scriptNGT order to make from cement boundary, company is piling up ash debri | निर्देश सीमेंट से बनाने का, कंपनी राख के मलबा का लगा रही ढेर | Patrika News

निर्देश सीमेंट से बनाने का, कंपनी राख के मलबा का लगा रही ढेर

फ्लाई ऐश डैम से सुरक्षा व्यवस्था को लेकर खानापूर्ति
रिलायंस सासन पावर का हाल, एनटीपीसी सहित दूसरी कंपनियां भी इसी ढर्रे पर

सिंगरौली

Updated: June 12, 2022 11:50:58 pm

सिंगरौली. विद्युत उत्पादक कंपनियों के फ्लाईऐश डैम से पूर्व में हो चुकी बड़ी दुर्घटनाओं के बाद भी कंपनियों की मनमानी और प्रशासन की उदासीनता बरकरार है। वैसे तो कलेक्टर की ओर से फ्लाईऐश डैम की सुरक्षा व्यवस्था को बेहतर करने का आदेश जारी किया गया है, लेकिन कंपनियों का रवैया केवल खानापूर्ति तक सीमित है। रिलायंस सासन पॉवर हो या फिर एनटीपीसी विंध्याचल, डैम की सुरक्षा को लेकर कोई भी कंपनी निर्देशों पर गंभीरतापूर्वक अमल करने की जरूरत नहीं समझ रही है।
NGT order to make from cement boundary, company is piling up ash debris
NGT order to make from cement boundary, company is piling up ash debris
फ्लाईऐश डैम से वर्ष 2019 और 2020 में हुई तबाही के बाद हरकत में आई एनजीटी ने डैम के चारों ओर सुरक्षा के बावत सीमेंट की चौड़ी पक्की दीवार बनाने का निर्देश दिया है, लेकिन हकीकत में कंपनियां एनजीटी के इस निर्देश पर अमल करने को तैयार नहीं हैं। वर्तमान में रिलायंस सासन पॉवर की ओर से हर्रहवा स्थित डैम की सुरक्षा के लिए मेड़ बनाई जा रही है।
लेकिन कंपनी सीमेंट की पक्की दीवार बनाने के बजाए डैम में भरे राख के मलबा प्रयोग कर रही है। राख के मलबे का ढेर लगाकर सुरक्षा का दावा किया जा रहा है। ग्रामीण कंपनी के इस खोखले दावे को लेकर परेशान हैं। उनका मानना है कि जबरदस्त बारिश हुई तो यही राख का मलबा बहकर उनके घरों तक पहुंचेगा। परेशानी कम होने के बजाए बढ़ रही है।
विंध्याचल का भी यही हाल
एनटीपीसी विंध्याचल व एस्सार पॉवर के फ्लाईऐश डैम का हाल भी सासन पॉवर जैसा ही है। इन दोनों कंपनियों ने भी एनजीटी के निर्देशों का पालन करने की जरूरत नहीं समझी है। इनके डैम की सुरक्षा भी मिट्टी के ढेर के भरोसे ही है। मनमानी का यह आलम तब है जबकि पूर्व में मिट्टी की दीवारों के ढहने पर ही दो बड़ी तबाही हो चुकी है।
ये है दो बड़ी घटनाएं
- वर्ष 2020 में रिलायंस सासन पॉवर का फ्लाईऐश डैम सिद्धिखुर्द में फूट गया था। इससे न केवल आधा दर्जन गांव तबाह हो गए थे, बल्कि चार नाबालिग सहित 6 की मौत हो गई थी। रिहंद जलाशय सहित अन्य जलस्रोत भी प्रदूषित हो गए थे। पर्यावरणवीय नुकसान हुआ सो अलग।
- वर्ष 2019 में एनटीपीसी विंध्याचल का फ्लाईऐश डैम शाहपुर में फूटा था। इससे भी सैकड़ों किसानों की खेत में मलबा भर गया था। साथ ही रिहंद जलाशय में राख का मलबा जाने से वह पूरी तरह से प्रदूषित हो गया था। पर्यावरण को भी भारी नुकसान पहुंचा था।
चिंता में रहवासी
- रिलायंस कंपनी डैम से सुरक्षा के बंदोबस्त में राख के मलबा का ढेर लगा रही है। सभी जानते हैं कि बारिश होने पर यह राख पानी के साथ बह जाएगी। इससे तो सामान्य बारिश में भी राख का मलबा बह कर घरों व खेतों में पहुंचेगा।
सिपाही लाल, रहवासी झांझी टोला।
- फ्लाईऐश डैम से सुरक्षा को लेकर देखने में तो काफी ऊंचा मेड़ बनाया जा रहा है, लेकिन यह मेड़ राख के मलबा का है। यह मलबा बारिश के पानी के साथ बह जाएगा। यह व्यवस्था नहीं लगता है कि एक बारिश भी संभाल पाएगा।
अनिल सिंह, रहवासी हर्रहवा।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

जम्मू कश्मीर में टेरर लिंक मामले में बिट्टा कराटे की पत्नी समेत चार सरकारी कर्मचारी बर्खास्तFlag Code Of India: 'हर घर तिरंगा' अभियान शुरू, 15 अगस्त से पहले जानिए तिरंगा फहराने के नियम, अपमान पर होगी जेलMaharashtra: शिंदे कैबिनेट के विस्तार के बाद अब विभागों के बंटवारे पर फंसा पेंच, इन मंत्रालयों पर नहीं बन पा रही बातRSS और मोहन भागवत ने सोशल मीडिया अकाउंट्स पर लगाई तिरंगे की तस्वीर, राष्ट्रीय ध्वज को लेकर कांग्रेस ने की थी संघ की आलोचनाRaju Srivastava के हाथ-पैरों में दिखी हरकत, डॉक्टर बोले - 'पहले से स्थिर'तिरंगा रैली और स्वतंत्रता दिवस पर विशेष सतर्कता बरतें, राजस्थान के सभी जिलों के लिए अलर्ट जारीसलमान रुश्दी ने ऐसा क्या लिखा, मुस्लिम कट्टरपंथी बन गए जान के दुश्मन, जानिए पूरा मामलाTrump Search Warrant: एफबीआई ने ट्रंप के मार-ए-लागो आवास से जब्त की Top Secret फाइलें, हो सकती है 5 साल की सजा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.