निकाय चुनाव में झटका दे सकती है बिजली, कांग्रेस नेताओं में ङ्क्षचता की लकीरें

भीषण गर्मी में बिजली की आवाजाही ने कांगे्रसी चिंंतित हैं कि जनता को कि कहीं इस चुनाव में भी...

By: Sonelal kushwaha

Published: 15 Jun 2019, 02:07 AM IST

सिंगरौली. भीषण गर्मी मेंं असमय बिजली गुल होने से जन आक्रोश बढऩे का डर कांगे्रस को सता रहा है। लोकसभा चुनाव मेंं मिली करारी हार के कारण कांगे्रस को इस मामले मेंं अधिक सोचना पड़ रहा है। बिजली के अनियमित गुल होने से जन आक्रोश का असर कुछ समय बाद होने वाले निकाय चुनाव पर भी पड़ सकता है। अघोषित बिजली कटौती से परेशान जनता आगामी चुनाव में भी कांगे्रस को डुबा सकती है। इसलिए बिजली का मामला कांगे्रस के लिए सबसे संवेदनशील हो गया। अब इसे साधने का जतन हो रहा है।

करारी हार से नेताओं की नींद उड़ी
लोकसभा चुनाव में मिली करारी हार ने कांगे्रस नेताओं की नींद उड़ा रखी है। इन दिनों भीषण गर्मी में बिजली की आवाजाही ने कांगे्रस नेताओं की परेशानी को और बढ़ा दिया है तथा बिजली कटौती के पनपे जन आक्रोश के चलते भविष्य मेंं होने वाले स्थानीय निकाय चुनाव में भी पराजय गले पडऩे की आशंका है। इस कारण कांगे्रस नेता सब कुछ भूल लोगों को बिजली की सुचारू आपूर्ति को लेकर चिंतित हैंं। इसके चलते ही बिजली अधिकारियों पर शहर व गांव में २२ से २४ घंटे तक न्यूनतम बिजली सप्लाई का भारी दवाब है।

बिजली को सरकार की प्राथमिकता बताई
यहां जिला योजना समिति की बैठक में प्रभारी मंत्री प्रदीप जायसवाल व ग्रामीण विकास मंत्री कमलेश्वर पटेल ने भी गुरुवार को बिजली को सरकार की पहली प्राथमिकता ठहराया। इसके बाद जिले के पार्टी पदाधिकारियों व प्रमुख कार्यकर्ताओं से बातचीत कर बिजली आपूर्ति की स्थिति पूछी। मंत्रियों की ओर से सरकारी व्यवस्था के तहत कलेक्टर को बिजली व पेयजल की स्थिति की नियमित निगरानी करने के लिए कहा। कुछ पार्टी पदाधिकारियों व प्रमुख कार्यकर्ताओं को भी बिजली की स्थिति बिगडऩे पर तत्काल सूचित करने की सलाह दी। इससे पता चलता है कि बिजली व्यवस्था बिगडऩे से उपजने वाले जनाक्रोश ने जिला व प्रदेश स्तर पर कांगे्रस भयभीत है। सरकार के साथ पार्टी संगठन भी इसके लिए सक्रिय है।

Congress
Show More
Sonelal kushwaha
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned