बिल नहीं चुकाने वालों पर चाबुक, कनेक्शन काटने में आई तेजी, बकाया वसूलने दवाब में बिजली अमला

बिजली अधिकारियों के लिए चुनौती....

By: Amit Pandey

Updated: 03 Dec 2019, 02:06 PM IST

सिंगरौली. बिजली उपभोग के बकाया साढ़े तीन करोड़ रुपए से अधिक की वसूली बिजली अधिकारियों व कर्मचारियों के लिए चुनौती के साथ-साथ दवाब का कारण भी बन गई। शहरी क्षेत्र में यह राशि वसूलने के लिए नवंबर माह में बिजली अमले ने बकाया वाले उपभोक्ताओं का कनेक्शन काटने का अभियान चलाया मगर मात्र लगभग डेढ़ लाख रुपए ही जुटाए जा सके। नतीजे में बकाया राशि में से कम जुटा पाने के कारण स्थानीय अधिकारियों को मुख्यालय की नाराजगी का डर सता रहा है। इसके चलते शहरी क्षेत्र के बिजली अधिकारी व कर्मचारी इसे लेकर बेहद दवाब में हैं। इस हालत मंें बिजली कंपनी मुख्यालय की नाराजगी से बचने के लिए इस माह कनेक्शन काटने की कार्रवाई को तेज करने का रास्ता निकाला गया है। इसके तहत बैढऩ व मोरवा जोन में रोज लगभग ५० कनेक्शन काटा जाना तय किया गया है।

अहम तथ्य है कि शहरी क्षेत्र में लगभग 29 हजार घरेलू उपभोक्ताओंं में से काफी संख्या एेसी है जो उपभोग के बाद अपना बिजली बिल जमा नहीं कर रहे हैं। इसके नतीजे में चार माह की बकाया राशि साढ़े तीन करोड़ का आंकड़ा पार कर गई है। बिल की इतनी बड़ी राशि बकाया होने को लेकर मध्यप्रदेश पूर्व क्षेत्र बिजली कंपनी का जबलपुर मुख्यालय नवंबर माह में ही नाराजगी जता चुका है। दिसंबर माह में भी बकाया की इस राशि में कोई ज्यादा कमी नहीं हो पाई। इसलिए यहां पदस्थ बिजली अधिकारियों व फील्ड कर्मियों पर मुख्यालय की नाराजगी का डर सता रहा है। हालांकि नवंबर में पूरे माह मोरवा व बैढऩ जोन में सुबह के समय कार्रवाई करते हुए 12 सौ से अधिक बकाया वाले उपभोक्ताओं के कनेक्शन काटे गए तथा कनेक्शन कटने से बचाव में संबंधित लोगों से डेढ़ लाख रुपए वसूले गए थे। इसके बाद भी ज्यादा लाभ नहीं मिल सका।

10 लाख रुपए से अधिक की हो सकेगी वसूली
बिजली अधिकारियों की ओर से बताया गया कि बकाया में से अधिकाधिक राशि वसूली के लिए इस माह कनेक्शन काटो अभियान को तेज किया जाएगा। इसके तहत मोरवा व बैढऩ जोन में शाम को भी बकायादारों का कनेक्शन काटा जाएगा। अब तक मानवीय दृष्टिकोण अपनाते हुए शाम को कनेक्शन काटने को टाला गया था मगर अब शाम को भी कनेक्शन काटे जाएंगे। बताया गया कि अब तक इसके लिए पांच हजार या उससे अधिक बकाया राशि वाले टारगेट पर थे मगर अब दो हजार या उससे अधिक बकाया वालों को भी इस कार्रवाई में शामिल किया जाएगा। अधिकारियों का अनुमान है कि इस प्रकार तेजी से कार्रवाई कर चालू माह में 10 लाख या उससे अधिक बकाया राशि की वसूली हो सकेगी। बताया गया कि संसाधनों की कमी के कारण ग्रामीण क्षेत्र में बकाया वसलूी के लिए एेसी कठोर कार्रवाई अभी नहीं हो पा रही। हालांकि ग्रामीण उपभोक्ताओं पर भी बिल की बड़ी रकम बाकी होना बताया गया है।

Amit Pandey
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned