बिजली की चोरी पकडऩे शुरू हुई गांवों की घेराबंदी, एमपीइबी अधिकारियों ने उतारी कुल तीन टीम

कृषि पंप जांच की रही प्राथमिकता.....

सिंगरौली. ग्रामीण क्षेत्र में बिजली चोरी की दर बढऩे व कृषि कार्य में अनधिकृत रूप से बिजली का उपयोग होने की आशंका को जांचने के लिए बिजली कंपनी ने अब गांवों की घेराबंदी की है। इसके तहत सोमवार को बिजली चोरी पकडऩे के लिए ग्रामीण क्षेत्र में तीन टीम को उतारा गया। इन टीमों ने पहले दिन एक ही वितरण केन्द्र के अधीन क्षेत्र में लगभग 70 जगह कृषि पंप मेंं बिजली उपयोग की जांच की। छापामारी की इस कार्रवाई से रजमिलान वितरण केन्द्र के अधीन ग्रामीण क्षेत्र में सोमवार को हलचल रही।

बिजली कंपनी के अधिकारी सूत्रों के अनुसार बिजली चोरी पर अंकुश लगाने के लिए सोमवार सुबह नौ बजे से ग्रामीण क्षेत्र के रजमिलान वितरण केन्द्र के अधीन क्षेत्र में तीन टीमों को तैनात किया गया। इनमेंं से एक-एक टीम का नेतृत्व ग्रामीण कार्यपालन यंत्री ज्ञानेंद्र सिंह व शहर कार्यपालन यंत्री एएस बघेल ने किया। तीसरी टीम का नेतृत्व शहरी क्षेत्र के सहायक अभियंता व अन्य ने किया। तीनों टीमों ने दिन भर रजमिलान सहित इस वितरण केन्द्र के अधीन खुटार, रंपा व अन्य गांवों में कृषि पंपों की जांच की। बताया गया कि इस दौरान लगभग 30 जगह घरेलू कनेक्शन की बिजली का कृषि पंप में उपयोग होना सामने आया। इस पर टीमों की ओर से संंबंधित किसानों को कृषि कनेक्शन लेने के लिए समझाईश की और दूसरी बार ऐसा मामला पकड़े जाने पर कानूनी कार्रवाई की चेतावनी देकर छोड़ा गया।

बिजली अधिकारियों ने बताया कि गुरुवार को भी रजमिलान वितरण केन्द्र के अधीन क्षेत्र में जांच की जाएगी। इसके बाद ग्रामीण क्षेत्र में ही दूसरे वितरण केन्द्र क्षेत्र में दो दिन जांच होगी। इसके बाद एक-एक कर सभी वितरण केन्द्रों के क्षेत्र में कृषि कार्य में बिजली के उपयोग की जांच होगी। बताया गया कि ग्रामीण क्षेत्र में कृषि पंपों पर बिजली चोरी रोकने के लिए इसके उपयोग का यह अभियान पूरे माह तक चलाया जाएगा। इस दौरान हर वितरण केन्द्र के अधीन क्षेत्र में दो-दो बार जांच किया जाना तय किया गया है। अधिकारी सूत्रों की ओर से कहा गया है कि दूसरी बार जांच में कृषि पंप पर बिजली चोरी पकड़े जाने पर संबंधित सभी लोगों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी।

दो दिनों में 100 से अधिक छापा कार्रवाई
उल्लेखनीय है कि इसी तरह शहरी क्षेत्र में भी सोमवार व मंगलवार को दो दिन कृषि व घरेलू कनेक्शन की जांच कर बिजली चोरी पकडऩे का अभियान चलाया गया। इसमें दो दिन में सौ से अधिक जगह छापा मारा गया तथा इस दौरान कृषि व अन्य कार्य में चोरी से बिजली का उपयोग किए जाने के 29 मामले पकड़े गए। इसके तहत ही गांवों में बिजली चोरी रोकने व इसमें लिप्त लोगों को चिन्हित करने को बुधवार से अभियान चलाया गया है। बिजली अधिकारियों को आशंका है कि इस समय कृषि कार्य में बड़ी संख्या में बिजली का दुरूपयोग व चोरी हो रही है। छापामार अभियान से इसमें कमी आने का अनुमान लगाया गया है।

Amit Pandey
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned