माड़ा में वनकर्मी की मौत का मामला : मृतक की सुरक्षित बाइक सहित घटना से जुड़े तथ्य से उठ रहे सवाल

खाकी का इकबाल बचाने उतरा महकमा, परिजनों की मांग पर शुरू हुर्ई जांच....

By: Amit Pandey

Published: 01 Mar 2021, 08:55 PM IST

सिंगरौली. बीच सड़क पर वनकर्र्मी की लाश व सड़क किनारे मृतक की सुरक्षित बाइक घटना से जुड़े तथ्य पर सवालिया निशाल खड़े कर रहे हैं। बाड़ी झरिया में ड्यूटी स्थल पर मृतक के परिजनों ने लाठी-डंडा बरामद किया है। जिसमें खून के धब्बे लगे हैं। इधर, वनकर्मी की लाश ड्यूटी स्थल से करीब 4 किमी दूर रौंदी मुख्य मार्ग पर मिला है। जहां मृतक वनकर्मी की बाइक सड़क किनारे हैंडल लॉक कर सुरक्षित खड़ा किया गया था। इस मौत के मामले को माड़ा पुलिस दुर्घटना मान रही है। इधर, आला अधिकारी खाकी का इकबाल बचाने के लिए पूरी कोशिश में जुटे हैं।

जबकि मृतक के परिजन इस मौत की जांच हत्या के एंगल से कराए जाने के लिए पुलिस अधिकारियों से मांग कर रहे हैं। परिजनों के मुताबिक वनकर्र्मी कमलेश पनिका स्थानीय खनिज कारोबारियों के कारोबार में दखल दे रहा था क्योंकि थाना क्षेत्र में कारोबारी अवैध खनन के कारोबार को अंजाम दे रहे थे। इस बीच बीते मंगलवार की देर रात बाड़ी झरिया मेंं वनकर्मी कमलेश पनिका ड्यूटी पर तैनात था। लेकिन वनकर्मी का शव मुख्य मार्ग पर मिला है और उसकी बाइक सुरक्षित है। वनकर्मी के मौत को पुलिस सड़क दुर्घटना बताकर मामले को खत्म कर रही है।

हत्या या दुर्घटना पर शुरू हुई जांच
एक तरफ परिजन स्पष्ट शब्दों में कह रहे हैं कि वनकर्मी की हत्या हुई है। वहीं दूसरी ओर पुलिस सड़क दुर्घटना बताकर मामले को दबाने की कोशिश में जुटी थी। लेकिन परिजनों की मांग पर पुलिस अधिकारियों ने वनकर्मी के मौत के मामले में बारीकी से जांच कराए जाने का आश्वासन दिया है। वनकर्मी के परिजनों की उम्मीदें पुलिस अधिकारियों पर टिकीं हैं क्योंकि माड़ा पुलिस मौत के इस मामले को दुर्घटना करार दे दिया है।

वर्जन:
वनकर्मी के मौत के मामले में पुलिस कई बिंदुओं पर जांच कर रही है। जांच में जो तथ्य खुलकर सामने आएगा। उसके आधार पर पुलिस आगे की कार्रवाई करेगी।
अनिल सोनकर, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक।

Amit Pandey
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned