रिलायंस सासन पॉवर ऐश डाइक की राख बनी मुसीबत,सांस तक नहीं ले पा रहे लोग, पलायन को विवश

-डाइक फूटे बीत गया एक महीना, सो रहा प्रशासन

By: Ajay Chaturvedi

Published: 10 May 2020, 05:21 PM IST

सिंगरौली. कोरोना वायरस के संक्रमण से बचें या रिलायंस सासन पॉवर ऐश डाइक की राख से। एक तरफ खाई तो दूसरी तरफ कुआं। लेकिन प्रशासन को इसकी तनिक भी परवाह नहीं। आलम ये है कि इस सासन पॉवर की ऐश डाइक को फूटे महीने भर से ज्यादा होने जा रहे हैं पर अब तक उसकी राख को नहीं हटाया जा सका है। वह राख अब आस-पास रहने वालों के जीवन के लिए काल बनती जा रही है। ऐसे में गांव के ज्यादातर लोगों ने पलायन का मन बना लिया है।

बता दें कि रिलायंस सासन पॉवर के ऐश डाइक को फूटे महीना भर से ज्यादा हो गया है। उस घटना को याद कर गांव वाले ह नहीं सामान्य जन के भी रोंगटे खड़े हो जा रहे हैं जिसमें तीन नाबालिग सहित 6 लोगों की मौत हो गई थी। मामला कोर्ट में विचाराधीन है। ऐसे में अब तक तो जैसे-तैसे कट गया। लेकिन अब आलम यह है कि हल्की सी भी हवा चलती है तो लोगों का जीना मुश्किल हो जाता है। वो सांस तक नहीं ले पा रहे।

सिद्धिखुर्द गांव निवासी पवन शाह ने कहा, रिलायंस सासन पॉवर के हर्वहवा स्थित प्लाइऐश डाइक के इर्द-गिर्द के गांवों के ज्यादातर ग्रामीणों का हाल ये है कि वो सांस कैसे लें यही नहीं समझ आ रहा। ऐसे में अब तो एक ही चारा है कि गांव छोड़ कर अन्यत्र पनाह ली जाए। ऐसे ही अन्य ग्रामीणों की भी यही सोच है।

दरअसल समस्या की मूल वजह कंपनी की ओरसे राखड़ के मलबे के सफाई में की जा रही लापरवाही के चलते यह दिक्कत है। एक तो मलबे को सही ढंग से हटाया नहीं गया। दूसरी ओर मलबे के डैम के बाहर ही गांव के समीप इकट्ठा किया जा रहा है। ऐसे में जरा सी हवा चलते ही राख उड़ कर बस्ती में पहुंच जाता है। ग्रामीणों ने इसकी शिकायत प्रशासनिक अधिकारियों से की लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ।

Ajay Chaturvedi
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned