scriptRelief from coal transport in next 6 months | कोयले को लेकर आई बड़ी खबर, छह माह में मिलेगी बड़ी राहत | Patrika News

कोयले को लेकर आई बड़ी खबर, छह माह में मिलेगी बड़ी राहत

छह महीने में छह कोल परियोजनाओं में बंद हो जाएगा सड़क मार्ग से कोल परिवहन, कोल प्रदूषण और सड़क दुर्घटनाओं से मिलेगी मुक्ति

सिंगरौली

Published: May 13, 2022 12:54:11 pm

सिंगरौली। एनसीएल का दावा सच हुआ तो अगले छह महीनों में कोयला प्रदूषण व सड़क दुर्घटनाओं से काफी हद तक राहत मिल जाएगी। कोयला कंपनी एक-एक कर अगले छह महीने में 6 परियोजनाओं में सड़क मार्ग से कोल परिवहन पूरी तरह से बंद करने की कवायद में जुटी है। परिवहन केवल रेलवे रैक के माध्यम से होगा।

coil.png

कोयला कंपनी में इस समय 3174 करोड़ की लागत से 9 फर्स्ट माइल कनेक्टिविटी (एफएमसी) तैयार किया जा रहा है। अधिकारियों का कहना है कि कृष्णशिला व गोरबी बी ब्लॉक में एफएमसी का कार्य पूरा कर लिया गया है। जल्द ही एक-एक कर 4 अन्य परियोजनाओं में भी एफएमसी तैयार हो जाएगी। बाकी तीन परियोजनाओं में एफएमसी का कार्य पूरा करने के लिए वर्ष 2023 तक का लक्ष्य रखा गया है।

गौरतलब एफएमसी यानी फर्स्ट माइल कनेक्टिविटी के जरिए कोयला सीधे रेलवे रैक में लोड होता है। इस तरह से इन सभी नौ एफएमसी तैयार होने के बाद रेलवे रैक तक कोयला पहुंचाने के लिए सड़क मार्ग से परिवहन करने की जरूरत नहीं पड़ेगी। बता दें कि वर्तमान में एनसीएल की विभिन्न परियोजनाओं में 9 एफएमसी पहले से ही कार्य कर रही हैं। नई एमएफसी के लिए जयंत, ककरी व निगाही में एक-एक और दुद्धिचुआ व अमलोरी में दो-दो एफएमसी तैयार करने का कार्य चल रहा है।

रेलवे रैक से जाएगा 35 मिलियन टन कोयला

एनसीएल वर्तमान में उपलब्ध 9 एफएमसी से 74 मिलियन टन कोयला रेलवे रेक के जरिए परिवहन कर रहा है। बाकी का कोयला विभिन्न परियोजनाओं से सड़क मार्ग से उपभोक्ताओं या फिर रेलवे साइडिंग तक भेजा जाता है। यह मात्रा अब 35 से लेकर 40 मिलियन टन तक होगी। छह नई एमएफसी के पूरा होने की स्थिति में अभी तक सडक़ मार्ग से परिवहन हो रहा 35 मिलियन टन से अधिक कोयला रेलवे रैक के माध्यम से परिवहन होने लगेगा। चूंकि एनसीएल को नए वित्तीय वर्ष में 130 मिलियन टन से अधिक कोयला का उत्पादन व प्रेषण करना है, इसलिए वर्ष 2023 तक तीन और नई एफएमसी तैयार करने की योजना है।

सौ से अधिक होती हैं सड़क दुर्घटनाएं

सड़क मार्ग से कोल परिवहन के चलते एक ओर जहां सिंगरौली का जयंत, निगाही, मोरवा, दुद्धिचुआ व गोरबी का पूरा इलाका वायु प्रदूषण का दंश झेल रहा है। वहीं दूसरी ओर प्रत्येक वर्ष सड़क मार्ग से कोयला परिवहन के विभिन्न रूट पर सौ से अधिक दुर्घटनाएं होती हैं। गौरतलब है कि इन समस्याओं से राहत के लिए ही एनजीटी ने पूर्व में सड़क मार्ग से कोल परिवहन पूरी तरह बंद करने का निर्देश दिया है। मामला सर्वोच्च न्यायालय तक पहुंचा और वहां से भी एक सतत प्रक्रिया के तहत सड़क मार्ग से कोल परिवहन बंद कर रेलवे रैक या कन्वेयर बेल्ट के माध्यम से कोल परिवहन करने का निर्देश है।

फैक्ट फाइल

130 मिलियन टन से अधिक कोयला उत्पादन व प्रेषण का लक्ष्य
75 मिलियन टन वर्तमान में रेलवे रेक से परिवहन की व्यवस्था
09 नई एफएमसी से इतना ही कोयला रेलवे रेक से भेजा जाएगा
09 परियोजनाओं में सीएचपी (कोल हैंडलिंग प्लांट) से कार्य में

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्सयहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतिशुक्र का मेष राशि में गोचर 5 राशि वालों के लिए अपार 'धन लाभ' के बना रहा योगराजस्थान के 16 जिलों में बारिश-आंधी व ओलावृ​ष्टि का अलर्ट, 25 से नौतपाजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथइन बर्थ डेट वालों पर शनि देव की रहती है कृपा दृष्टि, धीरे-धीरे काफी धन कर लेते हैं इकट्ठा7 फुट लंबे भारतीय WWE स्टार Saurav Gurjar की ललकार, कहा- रिंग में मेरी दहाड़ काफीशुक्र देव की कृपा से इन दो राशियों के लोग लाइफ में खूब कमाते हैं पैसा, जीते हैं लग्जीरियस लाइफ

बड़ी खबरें

टाइम मैगजीन ने जारी की 100 प्रभावशाली लोगों की लिस्ट, जेलेंस्की, पुतिन के साथ 3 भारतीय भी शामिलHaj 2022: दो साल बाद हज पर जाएंगे मोमिन, पहला भारतीय जत्था 4 जून को होगा रवानाआ गया प्लास्टिक कचरे का सफाया करने वाला नया एंजाइमWomen's T20 Challenge: पहले ही मैच में धमाकेदार जीत दर्ज की सुपरनोवास ने, ट्रेलब्लेजर्स को 49 रनों से हराया‘सिंधिया जिस दिन कांग्रेस छोडक़र गए थे, उसी दिन से उनका बुढ़ापा शुरू हो गया था’गुजरात: निवेशकों से डेढ अरब की धोखाधड़ी कर फरार हुआ कम्पनी मालिक पत्नी सहित गिरफ्तारअनिल बैजल के इस्तीफे के बाद Vinai Kumar Saxena बने दिल्ली के नए उपराज्यपालISI के निशाने पर पंजाब की ट्रेनें? खुफिया एजेंसियों ने दी चेतावनी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.