सिंगरौली पर प्रकृति मेहरबान, इस मामले में टूटा पिछले साल रिकार्ड

- जहर उगलती फैक्ट्रियों पर लगे अंकुश तो और मनोरम हो जाय यहां का नजारा

By: Ajay Chaturvedi

Published: 10 Sep 2020, 05:25 PM IST

सिंगरौली. इसे ईश्वर का वरदान कहें या प्राकृतिक संतुलन का परिणाम, पर है सुखद। तमाम विरोधाभाष के विगत दो साल से सिंगरौली जिला अपने प्राकृतिक सौंदर्य को कायम रखने में कामयाब है। ये प्राकृतिक सौंदर्य ही है फैक्ट्रियों से निकलने वाले रासायनिक कचरों और जहरीली गैसों के बाद भी अभी तक बहुत कुछ अक्षुण्ण है। जरूरत इस प्राकृतिक विरासत को संजोने की है। यह तभी संभव है जब हर कोई समान रूप से अपना योगदान करे।

ये प्राकृतिक संतुलन का ही परिणाम है कि वर्षा के लिहाज से रीवा मंडल में सिंगरौली लगातार अव्वल आ रहा है। विंध्य क्षेत्र का यह इलाका जहां पहाड़ियों से घिरा है तो वनस्पतियां भी प्रचुर मात्रा में हैं। जंगल भी पर्याप्त हैं। मौसम विज्ञानियों की मानें तो ये प्राकृतिक संतुलन ही है जो इस जिले को अन्य जिलों से अलग करता है।

वैसे खदान, फैक्ट्री की भी सिंगरौली में कमी नहीं है। कुछ तो ऐसी फैक्ट्रियां हैं जो लगातार वायु प्रदूषण फैला रही हैं। एनजीटी के दिशा निर्देशों का लगातार उल्लंघन किया जा रहा है। एनजीटी के मानकों को दरकिनार कर केमिकल वेस्ट खुले में फेका जा रहा है। रासायनिक काले धुंओं से लोगो के स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है।

बारिश का मौसम और आकाश में चमकती बिजली

बावजूद इसके इतना भी कम नहीं कि जिले में मानसून लगातार सक्रिय रहते हुए यहां के निवासियों को सुकून भरा जीवन दे रहा है। मौसम विज्ञानियों की मानें तो बारिश के लिए प्रकृति का संतुलन अहम होता है। ऐसे में यह माना जा रहा है कि बारिश को लेकर सिंगरौली जिले का प्रकृतिक संतुलन बेहतर है जिसके चलते हर साल अच्छी बारिश हो रही है।

मौसम विभाग के आंकड़ों पर नजर डालें तो इस वर्ष अब तक सिंगरौली में सबसे ज्यादा 924 मिमी वर्ष हुई। वैसे आंकड़े बताते हैं कि गत वर्ष भी सिंगरौली ही रीवा मंडल में वर्षा के मामले में सिरमौर रहा। जिले में गत वर्ष 852.8 मिमी वर्षा दर्ज की गई थी। इस तरह साल भर का ही अंतर निकालें तो 71.5 मिमी अधिक वर्षा हुई है वर्तमान मानसून सत्र में।

इस संबंध में भू-अभिलेख उपायुक्त केपी पांडेय बताते हैं कि एक जून से अब तक रीवा में 817.2 मिमी, सतना में 703.4 मिमी, सीधी में 803.2 मिमी और सिंगरौली में 924.3 मिमी औसत वर्षा दर्ज की गई है।

गतवर्ष इसी अवधि में संभाग में 765.2 मिमी वर्षा दर्ज की गई थी जिसमें रीवा में 750.2 मिमी, सतना में 740.9 मिमी, सीधी में 716.9 मिमी तथा सिंगरौली जिले में 852.8 मिमी वर्षा रिकार्ड की गई थी।

Show More
Ajay Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned