मतदान में कर सकते हैं चैलेंज, लेकिन गलत साबित हुए तो खानी होगी जेल की हवा, जानिए क्या है प्रक्रिया

मतदान में कर सकते हैं चैलेंज, लेकिन गलत साबित हुए तो खानी होगी जेल की हवा, जानिए क्या है प्रक्रिया

Ajit Shukla | Publish: Apr, 22 2019 12:14:53 PM (IST) | Updated: Apr, 22 2019 12:14:54 PM (IST) Singrauli, Singrauli, Madhya Pradesh, India

चुनाव प्रक्रिया से संबंधित जानकारी....

सिंगरौली. लोकसभा चुनाव के तहत 29 अप्रेल को पडऩे वाले मतदान के मद्देनजर जिला निर्वाचन कार्यालय की ओर से इवीएम से जुड़ी कुछ तकनीकी व प्रक्रिया सार्वजनिक की गई है। बताया गया है कि इवीएम में तीन भाग होते हैं। पहला भाग कंट्रोल यूनिट, दूसरा भाग बैलेट यूनिट और तीसरा भाग वीवीपैट का होता है।

चुनाव के दिन वोट डालने वालों को अपने वोट की पर्ची वीवीपैट में दिखाई देगी। जिस पर वही नाम और चुनाव चिह्न होगा जिसे वोट दिया गया है। यदि उस प्रत्याशी को वोट नहीं गया है तो मतदाता चैलेंज वोट डाल सकता है लेकिन यदि चैलेंज गलत पाया गया तो वोटर को 6 माह की जेल और एक हजार रुपए का जुर्माना हो सकता है।

वोटिंग मशीन की खास बात यह है कि यह केवल एक बार ही प्रोग्राम की जा सकती है। यह सेल्फ चेकिंग मशीन है जो हर बार शुरू करते ही अपने सभी हिस्से खुद चेक करती है। चेकिंग करते समय सात खाली पर्ची निकालती है। इस मशीन में थर्मल प्रिंटर लगा हुआ है।

यह मशीन चुनाव के शुरू और खत्म होने का समय बताती है। इस मशीन से जुड़ा टाईमर 10 साल तक चलता रहता है। वीवीपैट में 7 सेकेंड तक पर्ची दिखाई देती है। मशीन से कोई भी बाहरी उपकरण नहीं जोड़ा जा सकता है। यह मशीन केवल इसके लिए बनाए गए उपकरणों को ही पढ़ेगी। इवीएम मशीन की यह जानकारी पार्टी प्रतिनिधियों को भी दी गई है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned