बिना लाइसेंस बीज की बिक्री, सीज कर दी गई दो दुकान

थोक विक्रेताओं पर नजर नहीं .....

By: Ajeet shukla

Published: 27 Jun 2021, 12:31 AM IST

सिंगरौली. खरीफ सीजन में कृषि विभाग ने शनिवार को दूसरी कार्रवाई की। देवसर विकासखंड क्षेत्र में किए गए औचक निरीक्षण में दो दुकानों को बिना लाइसेंस संचालित पाया गया। इन दुकानों को सीज करने की कार्रवाई की गई। दुकानों में अमानक बीज व मनमानी कीमत लिए जाने का मामला भी जांच में पाया गया है।

बीज विक्रेताओं द्वारा किसानों से बीज की मनमानी कीमत वसूल किए जाने और अमानक बीज की बिक्री होने से संबंधित पत्रिका में खबरों के प्रकाशन के बाद कृषि विभाग हरकत में आया। खबरों को संज्ञान में लेते हुए कलेक्टर राजीव रंजन मीना ने कृषि विभाग के उप संचालक को अभियान चलाकर कार्रवाई करने का निर्देश दिया।

निर्देश के बाद सक्रिय हुए कृषि अमले में शनिवार को दूसरी बार कार्रवाई की। इससे पहले बैढऩ मुख्यालय में स्थित बाजार में जांच कर एक दुकान को सील करते हुए दो को नोटिस जारी किया गया था। शनिवार को हुई कार्रवाई के संबंध में उप संचालक आशीष पाण्डेय ने बताया कि देवसर में आर्यन बीज भंडार व बेटहाडांड़ में आशा बीज भंडार को सीज किया गया है। यह दोनो दुकान बिना लाइसेंस के बीज की बिक्री कर रहे थे।

कृषि अमले द्वारा शुरू की गई जांच की कार्रवाई में शानिवार को छह दुकानों में पड़ताल की गई। पड़ताल के दौरान दो दुकानों को सीज किया गया। दुकानों में अमानक बीज बेचने व मनमानी कीमत लिए जाने का मामला भी बताया गया है। दूसरी दुकानों में भी बीज की बोरी में अधिक कीमत का टैग लगाकर मनमानी कीमत वसूल किए जाने का मामला प्रकाश में आया है।

थोक विक्रेताओं पर नजर नहीं
कलेक्टर के निर्देश के बाद कृषि अमले की यह कार्रवाई तो ठीक है, लेकिन अधिकारियों की बीज के उन थोक विक्रेताओं पर नजर नहीं जा रही है जो जिला मुख्यालय के नजदीक संचालित हो रही है। दरअसल शहर से लेकर ग्रामीण अंचल तक के बीज विक्रेताओं को दूसरे राज्यों में नए ब्रांडों व स्थानीय स्तर पर पैक किए गए अमानक बीज इन्हीं थोक विक्रेताओं के जरिए पहुंच रहा है। ऐसे में इन पर कार्रवाई जरूरी है।

बीज उत्पादक एजेंसियां भी हैं सक्रिय
जिले में बीज की बिक्री अधिक हो। इस उद्देश्य से कई बीज उत्पादक एजेंसियों व ब्रांड के एजेंट भी सक्रिय है। उनकी ओर से थोक्र विक्रेताओं को मैनेज करने के साथ ही फुटकर विक्रेताओं से भी संपर्क किया जा रहा है। इतना ही नहीं एजेंसियों के एजेंट कृषि विभाग के अमले के भी संपर्क में हैं। इन एजेंसियोंं के कई एजेंट थोक विक्रेता ही हैं, जो किसानों में लूटने में मददगार का काम कर रहे हैं।

वर्जन -
अभियान चलाकर कई दुकानों की जांच की गई है। दो दुकानों को सीज भी किया गया है। अभी आगे भी यह कार्रवाई जारी रहेगी।
आशीष पाण्डेय, उप संचालक कृषि विभाग सिंगरौली।

Ajeet shukla Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned