत्र से संबंधित है। विभाग ने इस आवेदन पर नियमानुसार प्रक्रिया शुरू कर दी है।

जिला आबकारी अधिकारी एनके व्यास ने बताया कि 31 दिसंबर की रात को होने वाले नव वर्ष के स्वागत आयोजनों में अस्थाई लाइसेंस के साथ कोविड-19 को लेकर जारी गाइड लाइन का पालन करने की शर्त के साथ मंजूरी दी जाएगी। उन्होंने माना कि ऐसे अस्थाई लाइसेंसों के लिए इस बार आवेदन कम होने से विभाग को राजस्व का नुकसान होगा। उन्होंने बताया कि शासन की व्यवस्था के तहत इस बार अस्थाई लाइसेंस के लिए विभाग को ऑनलाइन आवेदन करना होगा। विभाग इस बार केवल ऑनलाइन आवेदन ही स्वीकार करेगा।

Ajeet shukla Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned