एक सप्ताह बाद होगी धान की खरीद, किसानों को अभी करना होगा इंतजार

तैयारी मंें जुटा विभाग......

By: Amit Pandey

Published: 27 Nov 2019, 01:11 PM IST

सिंगरौली. शासन को समर्थन मूल्य पर धान बेचने को उत्सुक किसानों को अभी एक सप्ताह और इंतजार व अपनी फसल की रखवाली करनी होगी। पहले जिले व राज्य में धान की सरकारी खरीद 25 नवंबर सोमवार से शुरू होनी थी जिसे एक सप्ताह के लिए टाल दिया गया है। अब शासन की ओर से समर्थन मूल्य पर धान की खरीद दो दिसंबर सोमवार से होगी। इस प्रकार पूर्व में पंजीयन कराने वाले जिले के सभी चौदह हजार से अधिक किसानों को शासन को धान बेचने के लिए एक सप्ताह तक इंतजार करना पड़ेगा। जिले में इस बार भी धान की सरकारी खरीद 28 केंद्रों पर होगी। जिले में पिछले वर्ष भी धान खरीद के लिए इतने ही केन्द्र स्थापित किए गए थे।

बताया गया कि जिले में धान की अधिकतर फसल कट गई है और अब खेत में धान बहुत कम बचा है। किसानों ने तेजी दिखाते हुए लगभग समूचा धान निकाल लिया है तथा अब उनको खरीद शुरू होने का इंतजार है। फसल चक्र के इसी अनुमान के आधार पर शासन की ओर से पहले 25 नवंबर से समर्थन मूल्य पर धान खरीद किया जाना तय किया गया। पर कृषि विभाग की राय सामने आने पर शासन ने इसे एक सप्ताह आगे बढ़ा दिया है। इस संबंध में नागरिक आपूर्ति विभाग की ओर से आदेश जारी किया गया है।

आपूर्ति विभाग के उपसचिव की ओर से जारी आदेश के अनुसार अब सिंगरौली व अन्य जिलों में समर्थन मूल्य पर धान की खरीद दो दिसंबर सोमवार से शुरू होगी। किसानों को इसी तिथि के अनुसार अपनी फसल मंडी या खरीद केंद्र लाने के संबंध में अवगत किया जाएगा। उल्लेखनीय है कि सिंगरौली जिले में इस बार भी खरीफ सीजन की मुख्य फसल धान की सरकारी खरीद के लिए बैढऩ सहित अन्य स्थानों पर 28 खरीद केंद्र बनाए जाएंगे। जिले के सहकारिता व आपूर्ति विभाग अधिकारियों का अनुमान है कि इस सीजन में जिले में छह लाख क्विंटल तक धान की खरीद हो सकेगी।

उपज में नमी बनी खरीदी तिथि टलने का कारण
धान खरीद तिथि बढ़ाए जाने संबंधी आपूर्ति विभाग के आदेश से खुलासा होता है कि सिंगरौली व अन्य जिलों में भले ही फसल कट व निकल गई है मगर उसमें नमी की मात्रा मानक से काफी अधिक है। धान में नमी की यह मात्रा सामान्य तक व केन्द्र सरकार की ओर से तय मानक तक आने में एक सप्ताह लगने की संभावना है। इसके चलते ही यहां समर्थन मूल्य पर धान खरीद का काम एक सप्ताह टल गया है। इस बीच खरीद शुरू होने का समय बढऩे के बावजूद जिले में पहले से तय खरीद केन्द्र शुरू करने और वहां आवश्यक व्यवस्था करने के लिए सहकारिता व आपूर्ति विभाग अधिकारी व संबंधित कार्मिक तैयारी में जुटे हैं।

इनको शासन की मंशा के अनुरुप हर खरीद केंद्र पर धान बिक्री के लिए आने वाले किसानों के लिए विश्राम सहित पेयजल आदि की अन्य व्यवस्था करनी है। दोनों विभागों के अधिकारियों की ओर से इसके लिए खरीद केन्द्र व्यवस्थापकों को पाठ पढ़ाया जा रहा है। उल्लेखनीय है कि खरीफ के चालू सीजन में शासन को समर्थन मूल्य पर धान बेचने के लिए जिले में 14149 किसानों ने पूर्व में पंजीयन कराया है। अब शासन को इन सभी किसानों से धान खरीद की व्यवस्था करनी है।

Amit Pandey
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned