लॉकडाउन में सबकुछ गंवा देने वाले राम प्यारे की दर्द भरी दास्तां

-कोरोना काल में घोर संकट में आए राम प्यारे का बदल गया जीवन
-छोटे व्यापारियों के लिए वरदान बनी Chief Minister Street Vendor Scheme

By: Ajay Chaturvedi

Published: 22 Feb 2021, 06:36 PM IST

सिंगरौली. कोरोना संक्रमण पर अंकुश के लिए लागू लॉकडाउन ने बहुतेरे लोगों को सड़क पर ला दिया। उनका कारोबार चौपट हो गया। घर में चूल्हा जलाने तक को पैसे नहीं रह गए। कई-कई दिन फांकाकशी में जीवन बीता। फिर धीरे-धीरे लॉकडाउन से अनलॉक का दौर आया। इसी बीच मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने छोटे कारोबारियों के लिए Chief Minister Street Vendor Scheme लॉंच की। यह योजना अब इन छोटे कारोबारियों के लिए वरदान साबित हो रही है।

इसी योजना के तहत 10 हजार रुपये का ब्याजमुक्त ऋण हासिल कर नगर निगम के वार्ड नंबर-40 निवासी राम प्यारे चौरसिया ने फुटपाथ पर दुकान लगानी शुरू की और देखते ही देखते दुकान चल निकली। अब तो वह हर महीने अच्छी खासी कमाई कर रहे हैं।

राम प्यारे बताते हैं कि सड़क किनारे चाट की दुकान कर जीवन यापन करते थे। कोरोना काल के पूर्व उनकी दुकान अच्छी चल रही थी, महीने में आठ से दस हजार रूपये तक की आय हो जाती थी। लेकिन कोरोना काल में लॉकडाउन के चलते कारोबार प्रभावित हुआ। जमा पूंजी भी परिवार चलाने में खर्च हो गई। इसी बीच मुख्यमंत्री स्ट्रीट वेंडरर योजना की जानकारी हुई तो पंजाब नेशनल बैंक की बैढ़न शाखा से संपर्क किया। वहां से 10 हजार रूपये का ऋण उपलब्ध कराया गया। इस राशि से मैने पुनः अपनी दुकान शुरू कर दी। दुकान फिर से धीरे धीरे दुकान चल निकली है। अब आठ हजार रूपये तक की मासिक आय होने लगी है।

राम प्यारे ने संकट के दौरान गरीबों की मदद के लिए प्रदेश सरकार, आजीविका मिशन तथा मुख्यमंत्री चौहान के प्रति कृतज्ञता ज्ञापित की है।

Ajay Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned