प्रतिबंधित मार्ग से कोल परिवहन करते ट्रेलर वाहन जब्त, जानिए कैसे हुई कार्रवाई

प्रतिबंधित मार्ग से कोल परिवहन करते ट्रेलर वाहन जब्त, जानिए कैसे हुई कार्रवाई
SDM's action on transport of coal trailer vehicles

Amit Pandey | Publish: May, 26 2019 09:44:01 PM (IST) Singrauli, Singrauli, Madhya Pradesh, India

चंद दिन भी नहीं हो सका पालन......

सिंगरौली. कोल वाहनों को शहर से होकर निकलने पर कलेक्टर ने पूरी तरह से प्रतिबंधित लगा दिया है। इसके बावजूद कोल वाहन शहर की सडक़ों पर फर्राटा भर रहे हैं। निर्देश को नजर अंदाज कर प्रतिबंधित रूट से कोल परिवहन की सूचना मिली शनिवार की देर रात एसडीएम ने मौके पर पहुंचकर बड़ी कार्रवाई कर दी।कार्रवाई के तहत जब एसडीएम की ओर से करीब एक दर्जन हैवी वाहनों को यातायात थाने में खड़ी कराया तो पुलिस महकमे से लेकर ट्रांसपोर्टरों में हडक़ंप मच गया।

एसडीएम की पूछताछ में पता चला कि पुलिस अधिकारियों की मिलीभगत से कोल वाहनों को शहर से जाने के लिए छूट दी गई है। बता दें कि माजन मोड़ से हर रोज भारी संख्या में कोयले से लदे भारी वाहन गुजरते हैं, लेकिन मोड़ में ही स्थित यातायात थाने की पुलिस कार्रवाईकरने की जहमत नहीं उठाती है। वहां चंद कदम की दूरी पर ही पुलिस के आला अधिकारियों के भी कार्यालय हैं, लेकिन इन सबके बावजूद देर शाम से ही कोयला लदे वाहनों के गुजरने का सिलसिला शुरू हो जाता है।

गौरतलब है कि अभी इसी सप्ताह कलेक्टर ने शहर मार्गों से कोल परिवहन पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगाने और पूर्व निर्धारित मार्ग से कोल परिवहन का निर्देश दिया है। इसके बावजूद पुलिस की शह पर ट्रांसपोर्टरों की मनमानी जारी है। इससे पहले ही कई बार शहर के मार्गों से कोल परिवहन का प्रतिबंधित किया गया है। लेकिन नतीजा सिफर रहा है। पहले की तरह फिर से ट्रांसपोर्टरों को खुली छूट दे दी गई है।ट्रांसपोर्टरों की मनमानी पुलिस अधिकारियों की चुप्पी का नतीजा होता है। अधिकारियों की चुप्पी मिली भगत का परिणाम बताया जा रहा है।

कभी प्रतिबंधित तो कभी छूट
जानकारी के लिए बताते चलें कि शहरी क्षेत्र में कोल वाहनों को कभी प्रतिबंधित कर दिया जाता है। तो कभी छूट दे दी जाती है। ऐसी स्थिति में ट्रांसपोर्टर जिला प्रशासन के आदेश को मानने के लिए तैयार नहीं रहते। वहीं पुलिस को पूरा संरक्षण मिला रहता है, कहीं कोई दिक्कत आए तो ट्रेलर वाहनों को छोडऩे के लिए पुलिस अधिकारियों की ओर से सिफारिश की जाती है।

यह है निर्धारित रूट:
अमलोरी, निगाही, जयंत, दुद्धीचुआ, खडिय़ा, झिंगुरदाह से कोयला लेकर मोरवा होते हुए गोरबी से बरगवां पहुंचेंगे। इसके बाद बरगवां से तेलदह, नौगई होकर परसौना होते हुए खुटार, रजमिलान से एस्सार पॉवर जाएंगे। यह रूट जिला प्रशासन की ओर से जारी किया गया है लेकिन इस रूट का पालन नहीं हो रहा है। बल्कि पुलिस अधिकारी व ट्रांसपोर्टरों की सांठगांठ से मनमानी रूट से कोल पविहन करने में कोर्ई कसर नहीं छोड़ा जा रहा है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned