औचक निरीक्षण में निकले कलेक्टर, आवास में चस्पा नहीं मिला होम क्वारंटीन का पोस्टर ...

फिर तो गजब हो गया

By: Ajeet shukla

Published: 14 Jun 2020, 11:09 PM IST

सिंगरौली. बाहर से आए व्यक्ति के आवास में होम क्वारंटीन का पोस्टर चस्पा नहीं मिला तो कलेक्टर नाराज हो गए। उन्होंने तत्काल संबंधित कर्मचारियों को कारण बताओ नोटिस जारी करने का निर्देश दे दिया। रविवार को कलेक्टर राजीव रंजन मीणा व्यवस्था जानने जिले के भ्रमण में निकले। सबसे पहले उन्होंने मटवई जयंत में बनाए गए चेकपोस्ट का औचक निरीक्षण किया।

कलेक्टर ने निरीक्षण के दौरान संबंधित अधिकारियों और कर्मचारियों को पूरी तरह से सक्रिय रहने और बाहर से आने वालों की सख्त निगरानी का निर्देश दिया। चेकपोस्ट पर बैनर नहीं लगा मिला। साथ ही कुछ कर्मचारी बिना मास्क के उपस्थित मिले। चेकपोस्ट में सेनेटाइजर भी उपलब्ध नहीं था।

इस पर नाराजगी जाहिर करते हुए कलेक्टर ने तत्काल सभी व्यवस्था को पूर्ण करने का निर्देश दिया। उन्होंने चेकपोस्ट पर तैनात कर्मचारियों को समझाइस दिया कि हर समय मास्क लगाए रखे और अपने हाथों को भी समय-समय पर सेनेटाइज करते रहे। भ्रमण के दौरान सहायक कलेक्टर संघप्रिय सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।

कलेक्टर ने भ्रमण के दौरान मुड़वानी डैम के सौदर्यीकरण के कार्यों का अवलोकन किया और समय पर कार्य पूरा करने का निर्देश दिया। साथ ही बैगा बस्ती में पहुंचकर वहां बैगा समाज के लोगों से रूबरू हुए और उनकी समस्या सुनी। संबंधित अधिकारियों को सभी समस्याओं का समाधान करने का निर्देश दिया।

होम क्वारंटीन व्यक्तियों का जाना हाल
कलेक्टर जयंत प्रोजेक्ट के आवासीय कालोनी में बाहर से आए कर्मचारियों के परिजनों से बात की। उनके आवासों पर पहुंचकर उनका हाल जाना। वहीं क्वारंटीन किए गए कर्मचारियों से कलेक्टर को मालूम हुआ कि उन्हें पारिश्रमिक का भुगतान नहीं हुआ है।

कलेक्टर ने संबंधित प्रबंधकों को निर्देश दिया कि कार्यरत कर्मचारियों को पारिश्रमिक का भुगतान किया जाए। निरीक्षण में उन्हें एक आवास में क्वारंटीन का पोस्टर चस्पा नहीं मिला, जिसे लापरवाही करार देते हुए कलेक्टर ने संबंधित कर्मचारियों को कारण बताओ नोटिस जारी करने का निर्देश दिया।

टेस्ंिटग लैब सहित कोविड सेटरों का निरीक्षण
कलेक्टर ने जयंत भ्रमण के बाद जिला मुख्यालय स्थित पुराने चिकित्सालय में कोरोना संक्रमण की जांच मशीन ट्रूनॉट का अवलोकन किया और लैब में उपस्थित कर्मचारियों से टेस्टिंग के संबंध में जानकारी ली। इसके बाद वह ट्रामा सेंटर गए। वहां भर्ती मरीजों के संबंध में जानकारी ली और आवश्यक निर्देश दिया।

Ajeet shukla Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned