सांसों पर मुसीबत बनी दूषित हवा : कचरा प्लांट की बदबू बनी मुसीबत, निस्तारण व्यवस्था विफल

समस्या से त्रस्त जनता मगर राहत से दूर....

सिंगरौली. शहर की लगभग दो लाख से अधिक की आबादी व 45 वार्डों में फैला लंबा-चौड़ा भौगोलिक क्षेत्र हर रोज बहुत बड़ी मात्रा में कचरा उगल रहा है मगर इस कचरे के निष्पादन के लिए जिम्मेदार लोग विफल साबित रहे हैं। इसका नतीजा है कि शहर के सभी वार्डों से कचरा उठाव तो होता है मगर इसके बाद उसके निपटारे का सवाल उतना ही बड़ा हो गया जितना गनियारी स्थित नगर निगम के प्लांट में कचरे का पहाड़। शहर के गनियारी स्थित प्लांट में रोज शहर से निकलने वाले कचरे का संग्रहण हो रहा है मगर इसका निस्तारण नहीं हो रहा। नतीजतन वहां कचरे व गंदगी के पहाड़ खड़े हो रहे हैं। इस कचरे व गंदगी से उठने वाली बदबू आसपास के लोगों की सांसों पर भारी पड़ रही है। यह हालत गनियारी में कचरा प्लांट के आसपास क्षेत्र व वहां के नागरिकों को डरा रही है।

बताया गया कि नगर निगम के स्तर पर समूचे शहर से कचरा संग्रह कर उसके निस्तारण के लिए गनियारी स्थित कचरा प्लांट में डंप किया जाता है। अनुमान है कि वहां रोज 60-70 टन कचरा व शहर की गंदगी डंप हो रही है। यह प्रक्रिया तीन वर्ष से चल रही है मगर शिकायत है कि वहां डंप हो रहे कचरे का निस्तारण नहीं हो रहा। इस कारण दिनों-दिन कचरे की मात्रा बढ़ रही है। इसके चलते कचरे व गंदगी से बदबू उठ रही है। कचरा प्लांट में और आसपास हर समय बड़ी संख्या में मक्खी व मच्छर उड़ते रहते हैं। इसी बदबू व दूषित हवा और उसमें पनप रहे मक्खी-मच्छरों से आसपास के लोग मुसीबत में हैं। वहां काफी लोगों ने अपना आशियाना बना लिया। इसलिए वे अब सब कुछ सहने पर विवश हैं और कहीं दूसरी जगह जाकर बस जाने की हालत में भी नहीं। अनुमान है कि आसपास की पांच हजार से अधिक की आबादी इस मुसीबत को ढो रही है।

बताया गया कि तत्कालीन समय में वहां डंप होने वाले कचरे से खाद बनाने की योजना तय की गई। मगर शिकायत है कि वहां कचरे के निष्पादन के नाम पर केवल दिखावा होता है तथा कचरे से खाद बनाने का काम कभी-कभार दिखावे के तौर पर होता है व शेष समय में यह प्रक्रिया ठप रहती है। इसलिए प्लांट में संग्रह होने वाले कचरे की मात्रा रोज बढ़ रही है। इसके चलते कचरा प्लांट व उससे उठने वाली बदबू आसपास के लोगों पर कहर ढा रही है। बताया गया कि समस्या से राहत के लिए संबंधित नागरिकों ने कई बार नगर निगम अधिकारियों के यहां फरियाद की मगर कोई लाभ नहीं हुआ।

Amit Pandey
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned