स्कूल खुलने के साथ ही शुरू हुई अभिभावकों की मुश्किल

कोरोना संक्रमण से सुरक्षा बनी चुनौती ....

By: Ajeet shukla

Published: 17 Mar 2021, 10:13 PM IST

सिंगरौली. सीबीएसइ बोर्ड के ज्यादातर निजी स्कूलों में नया अकादमिक सत्र शुरू हो गया है। उन छात्र-छात्राओं की कक्षाएं शुरू कर दी गई हैं, जो कक्षा नवीं व 11 वीं को उत्तीर्ण कर हाईस्कूल व हायर सेकंडरी में पहुंच गए हैं। इसके साथ ही अभिभावकों की समस्याएं भी शुरू हो गई हैं। वजह बन रही है कोरोना संक्रमण को लेकर असुरक्षा।

कोरोना संक्रमित मरीजों की बढ़ती संख्या के बीच स्कूलों का खुलना अभिभावकों के लिए चिंता व परेशानी का सबब बना है। अभिभावकों ने जैसे-तैसे बच्चों की परीक्षाएं तो दिला दी, लेकिन अब नियमित रूप में बच्चे स्कूल की कक्षा में शामिल हो सके। इसके लिए व्यवस्था नहीं बना पा रहे हैं। शायद यही वजह है कि कक्षाओं में छात्र-छात्राओं की उपस्थिति अभी आधे से भी कम है।

उपलब्ध नहीं हो पा रहे स्कूल वाहन
स्कूल खुलने के बाद अभिभावकों के लिए सबसे बड़ी समस्या स्कूल पहुंचने की है। ज्यादातर सीबीएसइ स्कूलों के ३० फीसदी से अधिक छात्र-छात्राएं बस व वैन जैसे वाहनों से स्कूल जाते रहे हैं। इस समय स्कूल वाहन उपलब्ध नहीं हो पा रहे हैं। वजह यह है कि निर्धारित शर्तों के अनुरूप वाहन मालिक स्कूल बस चलाने को तैयार नहीं है। दलील है कि बस में सोशल डिस्टेंसिंग की व्यवस्था बनाए रखने की स्थिति में उन्हें बस के ईधन का खर्च निकाल पाना भी मुमकिन नहीं होगा।

चिंता की यह भी वजह
- कक्षाओं में सोशल डिस्टेंसिंग की व्यवस्था का बन पाना मुमकिन नहीं।
- सोशल डिस्टेंसिंग व मास्क को लेकर लोगों में सतर्कता का अभाव।
- स्कूलों में सभी छात्र-छात्राओं के लिए सुरक्षा की व्यवस्था नहीं हो पाना।
- कोरोना वायरस से मरीजों के संक्रमित होने का सिलसिला जारी है।
- सामान्य लोगों के लिए कोरोना के टीका की व्यवस्था नहीं हो पाना है।

वर्जन -
समझ में नहीं आ रहा है कि क्या करें। बच्चों को स्कूल भेजना भी जरूरी है और कोरोना से सुरक्षा भी। सुरक्षा को लेकर बच्चे उतना सतर्क नहीं रह पाते। परीक्षा तक तो ठीक था, लेकिन अब कक्षा लेना खतरे से कम नहीं।
रूपेश पाण्डेय, अभिभावक।

बच्चों को स्कूल भेजने के लिए ऐसी बस या वैन नहीं मिल रही है, जो सोशल डिस्टेंसिंग की व्यवस्था बनाते हुए उन्हें स्कूल ले जाए। परीक्षाएं तो जैसे-तैसे दिला दिया गया। अब नियमित कक्षा में भेजना मुमकिन नहीं हो पा रहा है।
अभिषेक सोनी, अभिभावक।

Ajeet shukla Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned